Wednesday, September 22, 2021
- Advertisement -spot_imgspot_imgspot_imgspot_img
- Advertisement -spot_imgspot_imgspot_imgspot_img
HomeUttar Pradesh NewsMeerutअक्षय तृतीया: सर्राफा बाजार फिर बेउम्मीद

अक्षय तृतीया: सर्राफा बाजार फिर बेउम्मीद

- Advertisement -
  • लॉकडाउन से बंद हैं शहर भर के बाजार, एशिया की सबसे बड़ी मंडी को झेलना होगा भारी घाटा

जनवाणी संवाददाता |

मेरठ: अक्षय तृतीया का पर्व 14 मई को मनाया जा रहा है। इस दिन सोना खरीदना शुभ माना जाता है। ऐसे में शहर में सर्राफा व्यापार को अच्छा-खासा व्यापार भी मिलता है, लेकिन पिछले दो सालों से इस दिन सर्राफा व्यापारियों का करोबार पहले जैसा नही हो पा रहा है। कोरोना संक्रमण के कारण पिछले दो सालों से लगभग सभी त्योहारों पर होने वाली खरीदारी पर असर पड़ा है। ऐसे में सर्राफा बाजार की बात करें तो करोड़ों का नुकसान सराफा व्यापारियों को झेलना पड़ रहा है।

एशिया की सबसे बड़ी सर्राफा मंडी यहां के सर्राफा बाजार को कहा जाता है। अपनी कारीगरी और गुणवत्ता के लिए ही यहां के सर्राफा व्यापार का देश ही नहीं बल्कि विदेशों में भी डंका कायम है, लेकिन कोरोना संक्रमण फैलने के बाद यहां के सर्राफा को भी बेहद मंदी की मार लगातार पिछले साल से झेलनी पड़ रही हैं।

हालांकि बीच में कुछ महीनों के लिए महामारी के मार कम होने के बाद लॉकडाउन को पूरी तरह से खोल दिया गया था। जिसके बाद कुछ व्यापार उठा ही था कि एक बार फिर से महामारी की दूसरी लहर ने सबकुछ दोबारा उसी जगह पर लाकर खड़ा कर दिया है। पिछले साल भी अप्रैल और मई माह में लॉकडाउन लगाया गया था।

ऐसे में इस बार भी लॉकडाउन के चलते ही सर्राफा बाजार को अक्षय तृतीया के मौके पर करोड़ों के नुकसान की संभावना है। हालांकि प्रदेश में फिलहार दस मई तक ही लॉकडाउन लगाया गया है और 14 मई को अक्षय तृतीया का पर्व है। ऐसे में अगर लॉकडाउन खोल दिया जाता है तो कुछ व्यापार होने की संभावना है, लेकिन अगर स्थिति ज्यों की त्यों ही बनी रहती है तो सर्राफा बाजार को कम से कम 10 करोड़ रुपयों का नुकसान झेलना होगा।



आनलाइन खरीदारी में भी गिरा कारोबार

लॉकडाउन के चलते शहर भर के सभी बाजार बंद हैं। ऐसे में सभी खरीदारी आॅनलाइन की जा रही है, लेकिन लॉकडाउन की वजह से सभी लोगों के कारोबार बंद है। जिस कारण आॅनलाइन ज्वेलरी की डिमांड बढ़ने बजाय और कम हो रही है। पिछले कुछ समय में बड़ी गिरावट आॅनलाइन बुकिंग में भी देखी गई है। लॉकडाउन की वजह से करीब 90 प्रतिशत की गिरावट आॅनलाइन ज्वेलरी खरीदारी में आई है।

कोरोना महामारी ने पिछले कुछ महीनों मे राहत दी थी, जिसके बाद त्योहारी सीजन में मार्केट कुछ उठा था, लेकिन अब दोबारा कारोबारी में मंदी है। ऐसे में अक्षय तृतीया के मौके पर करीब 10 करोड़ के कारोबार का नुकसान सर्राफा हो सकता है।                              -संत कुमार वर्मा, अध्यक्ष सोना चांदी व्यापार संघ


पिछले साल कोविड के बार कुछ समय के लिए बाजार खोला गया था। ऐसे कुछ कारोबार हुआ था। लेकिन एक बार फिर से लॉकडाउन की स्थिति है। ऐसे में करोड़ों का नुकसान होगा। वही, आॅनलाइन काम भी पांच प्रतिशत तक ही रह गया है। जिसमें सिर्फ कुछ रेडी स्टॉक ही आॅनलाइन आॅर्डर पर भेजा जा रहा है।                 -प्रियांशु, सराफा व्यापारी


संक्रमण की वजह से इस बार अक्षय तृतीया पर कारोबार होने की उम्मीद कम है, लेकिन फिलहार लॉकडाउन 10 मई तक लगाया गया है। ऐसे मे यदि बाजार खुलता है तो थोड़े कारोबार की उम्मीद कायम है। -संजय रस्तोगी, सराफा व्यापारी


अक्षय तृतीया के मौके पर आम दिनों में अच्छा कारोबार सर्राफा को मिलता हैं, लेकिन पिछले साल की तरह फिर से इस बार लॉकडाउन लगाया गया हैं। ऐसे में कारोबार में गिरावट की पूरी संभावना है, लेकिन यदि लॉकडाउन 10 मई के बाद खुलता है तो थोड़ा व्यापार हो सकता है।                           
-अमित, सराफा व्यापारी

What’s your Reaction?
+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

- Advertisement -

Leave a Reply

- Advertisment -spot_imgspot_imgspot_imgspot_img

Most Popular

- Advertisment -spot_img

Recent Comments