Sunday, September 24, 2023
HomeUttar Pradesh NewsMeerutरोडवेज की पिंक बसों को दौड़ाएंगी महिला चालक

रोडवेज की पिंक बसों को दौड़ाएंगी महिला चालक

- Advertisement -
  • मेरठ समेत प्रदेश के विभिन्न परिक्षेत्रों से महिला 
  • यात्रियों के लिए परिवहन निगम शुरू करेगा सेवा
  • महिला चालक को प्रशिक्षण के साथ-साथ स्टाइपेंड और नौकरी देने की कार्ययोजना तैयार
जनवाणी संवाददाता |
मेरठ: आने वाले समय में कुछ सुधारों के साथ पिंक बस सेवा फिर संचालित की जा सकेगी। चरणबद्ध ढंग से लागू की जाने वाली इस परियोजना के प्रथम चरण में हर परिक्षेत्र से महिला चालकों को प्रशिक्षण देकर नियुक्ति की प्रक्रिया शुरू की गई है। मेरठ परिक्षेत्र के नोडल अधिकारी सेवा प्रबंधक लोकेश राजपूत ने इस योजना के बारे में विस्तार से जानकारी साझा की। उन्होंने बताया कि पूर्व में संचालित की जाने वाली पिंक बस सेवा को निगम एक बार फिर से शुरू करने की योजना बना रहा है। इसके प्रथम चरण में ड्राइविंग ट्रेनिंग एंड रिसर्च इन्स्टीट्यूट कानपुर में पायलट प्रोजेक्ट के रूप में एक बैच के अभ्यर्थियों को प्रशिक्षण दिया जा चुका है।
वर्तमान में 17 अभ्यर्थी परिवहन निगम के नौ डिपो में 17 माह का प्रशिक्षण प्राप्त कर रही हैं। जिनका प्रशिक्षण जनवरी 2024 में पूरा होगा। इस योजना के लिए मेरठ समेत प्रदेश के सभी रीजन से महिला चालकों को भर्ती करने और पिंक बसों के संचालन की योजना पर तेजी से काम किया जा रहा है। इस महत्वपूर्ण परियोजना के अंतर्गत उत्तर प्रदेश राज्य सड़क परिवहन निगम की ओर से महिला चालकों को लाइट मोटर व्हीकल ड्राइवर लेवल-3 एवं कामर्शियल व्हीकल ड्राइवर लेवल-4 दोनों कोर्स का प्रशिक्षण दिया जाएगा।
लाइट मोटर व्हीकल ड्राइवर लेवल-3 कोर्स का प्रशिक्षण अवधि 344 घंटे (तीन माह ) का होगा। उसके बाद कौशल विकास मिशन द्वारा निर्धारित सेक्टर स्किल काउंसिल एएसडीसी दिल्ली के माध्यम से एसेसमेन्ट कराया जाएगा। उत्तीर्ण अभ्यर्थियों का कामर्शियल व्हीकल ड्राइवर लेवल-4 कोर्स का 400 घंटे (चार माह) का प्रशिक्षण होगा। दोनों कोर्स करने के उपरान्त 17 माह का प्रशिक्षण डिपो में होगा। 17 माह के प्रशिक्षण के दौरान 6000/- रुपये प्रतिमाह स्टाइपेंड भी दिया जाएगा।
10 5
सेवा प्रबंधक ने बताया कि यह कोर्स आवासीय है। संस्थान में एक सुरक्षित हास्टल है। सभी अभ्यर्थियों को दोनों कोर्स करने के दौरान हास्टल में रहना होगा। हास्टल में रहना, खाना इत्यादि नि:शुल्क होगा। 24 माह के प्रशिक्षण के उपरान्त पिंक बस संचालित करने के लिए डिपो में संविदा चालक के रूप में तैनात किया जाएगा।
ये महिलाएं कर सकती हैं आवेदन
प्रशिक्षण संस्थान के प्रधानाचार्य ने प्रदेश के सभी परिक्षेत्रों में जो जानकारी उपलब्ध कराई है, उसके अनुसार इस योजना में शामिल होने के लिए अभ्यर्थियों ने पूर्व में किसी संस्थान से कौशल विकास मिशन के अर्न्तगत प्रशिक्षण प्राप्त न किया हो। महिला चालक बनने के लिए 34 वर्ष की अधिकतम आयु सीमा और कक्षा आठवीं पास 5 फुट 3 इंच कद वाली महिलाएं अपने क्षेत्र के डिपो के माध्यम से आवेदन कर सकती हैं। मोबाइल नं.-9792746532 और 8726005222 पर भी संपर्क किया जा सकता है।
प्रदेश के विभिन्न महानगरों में स्थित डिपो के जरिये पूर्व में भी पिंक बसों को संचालित किया जा चुका है। लेकिन उस समय महिला चालक परिचालक पर्याप्त संख्या में उपलब्ध न होने के कारण इसमें व्यवधान उत्पन्न हुआ। इसके अलावा महिला यात्रियों के साथ उनके पति पिता या व्यस्क भाई और पुत्र को यात्रा करने की अनुमति दिए जाने से भी निगम की पिंक बस सेवा प्रभावित होने लगी थी। प्रदेश स्तरीय अधिकारियों ने इस योजना को एक बार फिर से लागू करने का निर्णय लिया है जिसके अंतर्गत पहले चरण में महिला चालकों की भर्ती के लिए प्रशिक्षण शुरू किया गया है। -केके शर्मा, आरएम मेरठ परिक्षेत्र
- Advertisement -
- Advertisment -spot_img

Recent Comments