Wednesday, October 27, 2021
- Advertisement -spot_imgspot_imgspot_imgspot_img
- Advertisement -spot_imgspot_imgspot_imgspot_img
HomeUttar Pradesh NewsMeerutकोरोना के सरकारी इलाज से ज्यादातर काट रहे कन्नी

कोरोना के सरकारी इलाज से ज्यादातर काट रहे कन्नी

- Advertisement -
  • रिकवरी रेट में कमी का बड़ा कारण चुपचाप टेस्टिंग और प्राइवेट इलाज
  • बुखार को हल्के में लेना पड़ रहा महंगा, अपोलो, मेदांता, मैक्स रहे भाग

जनवाणी संवाददाता |

मेरठ: कोरोना के सरकारी इलाज से ज्यादातर लोग कन्नी काट रहे हैं। बजाय सरकारी कोविड-19 आइसोलेशन वार्ड में भर्ती होने के लोग होम आइसोलेशन को तवज्जो दे रहे हैं या फिर आनंद हॉस्पिटल सरीखे प्राइवेट अस्पतालों में इलाज करा रहे हैं।

जो साधन संपन्न है, उनकी पहली पसंद अपोलो, मेदांता व मैक्स सरीखे हॉस्पिटल हैं। हालांकि एक अनुमान के मुताबिक इन फाइव स्टार संस्कृति के अस्पतालों में कोरोना पैकेज की दर करीब 14 लाख बतायी जा रही है। वहीं, दूसरी ओर जो लोग मेडिकल या दूसरे मुलायम और सुभारती सरीखे कोविड-19 आइसोलेशन वार्ड में इलाज कराकर आए हैं वो अपने तजुर्बे को बहुत अच्छा नहीं बता रहे हैं।

इसके चलते ज्यादातर लोग होम आइसोलेशन में रहना पसंद करते हैं। सूत्रों की माने तो ऐसे लोग बड़ी संख्या में हैं। जिन्होंने विभाग का अहसास होने पर बगैर सैंपल की जांच कराए ही प्राइवेट इलाज शुरू कर दिया है। ऐसे लोग बड़ी संख्या में हैं, जिन्होंने कोई सैंपल जांच नहीं कराए हैं, लेकिन वो अपने फैमिली डाक्टर से अहतियातन इलाज करा रहे हैं।

कोरोना संक्रमण के रिकबरी रेट में जो कमी बतायी जा रही है। उसके पीछे एक बड़ा कारण यह भी बताया जा रहा है। वहीं, दूसरी ओर चिकित्सकों का कहना है कि मौसम के मिजाज में आए बदलाव को देखते हुए खांसी, बुखार व जुकाम को बेहद गंभीरता से लेने की जरूरत है।

नर्सिंग होम एसोसिएशन के उपाध्यक्ष डा. शिशिर जैन का कहना है कि इस मौसम में सबसे ज्यादा रोगी विंटर डायरिया के आ रहे हैं। इस बीमारी को गंभीरता से लिया जाने की जरूरत है। इसमें रोगी के शरीर में पानी की कमी हो जाती है। इसलिए लक्षण नजर आते ही तत्काल चिकित्सक के पास जाना चाहिए।

आईएमए के एडवांस मेडिकल साइंस के चेयरमैन डा. संदीप जैन का कहना है कि बदलते मौसम में इम्युनिटी पर विशेष ध्यान दिया जाना बेहद जरूरी है। बाहरी खाने के सामान का सेवन न करें। घर मेें भी केवल पौष्टिक भोजन लें। इम्युनिटी को बेहतर कर संक्रमण से बचा जा सकता है। यदि संक्रमण के लक्षण दिखाई दें तो तत्काल स्वास्थ्य विभाग को जानकारी देकर सैंपल का टेस्ट कराएं।

कोरोना से एक की मौत, 101 नए संक्रमित

कोरोना संक्रमण के चलते एक संक्रमित की मौत हो गयी, जबकि 101 संक्रमण के नए केस भी मिले हैं। मुख्य चिकित्साधिकारी डा. अखिलेश मोहन ने कोरोना अपडेट जारी करते हुए ये जानकारी दी। अपडेट में खैरनगर कुम्हारो वाली गली निवासी 55 वर्षीया महिला ने संक्रमण के चलते उपचार के दौरान बुधवार को दम तोड़ दिया।

