Sunday, May 16, 2021
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsMeerutनिजी अस्पताल संचालकों की मनमानी

निजी अस्पताल संचालकों की मनमानी

- Advertisement -
0
  • जिला सहकारी बैंक के चेयरमैन का आरोप, दलाल कर रहे लाखों लेकर मरीजों को भर्ती
  • मुख्यमंत्री एवं कमिश्नर से करेंगे निजी अस्पताल संचालकों की शिकायत

जनवाणी संवाददाता |

मोदीपुरम: देश भर में बढ़ रही कोविड की बीमारी को देखते हुए सरकार द्वारा बेहद सतर्कता बरती जा रही है। निजी अस्पतालों द्वारा मरीजों को भर्ती न करने का मामला सरकार के संज्ञान में आने के बाद उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा निजी अस्पतालों की सूची जारी की गई है और निर्देश दिए गए हैं कि मरीजों को तुरंत भर्ती कराकर उन्हें उपचार दिया जाए, लेकिन उत्तर प्रदेश सरकार के इन आदेशों को निजी अस्पताल हवा में उड़ाते हुए नजर आ रहे हैं। अगर देखा जाए तो तीन निजी अस्पताल ऐसे हैं जो स्थानीय मरीजों को भर्ती नहीं कर रहे बल्कि इसकी एवज में बाहरी मरीजों को अस्पताल में भर्ती किया जा रहा है।

जिला सहकारी बैंक के चेयरमैन मनिंदर पाल सिंह का कहना है कि निजी अस्पताल मनमानी कर रहे हैं। दलालों के कहने पर मरीजों को भर्ती कर रहे हैं। स्थानीय मरीजों को निजी अस्पतालों में अहमियत नहीं दी जा रही है। शनिवार को वह मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ एवं कमिश्नर को पत्र भेजकर निजी अस्पतालों के संचालकों के खिलाफ कार्रवाई की मांग करेंगे मनिंदरपाल सिंह का आरोप है कि दौराला में स्थित आर्यव्रत मोदीपुरम में स्थित एसडीएस ग्लोबल और कंकरखेड़ा में स्थित कैलाशी अस्पताल में मरीजों को भर्ती नहीं किया जा रहा है।

सरकार द्वारा प्रत्येक निजी अस्पताल में बेड अलर्ट किए हुए हैं, लेकिन उसके बाद भी अस्पताल संचालक मनमानी कर रहे हैं। स्थानीय मरीजों को अहमियत न देकर भारी जनपदों से आने वाले मरीजों को अस्पताल में लाखों रुपये के पैकेज लेकर भर्ती कर रहे हैं।

शुक्रवार को उन्होंने एसडीएस ग्लोबल अस्पताल और आनंद नर्सिंग होम में कई मरीजों को भर्ती कराने के लिए अस्पताल संचालकों से बात की, लेकिन मरीजों को भर्ती नहीं किया गया बल्कि दलालों के माध्यम से लाखों रुपये के पैकेज लेकर अन्य मरीजों को भर्ती कर दिया गया। मनिंदरपाल सिंह का आरोप है कि अस्पताल संचालक मनमानी कर रहे हैं। इनके खिलाफ कार्रवाई की मांग को लेकर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ एवं कमिश्नर को पत्र भेजकर कार्रवाई की मांग की जाएगी।

क्या कहना है इनका

मंडल के सभी निजी अस्पतालों में शनिवार से चेकिंग अभियान चलाया जाएगा कुछ अस्पताल संचालकों की शिकायत आई है अगर चेकिंग के दौरान इस तरह की शिकायत मिलती है उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी पूरा प्रकरण जिलाधिकारी महोदय के संज्ञान में है जिला सहकारी बैंक के चेयरमैन मनिंदर पाल सिंह ने इस तरह की उनसे शिकायत की है जांच कराकर कार्रवाई का आश्वासन दिया गया है।                                              -डा. राजकुमार अपर निदेशक स्वास्थ्य

एसडीएस ग्लोबल अस्पताल से मैंने किन्हीं कारणों के चलते अपने आप को अलग कर लिया है। मनिंदरपाल सिंह का मरीज को भर्ती कराने के लिए कई बार फोन आया। मैंने प्रयास किया, लेकिन अस्पताल मैनेजर द्वारा अपने फोन बंद कर लिए गए। जिसके चलते मैं मरीज को भर्ती नहीं करा पाया। इन्हीं कारणों के चलते मैं अस्पताल से अलग हो गया हूं।
                                                     -डा. जेवी चिकारा डायरेक्टर, एसडीएस ग्लोबल एवं भूतपूर्व अध्यक्ष आईएमए

What’s your Reaction?
+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -spot_img

Most Popular

- Advertisment -

Recent Comments