Tuesday, January 25, 2022
- Advertisement -
- Advertisement -
HomeINDIA NEWSपढ़िए पूरी अपडेट खबर: किसान बिल पर बढ़ती तकरार, धरने पर बैठे...

पढ़िए पूरी अपडेट खबर: किसान बिल पर बढ़ती तकरार, धरने पर बैठे पंजाब के सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह

- Advertisement -

जनवाणी ब्यूरो |

नई दिल्ली: केंद्र सरकार द्वारा संसद के दोनों सदनों से पारित तीन कृषि विधेयकों पर राष्ट्रपति ने हस्ताक्षर कर दिए हैं। यानी अब ये कानून बन गए हैं। इस कानून को लेकर देशभर में प्रदर्शन जारी है।

सोमवार को भी देश के कई हिस्सों में कानून के खिलाफ प्रदर्शन हो रहा है। पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर विधायक और मंत्रियों के साथ भगत सिंह की जन्मस्थली पर धरने पर बैठ गए हैं।

वहीं राहुल गांधी के पंजाब आकर कानून का विरोध कर रहे किसानों का नेतृत्व करने की उम्मीद है। इसके अलावा केरल के कांग्रेस सांसद ने कानून के खिलाफ सर्वोच्च न्यायालय का रुख किया है।

गांधीनगर में कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने किया प्रदर्शन

गुजरात के गांधीनगर में कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन किया। गुजरात कांग्रेस अध्यक्ष अमित चावड़ा ने बताया, ‘देश में अंग्रेजों के शासन में जैसे ईस्ट इंडिया कंपनी का राज था, वैसे ही इस कानून से आने वाले समय में कंपनी का राज आ जाएगा।’

किसानों के लिए मौत का फरमान है नया कानून: राहुल गांधी

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने कृषि कानून को किसानों के मौत का फरमान बताया है। उन्होंने ट्वीट कर कहा, ‘नया कृषि कानून किसानों के लिए मौत का फरमान है। उनकी आवाज को संसद और संसद के बाहर दबाया जा रहा है। ये सबूत है कि देश में लोकतंत्र मर चुका है।’

प्रदर्शनकारियों ने बनाई मानव श्रृंखला

कर्नाटक में एसडीपीआई, कर्नाटक राज्यसभा संघ, जद(एस), कर्नाटक रक्षा वेदिक और अन्य ने अशोक सर्कल शिवमोग्गा में सरकार के विरोध में मानव श्रृंखला बनाई। कृषि कानून, भूमि सुधार अध्यादेश, कृषि उपज मंडी समिति में संशोधन और श्रम कानूनों के खिलाफ किसान संगठनों ने आज राज्यव्यापी बंद का आह्वान किया है।

कानून के खिलाफ जाएंगे अदालत: एमके स्टालिन

द्रविड़ मुनेत्र कड़घम के अध्यक्ष एमके स्टालिन ने कांचीपुरम के कीझांबी गांव में कृषि कानून के प्रदर्शन में हिस्सा लिया। पार्टी अध्यक्ष ने कहा, ‘हमारा पड़ोसी राज्य, केरल विरोध कर रहा है और संसद में पारित कृषि कानून के खिलाफ अदालत का दरवाजा खटखटाया है। हम अपनी राज्य सरकार से ऐसा ही करने के लिए कहते हैं अन्यथा विपक्षी दल इस पर अदालत का दरवाजा खटखटाएंगे।’

पंजाब जा सकते हैं राहुल गांधी

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी के इस सप्ताह पंजाब में किसानों द्वारा किए जा रहे कृषि कानूनों के विरोध प्रदर्शन का नेतृत्व करने की संभावना है। एक कांग्रेस नेता ने बताया कि राहुल एक रैली को भी संबोधित कर सकते हैं। हालांकि, इसकी तिथि और स्थल को अंतिम रूप दिया जा रहा है। उन्होंने कहा कि पंजाब के बाद वह हरियाणा में प्रदर्शनकारी किसानों के साथ शामिल हो सकते हैं। लेकिन हमें यकीन नहीं है कि हरियाणा में भाजपा सरकार उन्हें राज्य में प्रवेश करने देगी।

