Saturday, June 19, 2021
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsMeerut10 दिन में 18 लोगों ने गंवाई जान, कहां सो रहे हुक्मरान

10 दिन में 18 लोगों ने गंवाई जान, कहां सो रहे हुक्मरान

- Advertisement -
0
  • अलीपुर गांव में पिछले 10 दिन में 18 लोगों की मौत
  • जांच में 18 लोग निकले कोरोना से संक्रमित

जनवाणी संवाददाता |

सरधना: कोरोना महामारी ने ग्रामीण क्षेत्र में कहर बरपा रखा है। सरधना के अलीपुर गांव में पिछले 10 दिन में करीब 18 लोगों की मौत होने का मामला सामने आया है। ग्रामीणों की मानें तो अधिकांश लोगों की आकस्मिक मौत हुई है। सूचना के बाद स्वास्थ्य विभाग ने गांव में कोरोना जांच कराई तो 18 लोग संक्रमित मिले। जिन्हें होम आइसोलेट किया गया है। इतनी बड़ी संख्या में हो रही मौत और कोरोना संक्रमण फैलने के डर से ग्रामीणों में हड़कंप मचा हुआ है।

कोरोना वायरस ने ग्रामीण इलाकों में जमकर तांडव मचा रखा है। देहात में कोरोना संक्रमण को नियंत्रण करना मुश्किल हो रहा है। बेकाबू हालात ने ग्रामीणों में दहशत बना रखी है। जिस भी गांव पर नजर डालें, आंकड़े डराने वाले सामने आ रहे हैं। सरधना के अलीपुर गांव की बात करें तो यहां ग्रामीणों का आकस्मिक मौत हो रही है।

ग्रामीणों की मानें तो गांव में पिछले 10-12 दिन में करीब 18 लोगों की मौत हो चुकी है। जिनमें अधिकांश आकस्मिक मौत हैं। वहीं सरकारी रिकॉर्ड पर नजर डालें तो अलीपुर में अभी तक कोरोना से महज एक व्यक्ति की मौत हुई है। बाकी लोगों की मौत के कारणों का कुछ पता नहीं है।

लगातार हो रही मौत से ग्रामीणों में दहशत का माहौल बना हुआ है। तीन दिन पूर्व स्वास्थ्य विभाग ने अलीपुर गांव के लोगों के सैंपल लेकर जांच के लिए भेजे थे। रविवार को आई रिपोर्ट से पता चला कि गांव में 18 लोग कोरोना पॉजिटिव हैं। जांच रिपोर्ट से अंदाजा लगाया जा सकता है कि गांव के क्या हालात हैं।

फिलहाल अलीपुर के लोग दहशत में जी रहे हैं। लोग जरूरी काम के लिए घरों से बाहर आ रहे हैं। रविवार को दिन में भी गांव की गलियों में सन्नाटा पसरा देखने को मिला। उधर, पूरे गांव में साफ-सफाई कराई गई। जबकि गांव को सैनिटाइजेशन भी कराया गया।

सरकारी रिकॉर्ड में महज एक मौत

अलीपुर के ग्रामीणों के अनुसार गांव में पिछले 10-12 दिन में करीब 18 लोगों की जान जा चुकी है। जिनमें अधिकांश मौत आकस्मिक हुई हैं। जबकि सरकारी रिकॉर्ड कुछ और ही कह रहा है। स्वास्थ्य विभाग के रिकॉर्ड के अनुसार अलीपुर में एक व्यक्ति की कोरोना से मौत हो गई है। बाकी लोगों की मौत की संख्या व मौत के कारण किसी को पता नहीं है।

84 टेस्टिंग में 18 लोग कोरोना पॉजिटिव

अलीपुर गांव में चार दिन पूर्व स्वास्थ्य विभाग की टीम ने कैंप लगाकर कोरोना की टेस्टिंग की थी। टीम ने कुल 84 सैंपल लेकर जांच के लिए भेजे थे। जिनमें से 18 लोग कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। इस सहज ही अंदाजा लगाया जा सकता है कि गांव में संक्रमण फैलने के हालात हैं।