संक्रमण के नए केसों में बड़ी संख्या में ट्रेवल्स हिस्ट्री वाले केसों के मिलने के अलावा पुरानी चेन के कांट्रेक्ट ट्रेसिंग के केस भी मिल रहे हैं। इन केसों में ऐसे केसों की संख्या काफी ज्यादा है। जिनका संबंध संक्रमण की किसी पुरानी चेन से नहीं जुड़ा है। जो केस आए हैं उनमें बड़ी संख्या में छात्र, नौकरी पेशा, कारोबारी, कैदी, किसान, हेल्थ केयर वर्कर भी शामिल हैं।

जिन इलाकों में केस मिले हैं उनमें ईशा अपार्टमेंट, अंसल टाउन, ईश्वरपुरी, दिल्ली चुंगी, संत विहार, मोहिउद्दीनपुर बस्ती, सिविल लाइन संजयनगर, फाजलपुर अनूपनगर, गढ़ रोड वैशाली कालोनी, नौचंदी फूलबाग कालोनी, सिविल लाइन मानसरोवर, न्यू मोहनपुरी, शास्त्रीनगर डी ब्लॉक, मनसुख कुटीर शास्त्री नगर, टीपीनगर मुलतान नगर शेखपुरा, गंगानगर, गंगा गार्डन कालोनी गंगानगर, कसेरू बक्सर, सदर अरविंदपुरी टंकी मोहल्ला, लालकुर्ती बेगमबाग, एमडीए कालोनी बेगमबाग, गंगा सागर गंगानगर, मवाना रोड डिफेंस कालोनी, ब्रह्मपुरी माधवपुरम, नूरनगर नंद वाली गली, पुलिस लाइन, सिविल लाइन वेस्टर्न रोड नंदन गार्डन, यूजी गर्ल्स हास्टल कंकरखेड़ा, सरधना बूढ़ा बाबू, माछरा, मुलतान नगर, दौराला, कुंडा, गांव जटौली, अहमद नगर गली नंबर दो, कैली रेलवे स्टेशन के समीप, लालपुर खरखौदा, मवाना रोड राधा गार्डन आदि इलाके शामिल हैं।

कोरोना से भाजपा नेता की मौत से पार्टी में शोक

भाजपा के एक बडे नेता की कोरोना संक्रमण के चलते मौत से संगठन में शोक व्याप्त है। भाजपा व्यापार प्रकोष्ठ के पश्चिम क्षेत्र क्षेत्रीय सह संयोजक राजेश अग्रवाल निवासी नोएडा का संक्रमण के चलते बुधवार को निधन हो गया। उनके निधन की जानकारी व्यापार प्रकोष्ठ के प्रदेश संयोजक विनित अग्रवाल शारदा ने दी है। उन्होंने बताया कि संक्रमण के चलते उनको अस्पताल में भर्ती करारा गया था। उपचार के दौरान अचानक तबीयत बिगड़ने लगी और चिकित्सकों के तमाम प्रयासों के बाद भी राजेश अग्रवाल को नहीं बचाया जा सका। उनके निधन पर संगठन के तमाम वरिष्ठ नेताओं ने गहरा दु:ख व्यक्त किया है।

सरधना में महिला निकली कोरोना पॉजिटिव

क्षेत्र में रुक-रुककर कोरोना केस सामने आ रहे हैं। बुधवार को भी एक महिला कोरोना पॉजिटिव निकली। सरधना क्षेत्र में अब तक 300 से अधिक कोरोना केस समाने आ चुके हैं। रोजाना हो रही जांच में ये आंकड़ा लगातार बढ़ता ही जा रहा है। बुधवार को स्वास्थ्य विभाग द्वारा कुल 126 लोगों की जांच कराई गई।

जिसमें बूढ़ा बाबू मोहल्ले की एक महिला कोरोना पॉजिटिव निकली। जांच रिपोर्ट आने के बाद स्वास्थ्य विभाग ने महिला को आइसोलेट कर दिया। साथ ही उसके परिवार को भी होम क्वारंटाइन कर दिया गया। इस संबंध में सीएचसी प्रभारी डा. राजेश कुमार का कहना है कि एक महिला कोरोना पॉजिटिव मिली है। उसके संपर्क में आने वाले लोगों की भी जांच कराई जाएगी।