धरने पर बैठे अमरिंदर सिंह

कृषि कानून के विरोध में पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टम अमरिंदर सिंह शहीद-ए-आजम भगत सिंह की जयंती पर उनके जन्मस्थान में धरना दे रहे हैं। उनके साथ मंत्री, विधायक और कार्यकर्ता भगत सिंह के गांव खटकर कलां में धरने पर बैठ गए हैं। इसके अलावा कांग्रेस महासचिव और पंजाब के प्रभारी हरीश रावत भी धरने में शामिल हो गए हैं। धरना शुरू करने से पहले मुख्यमंत्री ने भगत सिंह की प्रतिमा को श्रद्धांजलि दी।

जदएस के कार्यकर्ताओं ने निकाली बाइक रैली 

कर्नाटक में जनता दल सेक्युलर (जदएस) के कार्यकर्ताओं ने शिवमोगा में एक बाइक रैली निकाली, उन्हें पुलिस ने लक्ष्मी थिएटर सर्कल पर रोक दिया। कृषि कानून, भूमि सुधार अध्यादेश, कृषि उपज मंडी समिति में संशोधन और श्रम कानूनों के खिलाफ किसान संगठनों ने आज राज्यव्यापी बंद का आह्वान किया है।

कांग्रेस ने दिखाया असली रंग

केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने कहा, ‘आज कांग्रेस ने दिल्ली में अपना असली रंग दिखाया। किसानों के नाम पर कुछ असामाजिक तत्व अराजकता फैलाने की कोशिश कर रहे हैं। यह घटना दुर्भाग्यपूर्ण है। वे किसानों को गुमराह करने की कोशिश कर रहे हैं। इस घटना की निंदा करने के लिए शब्द कम पड़ गए हैं।’

किसान संगठनों ने बंगलूरू में किया प्रदर्शन

कर्नाटक के राज्य रायथा संघ, हसीरू सेने और अन्य संगठनों ने बंगलूरू में सर पुत्तन्ना चेट्टी टाउन हॉल के सामने विरोध प्रदर्शन किया।

ट्रैक्टर जलाने वाले पांच लोग गिरफ्तार

पंजाब के पांच निवासियों को प्रदर्शन और इंडिया गेट के पास ट्रैक्टर जलाने के संबंध में गिरफ्तार किया गया है। उनके खिलाफ कानूनी प्रक्रिया शुरू हो गई है।

दिल्ली से पंजाब तक किसानों का हल्लाबोल

कृषि कानून के खिलाफ देशभर में विरोध प्रदर्शन जारी है। दिल्ली, हरियाणा, पंजाब और पश्चिमी उत्तर प्रदेश जैसे क्षेत्रों में इसका व्यापक असर देखने को मिल रहा है।

राज्यव्यापी बंद के बावजूद बंगलूरू पहुंचे यात्री

कर्नाटक में किसान संगठनों द्वारा बुलाए गए राज्यव्यापी बंद के बावजूद यात्री बंगलूरू के मैजेस्टिक बस स्टेशन पहुंचे। कृषि कानून, भूमि सुधार अध्यादेश, कृषि उपज मंडी समिति में संशोधन और श्रम कानूनों के खिलाफ किसान संगठनों ने आज राज्यव्यापी बंद का आह्वान किया है।

बस रोकने के लिए सड़क पर बैठे प्रदर्शनकारी

कर्नाटक में आज राज्यव्यापी बंद के बीच एक बस को रोकने के लिए हुबली में प्रदर्शनकारी सड़क पर बैठ गए। कृषि कानून, भूमि सुधार अध्यादेश, कृषि उपज मंडी समिति में संशोधन और श्रम कानूनों के खिलाफ किसान संगठनों ने आज राज्यव्यापी बंद का आह्वान किया है।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Leave a Reply

- Advertisment -spot_img
- Advertisment -
- Advertisment -

Most Popular

- Advertisment -
- Advertisment -spot_img
- Advertisment -

Recent Comments