Monday, June 14, 2021
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsBijnorऑल टीचर्स एंप्लाइज वेलफेयर एसोसिएशन (अटेवा)की वर्चुअल बैठक

ऑल टीचर्स एंप्लाइज वेलफेयर एसोसिएशन (अटेवा)की वर्चुअल बैठक

- Advertisement -
+1
  • बैठक में वेतन से काटा गया 10 प्रतिशत अंशदान भी सेवा काल में मृत्यु उपरान्त मिलने की मांग की

जनवाणी संवाददाता |

नगीना: ऑल टीचर्स एंप्लाइज वेलफेयर एसोसिएशन (अटेवा) उत्तर प्रदेश जनपद शाखा बिजनौर के पूर्व जिलाध्यक्ष रजनीश कुमार की अध्यक्षता एवं जिलाध्यक्ष गर्वित चौधरी के संचालन में वर्चुअल बैठक हुई। बैठक को संबोधित करते हुए प्रदेश उपाध्यक्ष चंद्रहास सिंह ने कहा कि शिक्षक एवं कर्मचारियों के वेतन से प्रतिमाह 10 प्रतिशत अंशदान नवीन पेंशन के अंतर्गत काटा जाता है।

यदि शिक्षक एवं कर्मचारी की सेवा काल में मृत्यु हो जाती है तो राज्य सरकार के शासनादेश 6 अक्टूबर 2016 के आधार पर उनके परिवार को पुरानी पेंशन का लाभ तो दिया जाता है लेकिन वेतन से काटे जाने वाली 10% कटौती की धनराशि आश्रित परिवार को नहीं दी जाती है।

संपूर्ण जमा धनराशि सरकार जप्त कर लेती है जो बिल्कुल भी न्याय संगत नहीं है। केंद्र सरकार ने इस विसंगति को दूर करते हुए 30 मार्च 2021को शासनादेश जारी कर केंद्रीय शिक्षक एवं कर्मचारियों के मरणोपरांत उनके परिवार को वेतन से की गई कटौती की संपूर्ण राशि वापस देने का लाभ दिया गया है।

उत्तर प्रदेश सरकार को भी शिक्षक एवं कर्मचारी हित में केंद्र सरकार के समान शासनादेश जारी करना चाहिए। जिससे प्रदेश के तमाम शिक्षक एवं कर्मचारियों के परिवार को इसका लाभ मिल सके। पूर्व जिला अध्यक्ष रजनीश कुमार ने कहा कि अटेवा के संघर्ष की बदौलत पुरानी पेंशन बहाली का मुद्दा शून्य से शिखर पर पहुंचा जिसकी बहाली के लिए संगठन अंत तक संघर्ष करता रहेगा।

जिलाध्यक्ष गर्वित चौधरी ने कहा कि आटेवा पुरानी पेंशन बहाली के लिए संकल्पित है पुरानी पेंशन बहाली तक संघर्ष जारी रहेगा। हमे संगठन को ओर अधिक मजबूत बनाते हुए न्याय पंचायत स्तर तक संगठन का गठन करना होगा। बैठक में महिला विंग की जिलाध्यक्ष कामिनी दिवाकर, जूनियर शिक्षक संघ के ब्लॉक अध्यक्ष यशपाल सिंह, जिला सह संयोजक कुलदीप चौधरी, कुसुम रानी, शबाना, रुखसाना जैदी, नरेंद्र सिंह रावत, जुगल किशोर, अर्चना धीमान, प्रदीप कुमार वर्मा, नवेद, रिहान अली, अजय पाल, अरुण कुमार, सुनील कुमार, उमेश राजपूत, कुलदीप कुमार, अनिल त्यागी व रविन्द्र कुमार आदि ने विचार व्यक्त किए।

What’s your Reaction?
+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

- Advertisement -

Leave a Reply

- Advertisment -spot_img

Most Popular

- Advertisment -

Recent Comments