Wednesday, December 8, 2021
- Advertisement -spot_imgspot_imgspot_imgspot_img
- Advertisement -spot_imgspot_imgspot_imgspot_img
HomeUttar Pradesh NewsShamliएबीएसए राजलक्ष्मी पांडेय 50 हजार की रिश्वत लेते गिरफ्तार

एबीएसए राजलक्ष्मी पांडेय 50 हजार की रिश्वत लेते गिरफ्तार

- Advertisement -
  • विजिलेंस मेरठ की दस सदस्यीय टीम की कार्यवाही में चढ़ी हत्थे
  • स्कूलों में ड्रेस का पकड़ा आपूर्ति करने वाले से मांगे थी रिश्वत

जनवाणी ब्यूरो |

शामली: उप्र सतर्कता अधिष्ठान इकाई मेरठ की विजिलेंस टीम ने नगर की पॉश कालोनी काकानगर से खंड शिक्षा अधिकारी कैराना राजलक्ष्मी पांडेय को 50 हजार रुपये की रिश्वत लेते हुए रंगेहाथ गिरफ्तार किया है। रिश्वत स्कूलों में ड्रेस का कपड़ा आपूर्ति करने वाले देकेदार से ली गई थी। एबीएसए के खिलाफ विजीलेंस के इंस्पेक्टर की ओर से मुकदमा दर्ज कराया गया है।

कैराना क्षेत्र के गांव तितरवाडा निवासी सत्यपाल रूहेला पुत्र सूरजमल सरकारी स्कूलों में ड्रेस का कपड़ा आपूर्ति करता है। सत्यपाल ने गत 7 नवंबर को उप्र सतर्कता अधिष्ठान इकाई मेरठ के पुलिस अधीक्षक कुंवर अनुपम सिंह के समक्ष शिकायत दर्ज कराई थी कि कैराना ब्लॉक की खंड शिक्षा अधिकारी राजलक्ष्मी पांडेय प्रति छात्र डेस के 100 रुपये की रिश्वत मांग रही है।

एबीएसए से छात्रों की दो ड्रेस पर 400 रुपये एवं छात्राओं की दो ड्रैस पर 440 रुपये दिया जाना तय हुआ है। साथ ही, एबीएसए ने रिश्वत न देने पर डेÑस के कपडेÞ की क्वालिटी कमजोर बताकर टेंडर निरश्त करने की बात कही है। इस पर विजीलेंस के पुलिस अधीक्षक कुंवर अनुपम सिहं ने उच्चाधिकारियो से वार्ता करने के बाद इस्पेंक्टर पुष्पा गर्ग के नेतृत्व में एक टीम का गठन कर कार्यवाही के निर्देश दिए।

बुधवार को टीम शिकायतकर्ता सत्यपाल रूहेला के साथ खंड शिक्षा अधिकारी राजलक्ष्मी पाडेय के शामली की पॉश कालोनी काकानगर स्थित आवास पर पंहुची। जहां सत्यपाल रूहेला ने पहले से ही ब्लैक पाउडर लगे 2000-2000 रुपये के 25 नोट एबीएसए सत्यपाल रूहेला को दिए।

एबीएसए ने सत्यपाल रूहेला से रुपये लेकर जैसे अपने बैग में रखने की कोशिश की तो विजीलेंस की टीम ने एबीएसए राजलक्ष्मी पांडेय को रंगे हाथों दबोच लिया। बैग से रिश्वत में लिए गए ब्लैक पाउडर लगे रुपये भी बरामद कर लिए। विजिलेंस टीम ने एबीएसए राजलक्ष्मी पांडेय को हिरासत में लेकर शामली कोतवाली पहुंची।

कोतवाली में एबीएसए से घंटों पूछताछ की गई। उसके बाद एबीएसए राजलक्ष्मी पांडेय के खिलाफ धारा- 7 भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम में मुकदमा दर्ज कराकर अपने साथ मेरठ ले गई। जहां एबीएसए को कोर्ट मे पेंश किया गया। विजिलेसं दस सदस्यीय टीम मे महिला इंस्पेक्टर रेनुका सिंह, नीलम, अरूण कुमार रावत, रणवीर सिंह, सुशील कुमार, यशपाल सिंह आदि शामिल थे।

प्रात: 8 बजे ही एबीएसए को दबोचा

उप्र सतकर्ता अधिष्ठान इकाई मेरठ से विजीलेंस टीम बुधवार की प्रात: 8 बजे ही काकानगर स्थित एबीएसए राजलक्ष्मी पांडेय के घर पहुच गई थी। टीम ने सत्यपाल रूहेला को एबीएसए को देने के लिए पहले ही 50 हजार रुपयों पर ब्लैक पाउडर लगा दिया था। रुपये देते ही विजीलेंस टीम ने एबीएसए को गिरफ्तार कर लिया। दूसरी ओर, सूत्रों का दावा है कि विजिलेंस टीम पिछले दो दिनों से जनपद में ही डेरा डाले हुए थी। टीम एबीएसए की गतिविधियों को लगातार वाच कर रही थी। जिससे आला अधिकारियों को फीड बैक भी दी जा रही थी।

भुगतान रोकने की दे रही थी धमकी

सत्यपाल रूहेला ने बताया कि एबीएसए राजलक्ष्मी पांडे कपड़े की क्वालिटी घटाकर रिश्वत के रुपये मांग रही थी। जिस पर उसने क्वालिटी से समझौता न करने की बात कही। इस पर एबीएसए राजलक्ष्मी पांडेय ने भुगतान रोकने की चेतावनी दी थी। शिकायतकर्ता सत्यपाल ने बताया कि उसका 12 लाख रुपये में 75 प्रतिशत भुगतान हो चुका है, जबकि बाकी करीब 3 लाख रुपये का 25 प्रतिशत भुगतान अभी भी रोका हुआ है।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Leave a Reply

- Advertisment -spot_imgspot_imgspot_imgspot_img

Most Popular

- Advertisment -spot_img

Recent Comments