Saturday, June 12, 2021
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsSaharanpurहल्की बारिश और तेज आंधी से आम की फसलें बर्बाद

हल्की बारिश और तेज आंधी से आम की फसलें बर्बाद

- Advertisement -
0
  • कई जगह होर्डिंग्स गिरे, महानगर के कई मोहल्लों में बत्ती रही गुल

जनवाणी ब्यूरो |

सहारनपुर: मौसम में अचानक हो रहे बदलाव अब लोगों की मुसीबत का सबब बन चुके हैं। सोमवार रात जनपद में तेज आंधी आई, जिसके कारण किसानों की आम की फसल को काफी नुकसान पहुंचा। वहीं कई लोगों के घर के ऊपर रखे सीमेंट और टिन की चादर तक उड़ गई। होर्डिंग्स गिर गए और बिजली गुल हो गई। काफी देर बाद विद्युत आपूर्ति शुरू हुई।

मौसम इस बार किसानों की खूब परीक्षा ले रहा है। हर दो से तीन दिन में मौसम करवट बदल रहा है। कभी आंधी, तो कभी बारिश और कभी ओले पड़ने का खामियाजा लोगों को भुगतना पड़ रहा है। सोमवार को तीखी धूप के साथ गर्मी भी अधिक थी, जिससे बारिश होने का अंदाजा लोग लगाने लगे थे। उनका यह अंदाजा गलत भी नहीं हुआ और शाम होते ही आसमान में काले बादलों ने डेरा डाल दिया।

रात में गरज के साथ ही आसमान में तेज चमक होने लगी। तेज हवा के झोंके चलने लगे। हालांकि बारिश बहुत देर तक तो नहीं हुई लेकिन तूफान की शक्ल में चली तेज हवाओं ने किसानों की आम और सब्जी की फसलों को काफी नुकसान पहुंचाया। किसान मायूस होकर अपनी इन फसलों को बर्बाद होता देखने को विवश है। इस बार आम की फसल अच्छी आई थी।

जिसे देख इसकी पैदावार अच्छी होने की संभावना जताई जा रही थी। लेकिन कुछ दिन पहले पड़े ओलों ने आम की फसल को काफी नुकसान पहुंचाया। इसके बाद बाकी कसर रविवार की देर शाम आई आंधी ने पूरी कर दी। हालांकि आम जनमानस को इस आंधी के बाद गर्मी से काफी राहत मिली।

सीमेंट शीट उड़ी, कई लोग बाल-बाल बचे

जनपद के छुटमलपुर क्षेत्र में रविवार की देर शाम क्षेत्र में तेज आंधी के साथ पानी भी गिरा। हालांकि पानी कम गिरा लेकिन आंधी के कारण कई लोगों के छप्पर और सीमेंट व लोहे की चादरें जो उन्होंने अपने घरों के ऊपर लगा रखी थीं, उड़ गईं। कई जगह होर्डिंग गिर गए और बत्ती गुल हो गई।

महानगर में करीब चार घंटे तक कट रहा। आवास विकास, प्रदुमन नगर, नुमाइश कैंप आदि मोहल्लों में बिजली देर तक नहीं आई। आंधी ने काफी नुकसान पहुंचाया। हवा का झोंका इतना तेज था पेड़ की डालियां टूटकर गिर गई। इस बार आम की फसल बहुत अच्छी थी लेकिन इस आंधी में पेड़ की डालियां टूटने से आम की काफी फसल बर्बाद हो गई। जिसके कारण इस बार आम की पैदावार कम रहने और इसके दाम अधिक रहने की संभावना बढ़ गई है। बेहट में ज्यादा नुकसान हुआ।

What’s your Reaction?
+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

- Advertisement -

Leave a Reply

- Advertisment -spot_img

Most Popular

- Advertisment -

Recent Comments