Wednesday, May 25, 2022
- Advertisement -
- Advertisement -spot_img
HomeUttar Pradesh NewsMeerutबोले सीएम, धन्य हुआ क्रांतिधरा पर आकर

बोले सीएम, धन्य हुआ क्रांतिधरा पर आकर

- Advertisement -
  • शहीद स्मारक पर मंगल पांडेय की फिल्म देखकर मुख्यमंत्री हुए भावुक, निकले आंसू

जनवाणी संवाददाता |

मेरठ: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ क्रांतिधरा पर भाव-विभोर दिखाई दिये। सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि मैं क्रांतिधरा पर पहुंचकर धन्य हो गया हूं। क्रांति की चिंगारी मेरठ से उठी, जो पूरे भारत में आग बन गई। ब्रिटिश हूकुमत के खिलाफ क्रांतिधरा के लोगों ने बिगुल फूंका, ऐसे महान क्रांतिकारियों को मैं बार-बार नमन करता हूं। क्रांति दिवस पर क्रांतिधरा पर मुझे आने का मौका मिला, मैं धन्य हो गया हूं।

यही नहीं, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शहीद स्मारक पर स्थित विजिटर बुक में भी लिखा है कि क्रांति दिवस पर मेरठ में आकर भारत-माता के अमर सपूतों को श्रद्धाजंलि देकर गौरव की अनुभूति हुई हैं। देश के प्रथम स्वतंत्रता संग्राम के सभी अमर शहीदों को कोटि-कोटि से नमन करता हूं। इस तरह से सीएम शहीदों की गाथा को सुनकर भी भाव विभोर हो गए थे। उनकी आंखें आसुओं से डबडबा आई थी।

10 मई 1857 की क्रांति को स्मरण कर सीएम योगी आदित्यनाथ के चेहरे के भाव भी बदल गए। जिस वक्त मुख्यमंत्री शहीद स्मारक पर अमर शहीद मंगल पांडेय की प्रतिमा पर पुष्पांजलि अर्पित करने के बाद फिल्म देख रहे थे, उस वक्त वो भावुक हो गए और उनकी आंखों भर आई। उन्होंने कहा भी क्रांतिधरा पर आकर उनका जीवन धन्य हो गया।

प्रथम स्वतंत्रता संग्राम 1857 की 165वीं वर्षगांठ के अवसर पर शहीद स्मारक पर आयोजित कार्यक्रम में मुख्यमंत्री द्वारा शहीद स्मारक पर अमर शहीदों की याद में स्थापित अमर जवान ज्योति, शहीद स्मारक एवं शहीद मंगल पांडेय की प्रतिमा पर पुष्पांजलि अर्पित करते हुए नमन किया। इस अवसर पर 1857 की क्रांति पर बने संग्राहलय का अवलोकन किया तथा शहीद स्मारक परिसर में 50 लाख की लागत से बने मल्टी परपज हॉल का फीता काटकर लोकार्पण किया।

उन्होंने 1857 की क्रांति गाथा से आमजन को अवगत कराने के लिए शहीद स्मारक पर बनाये गये लाइट एवं साउंड शो का बटन दबाकर लोकार्पण किया। उन्होंने कहा कि इस शो के माध्यम से 1857 की क्रांति एवं अमर शहीदों के बलिदान की गाथा को सुनाया व दिखाया जा सकेगा। मुख्यमंत्री द्वारा बाबा औघड़नाथ शिव मन्दिर में शिवलिंग पर जलाभिषेक किया तथा मन्दिर परिसर का निरीक्षण किया।

शहीद मंगल पांडे की फिल्म देखकर भावुक हुए देश को अंग्रेजों से आजाद कराने के लिए 1857 की क्रांति मेरठ की धरती से ही शुरू हुई थी। यही वह अलख थी, जिसने पूरे देश में आजादी के लिए बिगुल फुंका था। 1857 की क्रांति के नाम से इतिहास के पन्नों में दर्ज इस आंदोलन के नायक शहीद मंगल पांडे थे। सीएम मंगल पांडे के जीवन व उनके द्वारा देश की आजादी के लिए किए गए आंदोलनों के साथ जिस तरह अपने जीवन को अर्पित किया, उस पर बनी फिल्म देखकर सीएम भावुक हो गए। मंगल पांडे को याद करते हुए उनकी आंखों भर आयी। हालांकि उन्होंने जल्द ही खुद को संभाला और खुद को संयमित किया।

कमिश्नर-डीएम की सीएम ने थपथपाई पीठ

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के दौरे से अफसर अलर्ट दिखे। अफसरों की मंडलीय विकास कार्यों और कानून व्यवस्था को लेकर मुख्यमंत्री मीटिंग लेने वाले थे, लेकिन अचानक समीक्षा मीटिंग रद कर दी गई। वजह रही 50 मिनट विलंब से क्रांतिधरा पर सीएम का आगमन होना। बाकी कार्यक्रम घोषित समयानुसार ही संचालित हुए।

सिर्फ औघड़नाथ मंदिर का एक कार्यक्रम अवश्य सूची में बढ़ा, बाकी घोषित कार्यक्रमों के अनुसार ही सीएम पहुंचे। सीएम के आगमन को लेकर जिस तरह से प्रशासन ने तैयारी की थी, उसे देखकर सीएम गदगद नजर आये। सीएम ने शहीद स्मारक स्थल पर पांच बार कमिश्नर सुरेन्द्र सिंह से बातचीत की। उनसे बार-बार सीएम बुलाकर क्या बात कर रहे थे, यह तो किसी को पता नहीं चला, लेकिन इससे साफ अंदाजा लगाया जा सकता है कि सीएम प्रशासन से खुश थे।

शहीद स्मारक से संबंधित बातचीत कमिश्नर के साथ सीएम कर रहे थे। कार्यक्रम के दौरान सीएम पांच बार कमिश्नर को बुलाते है और एक-एक मिनट बात करते हैं। दिशा-निर्देश दिये गए, फिर कमिश्नर ने सीएम से थोड़ी दूरी बना ली। प्रशासनिक अफसरों की कार्यशैली को आखिर सीएम क्लीन चिट के साथ ही पीठ भी थपथपा गए।

कमिश्नर सुरेन्द्र सिंह और डीएम दीपक मीणा के चेहरे पर किसी तरह का तनाव नहीं था। दोनों अधिकारी खुश दिखाई दिये। जिस तरह से सीएम का सरकारी कार्यक्रम आने के बाद से प्रशासनिक अफसरों में खौफ देखा जा रहा था, लेकिन कमिश्नर और डीएम को सीएम ने खास तव्वजो दी।

मंडलीय बैठक रद भले ही कर दी गई हो, लेकिन प्रशासनिक अफसरों के काम से सीएम संतुष्ट नजर आये। शहीद स्मारक ही नहीं, बल्कि रैपिड रेल का निर्माण कार्य जब देखने के लिए सीएम पहुंचे तो पूरी जानकारी कमिश्नर से ली गई। कमिश्नर उनके साथ-साथ मौजूद रहे। आला अफसरों को सीएम ने बधाई भी दी, जिसके बाद से तो अधिकारियों के चेहरे खिल गए।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
2
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -
spot_img
- Advertisment -
- Advertisment -

Most Popular

- Advertisment -
- Advertisment -spot_img
- Advertisment -

Recent Comments