Thursday, July 29, 2021
- Advertisement -
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsMeerutजिला पंचायत अध्यक्ष चुनाव: बागपत में रालोद, बिजनौर-शामली-मुजफ्फरनगर में भाजपा विजयी

जिला पंचायत अध्यक्ष चुनाव: बागपत में रालोद, बिजनौर-शामली-मुजफ्फरनगर में भाजपा विजयी

- Advertisement -

जनवाणी ब्यूरो |

मेरठ: पश्चिमी यूपी के जिलों में जिला पंचायत अध्यक्ष का बहुप्रतिक्षित चुनाव हो गया है। सबसे कांटे का मुकाबला बागपत में भाजपा और रालोद के बीच था। बागपत में भाजपा को आखिर हार का सामना ही करना पड़ा। यहां रालोद की प्रत्याशी ममता को 12 वोट मिले, जबकि भाजपा की बबली देवी को सिर्फ सात वोट मिले। एक वोट कैंसिल हो गई। वहीं बिजनौर जिले में भाजपा प्रत्याशी की जीत हो गई है।

भाजपा प्रत्याशी साकेंद्र प्रताप सिंह को 55 में से 30 वोट मिले, सपा गठबंधन प्रत्याशी चरणजीत सिंह कौर को 25 वोट मिले हैं। खास बात यह है कि सकेंद्र प्रताप सिंह लगातार दूसरी बार जिला पंचायत अध्यक्ष बने हैं। वहीं बागपत में रालोद और भाजपा के बीच कांटे की टक्कर है। उधर, मुजफ्फरनगर और शामली में रालोद कार्यकर्ताओं ने जमकर हंगामा किया।

बिजनौर में इस चुनाव में भाजपा के केवल आठ सदस्य ही चुनाव जीत कर आए थे, वहीं सपा ने 20, रालोद ने चार, भाकियू ने दो सदस्य जीतने का दावा किया था। इसके अलावा आठ आजाद पार्टी, पांच बसपा और अन्य निर्दलीय सदस्य जीते थे। गठबंधन संख्या बल के आधार और भाजपा सेंधमारी के सूत्र के आधार पर जीत का दावा कर रही थी। चुनाव परिणाम आने के बाद भाजपा अपनी रणनीति में कामयाब रही।

भाजपा प्रत्याशी साकेंद्र प्रताप सिंह को कुल 30 वोट मिले, जबकि सपा गठबंधन प्रत्याशी चरणजीत सिंह कौर को 25 वोट मिले। इस चुनाव में जिला पंचायत सदस्य सोनम चौधरी का वोट नहीं डाला गया। कुल 55 वोट डाले गए। सोनम चौधरी के पति ने सपा जिला अध्यक्ष और सपा विधायक पर अपहरण का मुकदमा दर्ज कराया था।

वहीं शामली में भाजपा प्रत्याशी मधु ने जीत हासिल की है। मधु को 10 वोट मिले, जबकि सपा-रालोद प्रतयाशी अंजलि को नौ वोट मिले हैं। भाजपा प्रत्याशी एक वोट से विजयी हुई है। उधर, मुजफ्फरनगर में भाजपा के वीरपाल निरवाल जीते हैं। जिले में कुल 43 जिला पंचायत सदस्य जीतकर आए थे। बताया गया कि सिर्फ 34 वोट डाले गए। इनमें से 30 वोट भाजपा प्रत्याशी को मिले, जबकि विपक्ष के सत्येंद्र बालियान को मात्र चार वोट मिले।

मुजफ्फरनगर में विपक्ष के प्रत्याशी सत्येंद्र बालियान ने प्रशासन पर सत्ता पक्ष के दबाव में आकर पार्टी बनकर काम करने का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि चुनाव आयोग के आदेश के बावजूद वोटरों को सहायक उपलब्ध प्रशासन ने कराए हैं। यह सब मंत्री और विधायक के कहने पर किया जा रहा है। सतेंद्र बालियान ने कहा कि इसकी शिकायत भी चुनाव आयोग से करेंगे। उन्होंने कहा कि मंत्री संजीव बालियान अपने भाई को हराना चाहते हैं। इसके लिए वे सत्ता का दुरुपयोग कर रहे हैं।

