Wednesday, May 25, 2022
- Advertisement -
- Advertisement -spot_img
HomeUttar Pradesh NewsMeerutसंत महंत हो सकता है मुख्यमंत्री नहीं: स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद

संत महंत हो सकता है मुख्यमंत्री नहीं: स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद

- Advertisement -
  • सीएम योगी पर सादा निशाना मुख्यमंत्री बनने के बाद गोरखनाथ मठ के महंत पद से देना चाहिए था इस्तीफा

जनवाणी संवाददाता |

मेरठ: धर्म के क्षेत्र में राजनीतिक नेताओं का दखल बढ़ता जा रहा है। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ गोरखपुर के प्रसिद्ध गोरखनाथ मंदिर के महंत हैं, जिनको मुख्यमंत्री की कुर्सी पर बैठने के बाद महंत के पद से इस्तीफा दे देना चाहिए था। क्योंकि भारत देश में पहले से ही प्रथा रही है कि जो गुरु रहा है, वह राजा नहीं हो सकता। मगर उन्होंने ऐसा नहीं किया। क्या महंत की कुर्सी पर बैठने योग्य कोई व्यक्ति उनको आज तक नहीं मिला।

यह बात गुरुवार को मेरठ के राज राजेश्वरी मंदिर में पहुंचे ज्योतिष पीठाधीश्वर जगतगुरु शंकराचार्य स्वामी स्वरुपानंद सरस्वती महाराज के उत्तराधिकारी शिष्य स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद सरस्वती ने एक पत्रकार वार्ता के दौरान कही। उन्होंने कहा कि एक संत महंत हो सकता हैं,लेकिन मुख्यमंत्री नहीं हो सकता। क्योंकि वह जब एक संवैधानिक पद पर बैठता है तो उसे धर्म निरपेक्षता की शपथ लेनी पड़ती हैं, ऐसे में वह व्यक्ति धार्मिक कैसे रह सकता है।

खिलाफत का यह काम मुसलमानों के यहां होता है। वहां धर्माचार्य राजा होता है। क्या धर्म और राजनीति के बीच कोई कनेक्शन हो सकता है। हिंदू धर्म खतरे में है सवाल करने पर उन्होंने कहा कि यह सब राजनीतिक लोगोें के कारण अफवाह फैलाई जा रही है। क्योंकि लोगों का काम हो गया है कि घृणा फैलाओं और वोट पाओं। लोगों को जागरुक होने की जरुरत है।

हिंदू और मुस्लिम धर्म के बारे में उन्होंने कहा कि आप काशी चले जाओं आधा मंदिर दिख रहा है आप पीछे से फोटो लेंगे मंदिर आगे से फोटो लेंगे मस्जिद एक ही बिल्डिंग है और मंदिर भाग पुराना दिख रहा है। ऐसे में कोई भी मुस्लिम भाई जो वहां नमाज पढ़ने जाता है तो क्या उसका दिख नहीं रहा है कि यह मंदिर है और हमारे पूर्वजों ने इसकों तोड़कर मस्जिद बना दिया है।

ऐसे में तो नीचा दिखाने का एक सूत्रिय कार्यक्रम सभी जगह चल रहा है। आज लोगों के बीच नफरत पैदा करने का काम किया जा रहा है। इसलिए सभी को जागरूक होने की जरूरत है, क्योंकि सभी को अपने आत्म गौरव की रक्षा करने का अधिकार है।

ताजमहल का भूगर्भ खुलवा दीजिए

बद्रीनाथ धाम से मेरठ पहुंचे स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद सरस्वती ने कहा कि ताजमहल का भूगर्भ खुलवा दीजिए। सारे कपाट बंद कर क्यों सब कुछ छिपाया जा रहा है। वहां पर कैमरा जाए और पूरे देश को दिखाया जाए वहां क्या है। शोध करने के लिए हम ताजमहल में जाएंगे। इसके लिए लंदन या पेरिस जाने की जरूरत नहीं है। शोध जाने के लिए न्यायालय से अनुमति मिलनी चाहिए।

हनुमान जन्मोत्व की शोभायात्रा पर पत्थरबाजी के सवाल पर स्वामी ने कहा कि इस्लाम में पत्थर मारना एक सजा है। यह इस्लाम की धार्मिक परंपरा है।अब वह मयार्दा पुरुषोत्तम श्रीराम के ऊपर पत्थर मार रहे हैं, ऐसा करके हमें दुखी किया जा रहा है। भारत की भूमि पर रहते हो और प्रणाम बाहर देश की भूमि को करते हो। सऊदी अरब को माथा झुकाते हो। भारत में ऐसा नहीं चलेगा।

10 हजार अभिभावक बच्चों को पढ़ाएंगे

स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद सरस्वती ने बताया कि उनके ओर से एक चर्चा की जा रही है। जिसके तहत दस हजार अभिभावक दस हजार बच्चों को पढाएंगे। यानि की एक व्यक्ति एक बच्चे का खर्च उठाएगा और हर शहर में 108 बच्चों को पढ़ाने के लिए आश्रम भी विकसित किए जाएंगे। ऐसे में उन बच्चों को शिक्षा के साथ ही भोजन और वस्त्र भी मिल सकेंगे। कुलपति शब्द पर बोलते हुए महाराज ने कहा कि इस शब्द का प्रयोग हमारे देश में प्राचीनकाल से हो रहा है।

मगर आज जगह-जगह विवि बना उनके मुखिया को कुलपति बना दिया गया है। मगर उनका शिक्षा की ओर पूरी तरह से ध्यान नहीं है तो आज की तारीख में कोई भी कुलपति नहीं है। इस समय में एक सच्चे कुलपति की जरुरत है जिसके लिए काशी में जगतगुरु शंकराचार्य स्वामी स्वरुपानंद सरस्वती महाराज के नेतृत्व में एक गुरुकुल की स्थापना होने जा रही है। जिसका नाम होगा दस हजार अभिभावक दस हजार बच्चे।

हिंदू मजदूरों की हो रही है कमी

अविमुक्तेश्वरानंद सरस्वती ने कहा कि हिंदुओं में एक या दो संतान के बाद लोग बच्चे नहीं करते हैं और मुस्लिम परिवारों में एक व्यक्ति के ही 4 से 5 बच्चे हैं। देखने में आ रहा है कि हिंदू मजदूरों की संख्या भी कम होती जा रही है। ऐसे में मंदिर आदि के निर्माण कार्य में सरकार मुसलमानों को लगा रही है। जबकि पहले हिंदू मजदूर मंदिर आदि का निर्माण किया करते थे तब एक-एक र्इंट राम का नाम लेकर लगाई जाती थी, लेकिन आज र्इंट पर धूक लगाकर मंदिर का निर्माण किया जा रहा है।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
2
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Leave a Reply

spot_img
- Advertisment -
- Advertisment -

Most Popular

- Advertisment -
- Advertisment -spot_img
- Advertisment -

Recent Comments