क्या कहना है इनका

अलीपुर गांव में 18 लोग कोरोना पॉजिटिव निकले हैं। सभी को होम आइसोलेट कर दिया गया है। अलीपुर में कोरोना से अब तक एक व्यक्ति की मौत हुई है। बाकी अन्य लोगों की मौत के कारणों का कुछ पता नहीं है।
                                                     -डा. राजेश कुमार, प्रभारी सीएचसी सरधना


इधर पिता की अस्थियां विसर्जित की, उधर पुत्र की भी हुई मौत

बेगमाबाद गांव में रिटायर्ड होमगार्ड की मौत का गम कम भी नहीं हुआ था कि अस्थियां विसर्जन के कुछ ही घंटों बाद पुत्र की भी मौत हो गई। तीन दिन में पिता-पुत्र की मौत से परिवार में कोहराम मच गया। वहीं, गांव में भी दहशत का माहौल बना हुआ है। पिता काफी दिन से बीमार होना बताया जा रहा है, जबकि पुत्र की मौत का कारण कुछ पता नहीं चल सका।

सरधना के बेगमाबाद गांव निवासी प्रेमदास रिटायर्ड होमगार्ड था। मिली जानकारी के अनुसार वह कुछ दिन से बीमार चल रहा था। बीती 13 मई को अचानक से उसकी तबियत बिगड़ी और मौत हो गई। बीते शनिवार को परिवार के सदस्य प्रेमदास की अस्थियां गंगनहर में विसर्जन करने चले गए। उसके कुछ ही घंटों बाद प्रेमदास के 27 वर्षीय पुत्र महेश की भी मौत हो गई। बताया गया है कि वह चारपाई पर बैठा था कि तभी अचानक से पीछे को गिर गया। परिजन उसे सरधना के निजी अस्पताल लेकर पहुंचे। जहां चिकित्सक ने उसे मृत घोषित कर दिया। पिता-पुत्र की मौत से परिजनों में मातम छाया हुआ है। वहीं गांव में भी दहशत का माहौल बना हुआ है। महेश की मौत के कारणा का कुछ पता नहीं चल सका है।

जानीखुर्द: कोरोना से टीकरी के होमगार्ड की मौत

ब्लॉक क्षेत्र के गांव पांचली व जानी में हुई दर्जनों मौतों के बाद खानपुर, टीकरी, नेक व रसूलपुर धौलड़ी आदि गांवों में कोहराम मचा रखा है। शायद ही ऐसा कोई गांव बचा हो, जहां कोरोना वैश्विक महामारी के संक्रमण से कोई गली-मोहल्ला बचा हो। खानपुर गांव में गत एक पखवाडेÞ में समाजसेवी सौदान आर्य के पुत्र बबलू, रामगोपाल, सतेंद्र पुत्र लीलू, प्रोफेसर सेंसरपाल, हरवीर फौजी, दीपांशी, अनिल कुमार, सतीश कुमार, जिले, राजू आदि दर्जनों कोरोेना संक्रमण के चलते मौत होना बताया जा रहा है।

खानपुर गांव में फैले संक्रमण व मौतों पर रोक लगाने को सोशल मीडिया पर चल रहे अभियान पर ग्रामीणों की मदद की अपील की है। वहीं, टीकरी निवासी होमगार्ड में तैनात शिवकुमार शर्मा की कोरोना से मौत होने पर गांव में हड़कंप मचा हुआ है। प्रशासन ने पूरे मोहल्ले को सील कर दिया है। वहीं, नेक गांव में भी सिंधू, ओमपाल, धर्मवती, राजू आदि दर्जनों मौतों से गांव में दहशत का माहौल व्याप्त है।

What’s your Reaction?
+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

- Advertisement -

Leave a Reply

- Advertisment -spot_img

Most Popular

- Advertisment -

Recent Comments