विपक्ष ने प्रशासन पर सत्ता पक्ष के दबाव में आकर चुनाव में धांधली करने का आरोप लगाते हुए प्रकाश चौक पर हंगामा शुरू कर दिया। वहीं विपक्ष के कार्यकर्ता और नेता कलेक्ट्रेट की ओर जाने लगे तो पुलिस ने प्रकाश चौक पर उन्हें रोक दिया। इस दौरान कार्यकर्ताओं ने जमकर हंगामा किया।

इसी दौरान भारी संख्या में भारतीय किसान यूनियन के कार्यकर्ता मौके पर पहुंच गए, जिन्होंने प्रशासन के खिलाफ जमकर नारेबाजी की और चुनाव का बहिष्कार करने की घोषणा की। वहीं भारतीय किसान यूनियन के कार्यकर्ताओं ने प्रकाश चौक पर बैरिकेडिंग को हटाकर कलेक्ट्रेट की ओर कूच करने का प्रयास किया, लेकिन पुलिस कर्मियों ने उन्हें रोक दिया। इस बीच दोनों और से जमकर जोर आजमाइश होती रही। आखिर में पुलिस ने भारतीय किसान यूनियन के कार्यकर्ताओं को पीछे धकेल दिया।

मुजफ्फरनगर में जिला पंचायत अध्यक्ष पद के चुनाव में आज मतदान को लेकर पुलिस प्रशासन ने सुरक्षा व्यवस्था के पुख्ता इंतजाम किए हैं। कलेक्ट्रेट स्थित डीएम कोर्ट में मतदान होगा। सुबह 11 बजे से लेकर तीन बजे तक वोट डाले जाएंगे। इसके बाद मतगणना कर परिणाम घोषित किया जाएगा।

जिला पंचायत अध्यक्ष पद के लिए भाजपा के वीरपाल निरवाल और विपक्ष के सत्येंद्र बालियान के बीच सीधा मुकाबला है। यहां 43 वोटर मतदान करेंगे। चुनाव को लेकर पुलिस ने प्रकाश चौक, सदर बाजार, मालवीय चौक महावीर चौक की बैरिकेडिंग कर पूरी तरह से घेराबंदी की हुई है।

किसी को भी इन रास्तों से आने-जाने की इजाजत नहीं दी गई। कचहरी के पश्चिम गेट से ही वोटर मतदान करने के लिए आएंगे। एसपी सिटी अर्पित विजयवर्गीय को सुरक्षा व्यवस्था का नोडल अधिकारी बनाया गया है। वहीं अधिकारियों ने सुबह ही सुरक्षा व्यवस्था का जायजा लिया।

उधर, शामली में सपा-रालोद की संयुक्त उम्मीदवार अंजलि सुबह 11 बजते ही सपा नेता शेर सिंह राणा, रालोद जिलाध्यक्ष योगेंद्र चेयरमैन के साथ अपने समर्थित सदस्यों को लेकर कलेक्ट्रेट मतदान के लिए पहुंच गई। अंजलि समेत सपा रालोद के पक्ष में नौ सदस्य पहुंचे हैं। वहीं 11.10 बजे तक मतदान शुरू नहीं हो सका, जिसे लेकर सदस्यों ने नाराजगी जताई।

वहीं भाजपा सदस्यों के सहायक उपलब्ध कराने के विरोध में रालोद नेताओं ने कलेक्ट्रेट पर हंगामा किया। उनका आरोप है कि पढ़े-लिखे सदस्यों को भी हेल्पर उपलब्ध कराए गए हैं।

