Wednesday, September 22, 2021
- Advertisement -spot_imgspot_imgspot_imgspot_img
- Advertisement -spot_imgspot_imgspot_imgspot_img
HomeUttar Pradesh NewsShamliइनकमिंग कॉल पर करें फोकस, समस्या का करें निस्तारण: सुरेश राणा

इनकमिंग कॉल पर करें फोकस, समस्या का करें निस्तारण: सुरेश राणा

- Advertisement -
  • गन्ना मंत्री ने किया कोविड कंट्रोल एवं कमांड सेंटर का निरीक्षण

जनवाणी ब्यूरो |

शामली: प्रदेश के गन्ना विकास एवं चीनी मिलें विभाग के कैबिनेट मंत्री सुरेश राणा ने कलक्ट्रेट स्थित एकीकृत कोविड कंट्रोल एवं कमांड सेंटर का निरीक्षण किया। गन्ना मंत्री ने कमांड सेंटर पर जनपदभर से प्राप्त हो रही शिकायतों और उनके निस्तारण के संबंध में जानकारी की।

गन्ना मंत्री ने निर्देश दिए कि कमांड सेंटर पर प्राप्त होने वाली इनकमिंग कॉल पर अधिक फोकस दिया जाए। कॉल प्राप्त होते ही समस्या का त्वरित निस्तारण किया जाए।

रविावार की शाम प्रदेश के कैबिनेट मंत्री सुरेश राणा कोरोना वायरस कोविड-19 महामारी के दृष्टिगत कलक्ट्रेट में स्थापित एकीकृत कोविड कंट्रोल एंड कमांड सेंटर का औचक निरीक्षण करने पहुंचें। गन्ना मंत्री ने निरीक्षण के दौरान ड्यूटी पर तैनात प्रभारी अधिकारी से कंट्रोल रूम पर प्राप्त शिकायतों के संबंध में प्रगति जानी।

साथ ही, शिकायत रजिस्टर को चेक करते हुए निस्तारण की स्थिति भी जानी। इस दौरान जिलाधिकारी जसजीत कौर ने गन्ना मंत्री को बताया कि कंट्रोल रूम पर प्राप्त होने वाली शिकायतों का त्वरित निस्तारण किया जा रहा है। कोविड-19 के चलते होम आइसोलेट मरीजों से निरंतर फोन पर वार्ता की जाती है। साथ ही, स्वास्थ्य संबंधी दिक्कत होने पर मरीज को तुरंत सुविधा सुलभ कराई जाती है।

इस दौरान गन्ना मंत्री ने कंट्रोल रूम पर आउटगोइंग एवं इनकमिंग फोन कॉल के संबंध में जानकारी कते हुए इनकमिंग कॉल पर अधिक फोकस कर तुरंत समस्या के समाधान के निर्देश दिए। डीएम ने मंत्री को अवगत कराया कि कोविड-19 वैश्विक महामारी के चलते जनपद में संक्रमण से बचाव के लिए शहरी एवं ग्रामीण क्षेत्रों में प्रभावी रूप से सेनिटाइजेशन तथा साफ-सफाई का कार्य कराया जा रहा है।

इसके अलावा ग्रामीण क्षेत्रों में 230 एवं शहरी क्षेत्रों के लिए 170 निगरानी समिति बनाई गई हैं, सक्रिय रूप से कार्य कर रही हैं। इसके अलावा जनपद में कोरोना की चैन को तोड़ने के लिए ग्रामीण अंचलों में 904 टीम द्वारा कोरोना सिंप्टोमेटिक लोगों को चिह्नित कर उनको मेडिकल किट उपलब्ध कराई जा रही है।

इस दौरान कैबिनेट गन्ना मंत्री सुरेश राणा ने निगरानी समिति के माध्यम से जिन कोरोना सिंप्टोमेटिक लोगों को मेडिकल किट उपलब्ध कराई जा रही है, उनका हाल जानने के लिए कंट्रोल रूम के अलावा ब्लॉक वार कंट्रोल रूम स्थापित कर कर्मी तैनात किए जाने के निर्देश दिए जिससे निरंतर मॉनिटरिंग होती रहे और बेहतर रिजल्ट प्राप्त हो।

