Saturday, October 23, 2021
- Advertisement -spot_imgspot_imgspot_imgspot_img
- Advertisement -spot_imgspot_imgspot_imgspot_img
HomeUttar Pradesh NewsMeerutजल प्रदूषण रोकने के लिए युवा पीढ़ी को आगे आना होगा, जल...

जल प्रदूषण रोकने के लिए युवा पीढ़ी को आगे आना होगा, जल पुरुष

- Advertisement -
  • एसजी पीजी कॉलेज में पुरातन छात्रों के कार्यक्रम का आयोजन
  • कार्यक्रम में पुरानी यादें ताजा कर के भावुक हुए पुरातन छात्र

जनवाणी ब्यूरो |

सरूरपुर: रविवार को सरूरपुर के संजय गांधी पीजी कॉलेज में पुरातन छात्र समारोह का आयोजन किया गया कार्यक्रम में पुरातन छात्रों को प्रयाग प्रशस्ति पत्र व मेडल देकर जहां सम्मानित किया गया वहीं दूसरी ओर विदाई समारोह में छात्रों को कॉलेज से विदाई भी दी गई इस मौके पर मुख्य अतिथि के रूप जल पुरुष राजेंद्र सिंह ने कहा कि जल प्रदूषण रोकने के लिए समाज ही नहीं देश की युवा पीढ़ी को आगे आने की सख्त जरूरत है।

संजय गांधी स्नातकोत्तर महाविद्यालय सरूरपुर खुर्द में रविवार को आयोजित एक कार्यक्रम में पुरातन छात्रों का कार्यक्रम आयोजित किया गया इस कार्यक्रम में कॉलेज के पुरातन छात्रों को आमंत्रित किया गया था जो कॉलेज पहुंचे जो पुरानी यादें ताजा कर के भावुक हो उठे इस मौके पर पुरातन छात्रों ने अपने अनुभव शेयर करते हुए विभिन्न पोस्ट पर नौकरी कर रहे पुरातन छात्रों ने कॉलेज से जुड़ी यादें ताजा की।

इसे लेकर उनके शिक्षक और साथ ही भावुक हो गए वहीं दूसरी ओर कॉलेज में अंतिम वर्ष के छात्रों को नूतन वर्ष के छात्रों ने कार्यक्रम में विदाई दी थी भव्य कार्यक्रम में पुरातन छात्राओं को प्रशस्ति पत्र व मेडल देकर सम्मानित भी किया गया।इस मौके पर कॉलेज के सभागार में आयोजित कार्यक्रम में मुख्य अतिथि पहुंचे जल पुरूष डॉ. राजेन्द्र सिंह ने कहा कि वर्तमान में बढ़ते प्रदूषण को रोकने के लिए समाज ही नहीं, युवा पीढ़ी को आगे आने की खास जरूरत है। विश्व मे भारत के मानवों का प्रकृति के प्रति जो रिश्ता स्थापित है।

वह अनूठा ही नहीं अनुकरणीय है, जो हमें कोविड जैसी महामारी में भी प्रकृति ने ही बचा कर रखा है। जल पुरुष ने कहा कि आधुनिक शिक्षा में किसी भी शिक्षण संस्था में तकनीक की पढ़ाई नहीं की जाती जिसमें मानव ओर प्रकृति का संबंध क्या है। इस मौके पर कार्यक्रम में बतौर विशिष्ट अतिथि डॉ. रमन चौधरी ने कहा कि पर्यावरण के बचाने से ही विश्व ओर जीवन संभव है। जलवायु परिवर्तन के साथ आने वाली आपदाओं से बचने के लिए पर्यावरण को बचाना जरूरी है। जिसके लिए समाज के सभी वर्ग को आगे आने की जरूरत है।

इस दौरान कार्यक्रम में मुख्य रूप से इसरो निदेशक संजय राणा,सुभारती विश्व विद्यालय के प्रोफेसर डॉ. राहुल बंसल, संजीव कटारिया, पूर्व मंत्री डॉ. कुलदीप उज्जवल, पूर्व प्राचार्य डॉ. प्रकाशवीर मलिक ने भी प्रकृति को बचाने के लिए विचार व्यक्त किये। इस दौरान प्रकृति के प्रति कार्य करने वाले बच्चों युवाओं व समाज सेवकों को स्मृति चिंह व शॉल तथा पौधा भेंटकर सम्मानित किया।

कार्यक्रम की अध्यक्षता ठाकुर ब्रह्मसिंह व संचालन संजय राणा, योगाचार्य राजीव व कंकरवाल व साजिद ने संयुक्त रूप से किया। कार्यक्रम के अंत में कॉलेज के प्राचार्य डॉ सविता तोमर ने सभी आगंतुकों का आभार व्यक्त करके धन्यवाद दिया।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Leave a Reply

- Advertisment -spot_imgspot_imgspot_imgspot_img

Most Popular

- Advertisment -spot_img

Recent Comments