Wednesday, July 24, 2024
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsMeerutसड़कों पर घूम रहे आवारा गोवंश बन रहे गोकश के शिकार

सड़कों पर घूम रहे आवारा गोवंश बन रहे गोकश के शिकार

- Advertisement -
  • पुलिस का दावा कमजोर, ग्रामीण क्षेत्र में धड़ल्ले से हो रही गोकशी

जनवाणी संवाददाता |

मेरठ: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ अपने पहले कार्यकाल में गोसंरक्षण पर जोर देते रहे और दूसरे कार्यकाल में भी उनकी प्राथमिकताओं में से एक गोसंरक्षण है। पशुपालन विभाग और नगर निगम दोनों ही सड़कों पर घूम रहे आवारा गोवंशों को लेकर पूरी तरह से बेखबर है। यही कारण है कि जनपद में गोकशी की घटनाएं लगातार हो रही है।

वहीं, गाय का मांस सस्ता होने के कारण भी गोकशों की चांदी आ गई है। पुलिस का दावा है कि पूरे जनपद में 262 गोकश चिन्हित किये जा चुके हैं और उनके खिलाफ कार्रवाई भी हुई है, लेकिन इसके बाद भी गोकशी के आरोप में ग्रामीण क्षेत्र में लगातार धरपकड़ हो रही है।

थाना परीक्षितगढ़ पुलिस द्वारा मुखबिर की सूचना पर ग्राम खानपुर बांगर से बिना लाइसेंस के अवैध पशुओ का कटान करने वाले हिब्बू उर्फ अफजाल पुत्र नसीमुद्दीन निवासी अगवानपुर थाना परीक्षितगढ़ और इरफान पुत्र इतवारी निवासी ग्राम खानपुर थाना परीक्षितगढ़ को गिरफ्तार किया गया है। एक साथी खुर्शीद पुत्र शाहबुद्दीन निवासी ग्राम खानपुर बांगर थाना परीक्षितगढ़ मौके से भागने में सफल रहा।

cow

इस तरह के आरोपी पशुओं के अवैध कटान में लिप्त थे। पुलिस के लिये गोकशी एक चुनौती के रूप में सामने आ रही है। ग्रामीण क्षेत्र के सरूरपुर, रोहटा, सरधना, मवाना, किठौर, मुंडाली, परीक्षितगढ़ आदि इलाकों में गोकशी रुकने का नाम नहीं ले रही है। दो दिन पहले क्राइम ब्रांच ने रोहटा में आजमपुर के जंगल में तीन गोकशों को गोली मारकर घायल किया था। इस मुठभेड़ के एक दिन पहले गोकशी की घटना से क्षेत्र में तनाव फैल गया था।

जहां तक शहरी क्षेत्र की बात है लिसाड़ीगेट में गोकशी की घटनाएं यदाकदा होती रहती हैं और पुलिस की सेटिंग के कारण कई मामले प्रकाश में नहीं आ पाते हैं। हालांकि अकेले इसी थाना क्षेत्र में गोकशी के मामले में दर्जनों गोकशों के खिलाफ गैंगस्टर लग चुकी है और हिस्ट्रीशीट तक खुल चुकी है। पुलिस को पूछताछ में पता चलता था कि डेयरी चलाने वाले लोग अपनी बूढ़ी गायों और दूध छोड़ चुकी गायों को सड़कों पर भटकने को छोड़ देते हैं।

गोकश रात के अंधेरे में इनको उठाकर ले जाते हैं और कटान कर देते हैं। दरअसल गाय का मीट भैंस के मुकाबले सस्ता पड़ता है और इस कारण भी गोकशी लगातार हो रही है। एसपी देहात केशव कुमार के मुताबिक जनपद में इस वक्त 262 गोकश चिन्हित किये जा चुके हैं और उनका सत्यापन भी पुलिस ने कराया था। अगर कहीं भी गोकशी की घटना सामने आती है तो सख्त कार्रवाई होगी। दो दिन पहले गोकशी का मामला सामने आने पर हर्रा पुलिस चौकी सस्पेंड कर दी गई थी।

अवैध मीट बरामद बरामद, चार गिरफ्तार

मेरठ: लिसाड़ी गेट पुलिस ने एक पशुओं की डेयरी में पशु कटान की सूचना पर ताबड़तोड़ छापेमारी की। पुलिस का छापा पड़ते ही पशु कटान करने वाला एक आरोपी दीवार कूदकर फरार हो गया। पुलिस ने वहां से चार कटान करने वाले आरोपियों को पकड़ लिया। उनके पास से पशुओं का कटान करने वाले औजार, काफी मात्रा में पशुओं का मांस, रस्सी अन्य सामान बरामद किया।

लिसाड़ी गेट इंस्पेक्टर ने सभी के खिलाफ मुकदमा दर्ज करके हवालात में डाल दिया। बरामद हुए मांस को मिट्टी में गड्ढा खोदकर दबा दिया। इंस्पेक्टर लिसाड़ी गेट कुलदीप सिंह को सूचना मिली कि कुछ लोग पिलोखड़ी रोड कीड़े वाली मस्जिद के पास एक डेयरी में भैंसों का कटान कर रहे है। पुलिस ने सूचना मिलते ही कटान करने वाली डेयरी में ताबड़तोड़ दबिश डाली। पुलिस की छापेमारी होते ही वहां पर भगदड़ मच गई। पुलिस ने वहां से पशुओं का कटान करने वाले सलीम, सावेज, जुनैद, अतीक को दबोच लिया।

जबकि एक आरोपी मोहसिन दीवार कूदकर फरार हो गया। वहां से पुलिस ने 120 कुंतल मांस भी बरामद हुआ। पुलिस ने वहां से पशुओं का कटान करने वाले औजार, रस्सी, तराजू, अन्य सामान बरामद किए। इसके बाद उनके खिलाफ लिसाड़ी गेट थाने में पशुओं के खुले में कटान करने का मुकदमा दर्ज किया गया। इसके साथ पशु चिकित्सक को बुलाकर मांस का सैंपल भरवा गया। मांस को मिट्टी में गड्ढा खोदकर दबाया गया।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
2
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Recent Comments