Friday, July 26, 2024
- Advertisement -
Homeसंवादस्वास्थ्य सेवाओं से वंचित ग्रामीण महिलाएं

स्वास्थ्य सेवाओं से वंचित ग्रामीण महिलाएं

- Advertisement -

Samvad 1


puja gupptaअस्पतालों में प्रसव में पिछले 15 साल में रिकॉर्ड बढ़ोतरी हुई है, मगर फिर भी मातृ व नवजात मृत्यु का सिलसिला नहीं थमा है। गर्भवती और धात्री महिलाएं गुणवत्तापूर्ण स्वास्थ्य देखभाल से बुरी तरह वंचित हैं। उनमें से कई स्थानीय आंगनवाड़ी या स्वास्थ्य केंद्र में कुछ बुनियादी सेवाएं (जैसे टेटनस इंजेक्शन और आयरन की गोलियां) प्राप्त करते हैं, लेकिन उन्हें बुनियादी सुविधाओं से बहुत कम मिलता है। दर्द या खर्च या दोनों के मामले में छोटी बीमारियां आसानी से एक बड़ा बोझ बन जाती हैं। प्रसव के समय, जटिलताएं होने पर अक्सर महिलाओं को निजी अस्पतालों में भेजा जाता है। लेबर रूम में असभ्य, शत्रुतापूर्ण या क्रूर व्यवहार की भी रिपोर्ट करता है। घर के करीब गुणवत्तापूर्ण स्वास्थ्य देखभाल के आमूल-चूल विस्तार की तत्काल आवश्यकता है।

भारत की एक बड़ी आबादी गांव में निवास करती है। लेकिन आजादी के 70 से अधिक वर्षों के बाद भी ग्रामीण लोगों की स्थिति दयनीय है। उनके पास उचित स्वास्थ्य देखभाल सुविधाओं, स्वच्छ परिस्थितियों, शिक्षा, संचार, और बहुत कुछ का अभाव है। सबसे ज्यादा प्रभावित बच्चे और माँ हैं।

उचित स्वास्थ्य देखभाल सुविधाओं की कमी, अस्वच्छ स्थिति, उचित आहार की अनुपलब्धता आदि बच्चों और माँ के स्वास्थ्य को प्रभावित करते हैं। ग्रामीण भारत में एक और खतरनाक स्थिति गर्भावस्था और बच्चे के जन्म की बीमारी और मौतों की प्रबलता है।

ग्रामीण भारत के कुछ हिस्सों में बाल विवाह का प्रचलन है। लड़कियों की शादी बहुत कम उम्र में कर दी जाती है और जल्दी गर्भधारण का सामना करना पड़ता है। न उन्हें ठीक से खाना दिया जाता है और न ही देखभाल। वे अपनी गर्भावस्था में देर तक शारीरिक रूप से कड़ी मेहनत करती हैं, नियमित जांच-पड़ताल (प्रसवपूर्व और प्रसवोत्तर जांच-पड़ताल) के लिए डॉक्टरों के पास नहीं जाती हैं, और अधिकांश प्रसव घर पर ही किए जाते हैं।

इन सभी से जच्चा-बच्चा दोनों की जान को खतरा है। कई मामलों में, बच्चे जन्म संबंधी जटिलताओं के कारण बीमारियाँ विकसित कर लेते हैं और यहाँ तक कि उनकी मृत्यु भी हो जाती है। भारत के ग्रामीण और आदिवासी क्षेत्रों में रहने वाले लोगों की आम तौर पर कम आय होती है।

उनमें से ज्यादातर गरीबी रेखा के नीचे आते हैं। पैसे के अभाव में बच्चों और माँ को सही आहार नहीं मिल पाता और वे कुपोषित हो जाते हैं, जो कई बीमारियों की जड़ है। वे अस्वास्थ्यकर परिस्थितियों में रहने के लिए मजबूर हैं। वे महंगे आधुनिक उपचार और दवाएं खरीदने में असमर्थ हैं।

