Monday, May 17, 2021
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsMeerut'मिस मेरठ' रह चुकी हैं उत्तराखंड सीएम तीरथ सिंह रावत की पत्नी...

‘मिस मेरठ’ रह चुकी हैं उत्तराखंड सीएम तीरथ सिंह रावत की पत्नी डॉ. रश्मि त्यागी

- Advertisement -
0

मुख्यमंत्री बनने की सूचना मिलते ही उनके ससुराल में खुशी का माहौल

एबीवीपी के बैनर तले डॉ. रश्मि त्यागी ने छात्रसंघ अध्यक्ष का लड़ा था चुनाव


जनवाणी ब्यूरो |

मेरठ: तीरथ सिंह रावत ने बुधवार को मुख्यमंत्री की शपथ ले ली है। जिसके बाद उत्तराखंड को मात्र 21 साल में अपना 10वां सीएम मिल गया। उत्तराखंड में भाजपा के वरिष्ठ नेता तीरथ सिंह रावत को प्रदेश प्रमुख का कार्यभार सौंपा गया है।

नया सीएम मिलने से राज्य के लोग खुश हैं। लेकिन, उत्तराखंड से दूर यूपी के मेरठ में भी तीरथ सिंह रावत के मुख्यमंत्री बनने पर खुशी का माहौल है।

दरअसल, तीरथ सिंह रावत की शादी मेरठ की रहने वाली रश्मि त्यागी से हुई है। ऐसे में मेरठ तीरथ सिंह रावत का ससुराल हुआ। दामाद के मुख्यमंत्री बन जाने पर तीरथ सिंह की सास की खुशी का ठिकाना नहीं रहा। उन्होंने अपने दामाद को नई पारी के लिए बधाई दी। इतना ही नहीं ससुराल में मिठाई बांटी जा रही है और ढोल-नगाड़ों की थाप पर खुशियां मनाई जा रही है।

मिस मेरठ से की है शादी
मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत की पत्नी रश्मि मिस मेरठ भी रह चुकी हैं। फिलहाल डॉ. रश्मि रावत डीएवी कॉलेज देहरादून में मनोविज्ञान की प्रोफेसर हैं। वहीं तीरथ सिंह रावत की एक बेटी है। उनकी बेटी का नाम लोकांक्षा है। मेरठ के कैलाशपुरी में उत्तराखंड के नए सीएम तीरथ सिंह रावत की ससुराल है। 9 दिसंबर 1998 को उनकी शादी मेरठ में रहने वाली रश्मि त्यागी से हुई थी।

खरखौदा में खुशी का माहौल
कस्बा निवासी दिवंगत वेदप्रकाश त्यागी उर्फ गांधी के बड़े पुत्र चंद्रप्रकाश की पुत्री रश्मि त्यागी तीरथ सिंह रावत की पत्नी हैं। चंद्रप्रकाश त्यागी का दिसंबर में कोरोना के कारण गढ़मुक्तेश्वर में निधन हो गया था। उस समय तीरथ सिंह रावत गढ़मुक्तेश्वर आए थे। वर्तमान में रश्मि के चाचा अशोक त्यागी उर्फ गांधी कस्बे के तिहाई मोहल्ले में परिवार के साथ रहते हैं। वे खेती करते हैं। तीरथ सिंह रावत के सीएम बनने की सूचना मिलते ही खरखौदा में खुशी का माहौल हो गया।

रश्मि त्यागी के दादा थे क्रांतिकारी, 52 बार गए थे जेल
स्वजन ने बताया कि अंग्रेजी शासनकाल में रश्मि के दादा वेदप्रकाश त्यागी 52 बार जेल गए। रश्मि त्यागी के चाचा अशोक त्यागी ने बताया कि पिताजी का आजादी की लड़ाई में अहम योगदान था। क्षेत्र में लोग उन्हें मिनी गांधी के नाम से जानते थे। देश आजाद होने के बाद वह कांग्रेस पार्टी में शामिल हो गए थे। आज भी खरखौदा में उनका परिवार कांग्रेस पार्टी से जुड़ा है। करीब 35 वर्ष पूर्व रश्मि के दादा की हापुड़ जनपद के बक्सर में सड़क हादसे में मौत हो गई थी।

जानिए, उत्तराखण्ड के नए CM तीरथ सिंह रावत की अनोखी प्रेम कहानी
उत्तराखण्ड के नए सीएम तीरथ सिंह रावत का मेरठ से ख़ास रिश्ता है। मेरठ में तीरथ सिंह रावत की ससुराल है। जैसी ही उनकी सास सुषमा त्यागी को दामाद के मुख्यमंत्री बनने का समाचार मिला, वह ख़ुशी से झूम उठीं और यादों के गलियारों में खो गईं। तीरथ सिंह रावत की सास ने बताया कि उनकी बेटी रश्मि भी छात्र जीवन में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद से जुड़ी रही हैं। 1996 में एक कार्यक्रम के दौरान रश्मि मंच से भाषण दे रही थीं। उस समय स्टेज पर तीरथ सिंह रावत भी मौजूद थे। तीरथ सिंह रावत ने मंच पर भाषण देते हुए रश्मि को सुना तो कुछ ही दिन बाद फिर घर पर रिश्ता आ गया। उन्होंने बताया कि रिश्ते के वक्त उनका परिवार थोड़ा हिचकिचाया कि तीरथ राजनीति में हैं। लेकिन बाद में परिवार ने हामी भर दी। 1999 में तीऱथ और रश्मि की शादी हो गई। तीरथ की सास ने बताया कि उस वक्त रश्मि पीएचडी कर रही थीं। यही नहीं वह रश्मि मिस मेरठ भी रह चुकी हैं और उस दौर में जब रश्मि मिस मेरठ बनी थीं, तब वो रश्मि के चेहरे को कवर करके अपने साथ ले जाया करती थीं। सुषमा त्यागी का कहना है कि एक ज़माने में तीरथ पार्टी कार्यालय और संघ कार्यालय में झाड़ू भी लगा दिया करते थे। आज उनकी सादगी ने उन्हें उत्तराखण्ड का सीएम बना दिया। उन्होंने बताया कि तीरथ और रश्मि की एक बेटी है। उनके कार्य के प्रति समर्पण को लेकर उन्होंने बताया कि अगर तीऱथ जी की बेटी जिया भी किसी कार्य के लिए अपने पापा से कहती है तो उस काम में भी देरी हो सकती है लेकिन देश और पार्टी का कार्य सर्वोपरि होता है। जैसे ही आज तीरथ सिंह रावत के मुख्यमंत्री बनने की ख़बर सास सुषमा त्यागी को मिली तो फौरन ढोल नगाड़ा बजने लगे। घर पर मिठाईयों का दौर शुरू हो गया। पड़ोसी आ-आकर सुषमा के चरण स्पर्श कर बधाई देने लगे। उन्होंने बताया कि आज जब ये सूचना आई तो वो अवाक रह गईं। सुषमा ने बताया कि उन्हें इतनी ख़ुशी हुईं कि वो रोने लगीं। उनके बड़े बेटे का फोन आया। उन्होंने मंत्रोच्चारण करके अपने दामाद को शुभकामनाएं दीं।

What’s your Reaction?
+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

- Advertisement -

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -spot_img

Most Popular

- Advertisment -

Recent Comments