Sunday, July 25, 2021
- Advertisement -
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsBaghpatआंधी-बारिश ने मचाया कहर, मकान व दुकानें गिरी

आंधी-बारिश ने मचाया कहर, मकान व दुकानें गिरी

- Advertisement -
  • सोमवार की रात आयी बारिश व आंधी से कई स्थानों पर गिरे पेड़, लाखों रुपये का नुकसान
  • मकान के नीचे दबने से परिवार बाल-बाल बचा, पीड़ितों ने मुआवजे की मांग की

जनवाणी संवाददाता |

बागपत: सोमवार की देर रात को आंधी ने जमकर कहर बरपाया और उसके बाद आयी बारिश ने मौसम को पूरी तरह से ठंडा कर दिया। बारिश से जहां बाग मालिकों को नुकसान पहुंचा वहीं किसानों की फसल को •ाी काफी नुकसान हुआ। आंधी के कारण बागपत में दुकानें गिर गयी तो कई स्थानों पर मकान गिर गये, जिससे परिवार घायल होने से बाल-बाल बचे। आंधी के कारण लोगों को काफी नुकसान हुआ है और पीड़ितों ने प्रशासन से मुआवजा दिलाने की मांग की।

सोमवार की देर रात ग्यारह बजे के करीब आंधी ने अपना रूद्र रूप दिखाते हुए कहर बरपा दिया और आंधी के आते ही बिजली भी भाग गई। कई घंटे चली आंधी के कारण पेड, मकान व दुकानों तक गिर गयी और आवागमन पूरी तरह से बाधित हो गया। आंधी के बाद आयी बारिश ने भी अपना कहर बरपाया और बारिश की वजह से मौसम भी पूरी तरह से ठंडा हो गया।

बागपत के कोर्ट रोड निवासी शकील अहमद व सहजाद ने बताया कि उनकी पीडब्ल्यूडी गेस्ट हाउस के बराबर में पांच भाईयों की करीब 10 बीघा से अधिक जमीन है। उक्त जमीन पर उन्होंने आठ दुकाने बनाई हुई थी, जो देर रात्रि आए तेज तूफान व बारिश में गिरकर मलबे के ढेर में बदल गई, जिससे उनका लाखों का नुकसान हुआ। पीड़ितों ने प्रशासन से मुआवजा की मांग की। आंधी का रूद्र रूप देखकर हर किसी के अंदर बेचेनी हो गयी थी, क्योंकि इससे मकान गिरने तक का खतरा पैदा हो गया था।

चांदीनगर: आंधी व बारिश से घर की दीवार गिरी

पांची निवासी उमरदीन पुत्र मेहरदीन सोमवार रात अपने परिवार के साथ घर पर सोया हुआ था। देर रात तेज आंधी व बारिश से उसके घर की दीवार गिर गयी, जिसमे दीवार के किनारे बंधे मवेशी व पास में सो रहे परिजन बाल बाल बच गए। लेकिन दीवार के पास बोरी में रखे खल, चना व गेंहू खराब हो गए, जो लगभग 10 हजार रुपयों की कीमत का था। पीड़ित ने प्रशासन से मुआवजा दिलाने की मांग की।

खेकड़ा: बारिश से गिरे दर्जनों पेड

सोमवार देर रात में जोरदार बारिश के साथ आंधी आई। देर रात आई आंधी ने तबाही मचा दी। जिसके चलते दर्जनों पेड़ उखड़ गए। यही नहीं बिजली के खम्बे टूट गए। घरों से सामान उड़कर दूसरे स्थानों पर जा गिरा। आंधी के चलते गिरे पेडों के कारण मार्ग पर अवरुद्ध हो गए। पेड़ हटने के बाद ही मार्गों से आवागमन सुचारू हो सका। वहीं आंधी के चलते टूटे हुए खम्बों के कारण क्षेत्र की विद्युत आपूर्ति पूरी तरह से चरमरा गई। देर शाम तक विद्युत आपूर्ति बहाल नहीं हो सकी।

What’s your Reaction?
+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

- Advertisement -

Leave a Reply

- Advertisment -spot_imgspot_imgspot_imgspot_img

Most Popular

- Advertisment -spot_img
- Advertisment -

Recent Comments