ग्रामीण लोगों में साक्षरता दर बहुत कम है। इसलिए, उनमें जागरूकता की कमी है जो एक स्वस्थ जीवन के लिए महत्वपूर्ण है। उदाहरण के लिए, लोगों को इस बात का एहसास नहीं है कि कम उम्र में शादी करने से लड़की और उसके होने वाले बच्चे के स्वास्थ्य पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है; वे स्वच्छता और स्वस्थ आदतों आदि के महत्व को नहीं समझते हैं।

घरों में गर्भावस्था की विशेष आवश्यकताओं-अच्छा भोजन, अतिरिक्त आराम और स्वास्थ्य देखभाल पर कितना कम ध्यान दिया जाता है। अक्सर, परिवार के सदस्यों या यहां तक कि स्वयं महिलाओं को भी इन विशेष आवश्यकताओं के बारे में बहुत कम जानकारी होती है।

उदाहरण के लिए, यूपी में 48 प्रतिशत गर्भवती महिलाओं और 39 प्रतिशत महिलाओं को पता ही नहीं होता है कि गर्भावस्था के दौरान उनका वजन बढ़ा है या नहीं। इसी तरह, गर्भावस्था के दौरान और बाद में अतिरिक्त आराम की आवश्यकता के बारे में बहुत कम जागरूकता है।

जो परिवार सक्षम होते हैं, उन घरों की गर्भवती महिलाएं प्राईवेट अस्पताल में जाकर ये जांचें करा लेती हैं, लेकिन मजदूर तबके की महिलाओं को जांच की जानकारी भी नहीं होती है और होती भी है तो उन्हें स्वास्थ्य सुविधाएं मुहैया कम होती है क्योंकि उन्हें स्वयं भी स्वास्थ्य संबंधी सुविधाओं की जानकारी नहीं होती है। गर्भवती महिलाओं की प्रसव पूर्व देखभाल इसलिए जरूरी है क्योंकि केवल 30.3 फीसदी भारतीय महिलाएं ही 100 दिन या इससे कुछ दिन ज्यादा आयरन और फोलिक एसिड गोलियों का सेवन करती हैं।

जिसकी वजह से 50.3 फीसदी गर्भवती महिलाओं और 58.4 फीसदी बच्चों में खून की कमी है। ये कमी मातृ मृत्यु दर और जन्म के समय शिशु मृत्यु दर एक मुख्य वजह है। गर्भवती महिला के शुरुआत के तीन महीने में ब्लड टेस्ट की जांचे जैसे-एचआईवी, ब्लड शुगर, थाईराइड हो जाना चाहिए। इस समय हुए अल्ट्रासाउंड से यह पता चलता है कि बच्चा ट्यूब में है या नहीं।

पांचवे महीने में दूसरा अल्ट्रासाउंड होता है जिसमें बच्चे के शरीर के अंगों और उसके मानसिक विकास के बारे में पता चलता है। पहला टिटनेस का टीका तीन महीने तक और दूसरा पांचवे महीने में लग जाना चाहिए। 26 हफ्ते में एक ब्लड शुगर जांच हो जाए जिससे बच्चे और माँ में डायबिटीज की संभावना के बारे में पता चल सके।

साढ़े आठ महीने में एक और अल्ट्रासाउंड होता है जिससे यह पता चलता है कि बच्चा किस अवस्था में है, पैदा होने में कोई मुश्किल तो नहीं है। सुरक्षित मातृत्व का आशय यह सुनिश्चित करना है कि सभी महिलाओं को गर्भावस्था और बच्चा पैदा होने के दौरान आवश्यक जानकारी की सुविधा प्रदान की जाए।

प्रसव पूर्व देखभाल का संबंध गर्भवती महिलाओं को दी जाने वाली स्वास्थ्य की जानकारी और नियमित चिकित्सा जांच से होता है जिससे कि प्रसव सुरक्षित हो सके। मातृत्व अस्वस्थता और मातृ मृत्यु के मामलों की पहले ही जांच और चिकित्सा कर इन मामलों में कमी लायी जा सकती है।


janwani address 9

What’s your Reaction?
+1
0
+1
2
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Recent Comments