लावड़ में एक निकला कोरोना पॉजिटिव

स्वास्थ्य विभाग द्वारा कोरोना जांच शिविर में सैकड़ों लोगों के स्वास्थय की बुधवार को जांच की गई। जांच में एक व्यक्ति कोरोना संक्रमित मिला। दौराला सीएचसी प्रभारी डा. सचिन मलिक ने बताया कि बुधवार को महल, लावड़, अंदावली गांव व सीएचसी पर कैंप का आयोजन किया गया।

कैंप में कुल 113 लोगों के स्वास्थ्य की कोरोना जांच की गई। जांच में दौराला निवासी एक व्यक्ति की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आई। कोरोना पॉजिटिव मरीज को होम क्वारंटीन कर दिया गया है। सीएचसी प्रभारी ने क्षेत्र की जनता से मास्क, सैनिटाइजर व दो गज की दूरी बनाये रखने की अपील की है।

परीक्षितगढ़ में दो लोग कोरोना संक्रमित

तीन दिन पूर्व हुई सीएचसी पर आरटीपीसीआर जांच व एंटीजन जांच में दो लोग पॉजिटिव आए है। सीएचसी प्रभारी डा. संदीप गौतम ने बताया कि तीन दिन पूर्व सीएचसी पर आरटीपीसीआर किट से लोगों की कोरोना जांच कर सैंपल मेडिकल लैब भेज दिया था।

बुधवार को आई मेडिकल लेब से रिपोर्ट में नगर निवासी गौरव गुप्ता व सीएचसी पर हुई एंटीजन जांच में गांव अहमदपुरी निवासी नीरज पॉजिटिव आया है। दोनों को घर पर ही आइसोलेट कर दवा दी है। आज दोनों के परिजन और संपर्क में आए लोगों की जांच की जाएगी। सीएचसी पर 90 एंटीजन व 64 आरटीपीसीआर किट से जांच की गई है। आरटीपीसीआर जांच मेडिकल लेब भेज दी है।

कोरोना नियंत्रण के लिये मेडिकल में बढ़ेगी बेड की क्षमता

कोरोना के नियंत्रण के लिये मुख्यमंत्री ने सख्त निर्देश दिये हैं कि मेरठ मेडिकल कालेज समेत लखनऊ, वाराणसी, कानपुर नगर, झांसी, गाजियाबाद तथा गोरखपुर जनपदों में कोविड-19 के बेडों की संख्या बढ़ाई जाए ताकि कोरोना पीड़ितों को परेशानी का सामना न करना पड़े।

प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कोरोना को लेकर समीक्षा करते हुए कहा कि कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए मेडिकल कालेजों में बेड बढ़ाए जाने चाहिये। उन्होंने स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को कहा कि कांटेक्ट ट्रेसिंग तथा सर्विलांस सिस्टम की व्यवस्था को पूरी तरह से सक्रिय रखा जाए। उन्होंने कांटेक्ट ट्रेसिंग पर विशेष ध्यान देने के निर्देश भी दिए।

सभी जनपदों के प्रमुखों को दिये गए निर्देश में कहा कि जब तक कोविड-19 की कोई कारगर दवा अथवा वैक्सीन उपलब्ध नहीं हो जाती तब तक सतर्कता ही बचाव है। उन्होंने कहा कि टीम-11 द्वारा पूरे समन्वय के साथ बेहतर परिणाम दिए गए हैं। कार्य की गति को आगे भी इसी प्रकार जारी रखा जाए।

उन्होंने इंटीगे्रटेड कमांड एंड कंट्रोल सेंटर को पूरी सक्रियता से संचालित करने के निर्देश देते हुए कहा कि कोविड-19 के प्रसार की रोकथाम में इंटिग्रेटेड कमांड एंड कंट्रोल सेंटर की भूमिका अत्यन्त महत्वपूर्ण है। उन्होंने कोविड-19 की मेडिकल टेस्टिंग रैंडम आधार पर किए जाने के भी निर्देश दिए हैं। मेडिकल कालेज में बेडों की संख्या बढ़ने से कोरोना वार्ड में सहूलियतें भी बढ़ जाएगी और व्यवस्था भी सुधरेगी।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Leave a Reply

- Advertisment -spot_imgspot_imgspot_imgspot_img

Most Popular

- Advertisment -spot_img

Recent Comments