बिजनौर में जिला पंचायत अध्यक्ष पद के चुनाव के लिए मतदान से पहले खींचतान काफी रही। जहां कलक्ट्रेट में मतदान के लिए कड़ी सुरक्षा का प्रबंधन किया गया था। वहीं दोनों दल मतदान से पहले वोटर्स को अपने पाले में लाने का प्रयास कर रहे थे। ऐसे में गठबंधन की ओर से आरोप लगाए जा रहे थे कि उनके कुछ वोटर्स को बॉर्डर पर रोका जा रहा है।

आज यानी शनिवार सुबह करीब 11 बजे से मतदान हुआ और साढ़े तीन बजे तक परिणाम आ गया। बिजनौर में जिला पंचायत सदस्यों की कुल संख्या 56 हैं। भाजपा प्रत्याशी साकेंद्र प्रताप सिंह और सपा गठबंधन प्रत्याशी चरनजीत सिंह कौर के बीच कड़ा मुकाबला था।

भले ही संख्या कुछ भी कह रही हो, लेकिन सच्चाई यह है कि दोनों के बीच मुकाबला कड़ा है। मतदान से पहले दोनों ही दल जीत का दावा जरूर कर रहे हैं, लेकिन जीत किसकी होगी, यह तस्वीर अब साफ हो गई है। बिजनौर में भाजपा प्रत्याशी सकेंद्र सिंह प्रताप की जीत हुई है।

उधर, गठबंधन प्रत्याशी चरनजीत सिंह कौर ने सोशल मीडिया पर वीडियो जारी कर आरोप लगाया था कि पुलिस ने उनके पति व कुछ वोटर्स को बिजनौर बॉर्डर पर रोक लिया है। उन्होंने अधिकारियों से उन्हें छोड़ने की अपील की थी। वहीं दूसरी ओर भाजपा इसे दबाव बनाने की रणनीति बता रही थी। वहीं जिला पंचायत सदस्य सोनम के अपहरण के मामले में शहर कोतवाली में अज्ञात के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई गई है। बताया गया कि वीडियो वायरल होने के बाद रिपोर्ट में और नाम बढ़ाए जा रहे हैं।

बागपत में जिला पंचायत अध्यक्ष की कुर्सी पर कौन काबिज होगा, इसका फैसला आज हो जाएगा। रालोद की ओर से ममता देवी और भाजपा की ओर से सपा छोड़कर आई बबली देवी मैदान में हैं। दोनों ही दलों के लिए यह चुनाव प्रतिष्ठा का प्रश्न बन गया है। दोनों पार्टियों ने जीतने के लिए पूरा जोर लगा रखा है।

प्रशासन ने भी चुनाव की तैयारी पूरी कर ली है। निष्पक्ष और शांतिपूर्ण चुनाव कराने को राज्य निर्वाचन आयुक्त ने लघु उद्योग कानपुर के प्रबंध निदेशक राम यज्ञ मिश्रा को प्रेक्षक बनाया है। शुक्रवार को वह बागपत पहुंच गए और चुनाव की तैयारियों की समीक्षा की। अधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश दिए।

पश्चिमी यूपी में सात जिलों में जिला पंचायत अध्यक्ष चुनाव की वोटिंग शुरू हो गई है। भाजपा के क्षेत्रीय अध्यक्ष मोहित बेनीवाल सुबह से ही हरमन सिटी स्थित भाजपा कार्यालय पर सभी जिलों के अध्यक्ष पद के प्रत्याशियों से बात कर रहे हैं। जीतने वाले सभी प्रत्याशियों को शाम को कार्यालय पर बुलाया गया है। पश्चिमी यूपी की 14 सीटों में से सात सीटों पर भाजपा के जिला पंचायत अध्यक्ष निर्विरोध चुने जा चुके हैं। अगर इन सात सीटों पर भी भाजपा चुनाव जीतती है तो यह है एक बड़ा रिकॉर्ड होगा।

What’s your Reaction?
+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

- Advertisement -

Leave a Reply

- Advertisment -spot_imgspot_imgspot_imgspot_img

Most Popular

- Advertisment -spot_img
- Advertisment -

Recent Comments