Sunday, July 25, 2021
- Advertisement -
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh Newsबड़ौतयुवाओं ने किसान संघर्ष मोर्चा के आह्वान पर मनाया काला दिवस

युवाओं ने किसान संघर्ष मोर्चा के आह्वान पर मनाया काला दिवस

- Advertisement -
  • बड़ौत में कारों पर काले झंडे लगाकर जुलूस निकाला, चौराहों, घरों पर लगाए काले झंडे

जनवाणी संवाददाता |

बड़ौत: किसान संघर्ष मोर्चा के आह्वान पर बड़ौत व आसपास के गांवों में पूर्व में घोषित काला दिवस मनाया। बड़ौत में देशखाप चौधरी चौरासी के नेतृत्व में युवाओं ने कारों पर काले झंडे बांधकर जुलूस निकाला। मकानों व चौराहों पर काले झंडे लगाए। देशखाप चौधरी चौरासी सुरेन्द्र सिंह ने इस मौके पर कहा कि केन्द्र सरकार कृषि कानूनों को जब तक वापस नहीं लेगी। तब तक आंदोलन जारी रहेगा। छह माह से किसान आंदोलन चल रहा है। सरकार के कानों पर जूं नहीं रेंगी।

यहां विदित है कि दिल्ली के अलग-अलग बार्डरों पर छह माह से देशभर के किसान तीन कृषि कानूनों के खिलाफ बैठे हैं। केन्द्र सरकार द्वारा किसान संगठनों से बात नहीं कर रहे हैं। ऐसे में अब एक बार फिर किसान संगठन गतिविधियों में लग गए हैं। किसान संगठनों के मंच किसान संघर्ष मोर्चा की ओर से 26 मई को काला दिवस मनाने का किसानों का आह्वान किया था।

इसी सिलसिले में बड़ौत व देहात में काला दिवस मनाया। देशखाप चौधरी चौरासी सुरेन्द्र सिंह के नेतृत्व में युवाओं ने बड़ौत में हाथ व माथे पर काली पट्टी बांधकर कारों का जुलूस निकाला। कारों पर काले झंडे लगाकर नगर में जुलूस निकाला। यह जुलूस देशखाप चौधरी के पट्टी चौधरान स्थित आवास से शुरू होकर दिल्ली-सहारनपुर हाइवे से होते हुए दिल्ली-सहारनपुर बस अड्डा, शहीद पार्क, बड़ौली रोड, कोताना रोड, मेन बाजार, बिजरौल तिराहा, जाट कालेज रोड से होते हुए वापस चौधरी चौरासी के आवास पर पहुंचे।

इस मौके पर देश का चौधरी चौरासी सुरेंद्र सिंह ने कहा कि केंद्र सरकार किसी कानूनों को जब तक वापस नहीं लेगी तब तक किसानों का आंदोलन जारी रहेगा किसान संघर्ष मोर्चा के आह्वान पर आज जिले में काला दिवस मनाया गया युवाओं ने जुलूस निकाला घर-घर काले झंडे लगाए गए इससे ही सरकार को समझ लेना चाहिए कि किसान कितने परेशान है।

उन्होंने कहा की किसान पीछे हटने वाले नहीं है आंदोलन बरकरार है। इस मौके पर खाप चौधरी सुरेन्द्र सिंह, छात्र नेता गौरव चौधरी,हरवीर सिंह, चैन सिंह, सनसपाल, विकास राठी, कुलवीर राठी, बबलू सिंह, नवनीत, रामपाल सिंह, उदयवीर सिंह, राज सिंह आदि मौजूद रहे।

पुलिस के साथ हुई किसानों की बहस

कारों के काफिले में युवक व किसान जब हाइवे पर पहुंचे तो बावली चुंगी पर सड़क पर रखे पुलिस के  बेरिकेटिंग पर किसानों ने काले झंडे लगा दिए। इसे लेकर पुलिस के साथ उनकी खूब बहस हुई। किसी तरह से यहां से मामला निपटा तो किसान नगर के हाइवे के बस अड्डे पर पहुंचे। यहां भी किसानों ने कट के दोनों ओर काले झंडे बांधने का प्रयास किया। लेकिन पुलिस ने उन्हें रोक दिया। यहां पुलिस ने उन्हें रोके रखा। बाद में उनका काफिला शहीद पार्क पर पहुंचा। यहां से बड़ौली रोड होते हुए वापस लौट गए।

किसान यूनियन ने दिया एसडीएम को ज्ञापन

किसान यूनियन कार्यकर्ताओं ने नगर के दिल्ली-सहारनपुर बस अड्डे के चौराहे पर पूर्व घोषणा के मुताबिक वह जाम तो नहीं लगा पाए। लेकिन बीच सड़क में खड़े होकर एसडीएम को ज्ञापन दिया। ज्ञापन में तीनों कृषि कानूनों का विरोध, गन्ना भुगतान की मांग समेत कई बिन्दु रहे। यह ज्ञापन राष्ट्रपति के नाम दिया गया। प्रदेश उपाध्यक्ष ब्रजपाल सिंह ने बताया कि तीनों कृषि कानूनों के विरोध में व केन्द्र सरकार के सात साल के समय को खराब दौर के विरोध में यह काला दिवस मनाया गया। इस मौके पर ब्रजपाल सिंह के अलावा बलजोर सिंह, रालोद की महिला विंग की जिलाध्यक्ष रेनु तोमर, आशुतोष स•ाासद, बोबी बावली, मगन तोमर, रुपेश मलिक, प्रेम सिंह, श्रीचंद्र सिंह, राजगुरु तोमर, धर्मपाल सिंह आदि मौजूद रहे।

किमसं ने काला दिवस मनाते हुए एसडीएम को ज्ञापन दिया

किसान मजदूर संगठन ने किसान मोर्चा के आह्वान पर बुधवार को काला दिवस मनाया। इस मौके पर संगठन के जिलाध्यक्ष कालूराम तोमर के नेतृत्व में कार्यकर्ताओं ने बड़ौत तहसील में पहुंच कर एसडीएम को राष्ट्रपति के नाम ज्ञापन दिया। इस ज्ञापन में उन्होंने बताया कि केन्द्र सरकार ने किसानों को समाप्त करने के लिए तीन कृषि कानून बनाएं हैं। यह कानून देश से किसान नाम को समाप्त कर देंगे।

उन्होंने एसडीएम को दिए ज्ञापन में तीनों कृषि कानूनों की वापसी और फसलों के एमएसपी पर दाम घोषित किए जाएं। इस मौके पर ज्ञापन देने वालों में कालूराम तोमर, पूर्व जिला पंचायत सदस्य विराज तोमर,यशवीर सिंह, गजेन्द्र सिंह, जवाहर सिंह, अरविन्द कुमार, अमरदीप, ओमवीर सिंह, रणधीर सिंह, निर्भय सिंह, मुकेश, भगत सिंह, कुलदीप, प्रताप आदि मौजूद थे। वहीं दूसरी ओर पूर्व विधायक डा. अजय कुमार ने अपने आवास पर काला झंडा लगाते हुए तीनों कृषि कानूनों का विरोध जताया। उन्होंने बताया कि केन्द्र की भाजपा सरकार के विरोध उन्होंने काला झंडा लगाया।

What’s your Reaction?
+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

- Advertisement -

Leave a Reply

- Advertisment -spot_imgspot_imgspot_imgspot_img

Most Popular

- Advertisment -spot_img
- Advertisment -

Recent Comments