Thursday, January 26, 2023
- Advertisement -
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsMeerut22 से 26 जनवरी तक होगी वेस्ट यूपी में बूंदाबांदी

22 से 26 जनवरी तक होगी वेस्ट यूपी में बूंदाबांदी

- Advertisement -
  • मौसम का रुख पल-पल रहा बदल, फिर से होगा बड़ा बदलाव

जनवाणी संवाददाता |

मोदीपुरम: मौसम का रुख धीरे-धीरे बदल रहा है। खिली धूप निकलने से सर्दी से लोगों को राहत मिल रही है। हालांकि 22 जनवरी से फिर मौसम के बिगड़ने का अंदेशा मौसम विशेषज्ञों ने जाहिर किया है। हवा का रुख भी कम हुआ है। हालांकि प्रदूषण का प्रकोप लगातार मेरठ शहर में बड़ रहा है।

इसके बढ़ने से लोगों को परेशानी हो रही है। खासकर अस्थमा के मरीजों को ज्यादा परेशान होना पड़ रहा है। अगर समय रहते प्रदूषण की रोकथाम नहीं की गई तो आने वाले दिनों में शहर के अंदर लोगों को जीना दुभर हो जाएगा। क्योंकि प्रतिदिन प्रदूषण बढ़ ही रहा है। कम होने का नाम नहीं ले रहा है। इसलिए प्रदूषण का कम होना बेहद जरूरी है। क्योंकि मानव स्वास्थ्य के लिए इसका कम होना बेहद उपयोगी है।

जनवरी के महीने में इस बार कड़ाके की ठंड ने कई वर्षों का रिकॉर्डÞ तोड़ा है। क्योंकि सर्दी के पड़ने से लोगों को जहां दिक्कतों का सामना करना पड़ा। वही बीमारी का भी शिकार होना पड़ा। वेस्ट यूपी में सर्दी क ा अहसास इसलिए बढ़ा क्योंकि पहाड़ों पर इस बार लगातार बर्फबारी रही है। जिसका असर साफ तौर पर मैदानी इलाकों में रहा है। जिसके चलते हाड़कंपाने वाली ठंड ने लोगों को बीमार कर दिया है।

पिछले तीन दिन से खिली धूप निकलने के कारण लोगों को सर्दी से राहत मिली है। जिसके चलते लोगों ने सुकून महसूस किया है। शनिवार को भी लोगों ने खिली धूप निकलने के कारण राहत मिली है। राजकीय मौसम वैधशाला पर दिन का अधिकतम तापमान 21.8 डिग्री एवं न्यूनतम तापमान 7.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। अधिकतम आर्द्रता 92 एवं न्यूनतम आर्द्रता 42 प्रतिशत दर्ज की गई।

हवा का रुख सुबह शांत रहा, लेकिन दोपहर और शाम के समय चार किमी प्रति घंटा की रफ्तार से आंका गया। मौसम विशेषज्ञ डा. यूपी शाही का कहना है कि 22 जनवरी से 26 जनवरी तक मौसम में बदलाव होगा। वेस्ट यूपी में बूंदाबांदी का असर होगा।

गंगानगर सबसे प्रदूषित

प्रदूषण का प्रकोप बढ़ने के कारण लोगों को परेशानी से जूझना पड़ रहा है। जिसके चलते लोगों का सांस लेना भी दुभर हो गया है। मेरठ में प्रदूषण का स्तर 294 है। जबकि गंगानगर में 309 सबसे अधिक प्रदूषण का स्तर रहा है। हालांकि मेरठ के आसपास के जनपदों में प्रदूषण का स्तर भी बढ़ा है। जबकि मेरठ में 294, बागपत में 210, मुजफ्फरनगर में 306, पल्लवपुरम में 280, जयभीमनगर में 294 वायु प्रदूषण दर्ज किया गया है।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
3
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
- Advertisment -
- Advertisment -spot_img
- Advertisment -

Recent Comments