अपर जिलाधिकारी अरविंद कुमार सिंह ने मंत्री को अवगत कराया कि सभी निकायों में कंट्रोल रूम स्थापित किए गए हैं। मुख्य चिकित्साधिकारी संजय अग्रवाल ने गन्ना मंत्री को जानकारी देते हुए बताया कि आरआरटी टीम द्वारा कोरोना पॉजिटिव लोगों को घर पर जाकर मेडिकल किट उपलब्ध कराई जाती है। होम आइसोलेशन कराया जाता है और उसके बाद टीम द्वारा विजिट भी किया जाता है। गन्ना मंत्री ने कहा कि कोरोना की चेन को तोड़ने के लिए जनपद में बेहतर कार्य हो रहा है। फिर भी, संवेदनशीलता से कार्य करने की जरूरत है, जिससे जल्द से जल्द कोरोना के प्रसार को रोका जा सके।

इस दौरान जिलाधिकारी जसजीत कौर, पुलिस अधीक्षक सुकीर्ति माधव, अपर जिलाधिकारी अरविंद कुमार सिंह, एएसपी ओपी सिंह, सीएमओ संजय अग्रवाल आदि मौजूद रहे।

पैन्डेमिक पब्लिक ग्रीवेन्स कमेटी गठित

जिलाधिकारी जसजीत कौर ने उच्च न्यायालय द्वारा पारित आदेश और शासन के गृह (गोपन) अनुभाग-3 के निर्देश के अनुपालन में प्रत्येक जिले में एक तीन सदस्यीय पैन्डेमिक पब्लिक ग्रीवेन्स कमेटी बनाई है। कमेटी में जिला एवं सत्र न्यायाधीश ने अलका यादव, मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट को नामित किया गया है।

इनके अलावा तीन सदस्यीय पैन्डेमिक पब्लिक ग्रीवेन्स कमेटी में अपर जिलाधिकारी (वित्त एवं राजस्व) अरविंद कुमार सिंह, अपर मुख्य चिकित्साधिकारी डा. श्रीकान्त शर्मा शामिल किए गए हैं। उक्त समिति की मीटिंग इंटीग्रेटेड कोविड व कंट्रोल सेन्टर में आयोजित की जाएगी।

ग्रामीण क्षेत्रों की शिकायतों के निस्तारण के लिए ग्रामीण क्षेत्र के व्यक्ति सम्बन्धित उप जिलाधिकारी को सीधे जाकर शिकायत कर सकेंगे। उप जिलाधिकारी ऐसी शिकायतों को पैन्डेमिक पब्लिक ग्रीवेन्स कमेटी को निस्तारण के लिए सन्दर्भित करेंगे।

डीएम-एसपी ने किया गैस प्लांट का लिया जायजा

जिलाधिकारी जसजीत कौर एवं पुलिस अधीक्षक सुकीर्ति माधव ने कंडेला गैस प्लांट का निरीक्षण कर जायजा लिया। जिलाधिकारी ने निर्देश देते हुए कहा कि जो मरीज होम आइसोलेट हैं, ऐसे मरीजों को आधार कार्ड प्राप्त करने के पश्चात आॅक्सीजन उपलब्ध कराई जाए। उन्होंने गैस प्लांट के व्यवस्थापक को कोरोना संक्रमण को देखते हुए सरकारी और प्राइवेट हॉस्पिटल में प्राथमिकता के आधार पर आॅक्सीजन सप्लाई के निर्देश दिए। डीएम ने कहा कि जनपद में पर्याप्त मात्रा में आॅक्सीजन उपलब्ध है। गैस प्लांट व्यवस्थापक द्वारा बताया गया कि जनपद में होम आइसोलेट मरीजों को लगभग 40 से 50 मरीजों को प्रतिदिन गैस सिलेंडर उपलब्ध कराया जा रहा है।

What’s your Reaction?
+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

- Advertisement -

Leave a Reply

- Advertisment -spot_imgspot_imgspot_imgspot_img

Most Popular

- Advertisment -spot_img

Recent Comments