Wednesday, June 16, 2021
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsSaharanpurसावधान ! बच्चे को हो रहे दस्त, मतलब हो सकता है कोरोना

सावधान ! बच्चे को हो रहे दस्त, मतलब हो सकता है कोरोना

- Advertisement -
0
  • इंडियन एकेडमी आफ पिडियाट्रिक्स ने दस्त को बताया कोरोना का लक्षण
  • अभिभावकों के लिए जारी की गाइडलाइन, बताए बचने के तरीके

वरिष्ठ संवाददाता |

सहारनपुर: बच्चों में दस्त-बुखार का मौसम शुरू हो चुका है लेकिन यह दस्त होने का कारण कोरोना भी हो सकता है। जी हां, इंडिया एकेडमी आफ पिडियाट्रिक्स ने जो गाइडलाइन जारी की है उसमें पेट दर्द, उल्टी और दस्त कोरोना की दूसरी लहर के लक्षण बताए गए हैं।

कोविड-19 की संभावित तीसरी लहर में बच्चों के ज्यादा प्रभावित होने की आंशका के बीच अभिभावकों के लिए जारी इस गाइडलाइन में बताया गया है कि खांसी, हल्का कफ, बुखार और बदन दर्द कोरोना के लक्षण हैं ही, लेकिन इस वायरस की दूसरी लहर में दस्त भी कोरोना के लक्षण के तौर पर देखा गया है।

इसलिए अगर बच्चे को दस्त है तो उसे हल्के में न लें। गाइडलाइन के मुताबिक अगर बच्चे को तीन दिन से ज्यादा बुखार आ रहा है या परिवार में किसी को कोरोना हुआ है तो भी बच्चे का कोरोना टेस्ट कराना चाहिए। बाल रोग विशेषज्ञ ने गाइडलाइन में दिए गए इस लक्षण को सही बताते हुए कहा कि कुछ महीनों पहले ऐसा एक केस आया था। एक बच्ची को दस्त हो रहे थे।

उसका स्टूल टेस्ट कराने पर वह कोरोना पॉजिटिव पाई गई थी। बाद में उसका इलाज किया गया और वह ठीक हो गई। जिला अस्पताल के बाल रोग विशेषज्ञ डॉ. एके चौधरी का कहना है कि कोरोना के कारण दस्त होने के केस कम हैं लेकिन इसे नकारा नहीं जा सकता।

अभिभावकों को सजग रहना होगा। डायरिया पांच वर्ष से कम उम्र के बच्चों में मृत्यु का एक बड़ा कारण है। बार-बार बच्चों को डायरिया होने पर उनमें कुपोषण का खतरा बढ़ जाता है। इसलिए इससे बचाव जरूरी है। डॉ. चौधरी के मुताबिक अक्सर बच्चों में डायरिया होने पर डिहाइड्रेशन यानि निर्जलीकरण की संभावना रहती है, जिससे गंभीरता बढ़ सकती है और बच्चे के जीवन के लिए खतरा उत्पन्न हो सकता है। आमतौर पर वायरस से होने वाले डायरिया में एंटीबायोटिक कारगर नहीं होते।

डायरिया का इलाज

अगर बच्चे को दस्त की समस्या हो गई है तो घबराएं नहीं बल्कि किसी दवा से पहले पानी की कमी से बचाएं। इसके लिए बच्चे को तरल पदार्थ दें। जीवनरक्षक घोल यानि ओआरएस पिलाएं। हर दस्त के बाद ओआरएस देना चाहिए लेकिन ध्यान रखना है बहुत चीनी वाले पेय पदार्थ, शरबत या बाजार के पेय पदार्थ आदि न दें। घर पर ही नींबू पानी में नमक और चीनी मिलाकर पिलाएं। लस्सी, छाछ, नारियल पानी दे सकते हैं।

बच्चों में दस्त के कारण

  • दूषित जल पीना
  • दूषित भोजन का सेवन
  • साफ-सफाई का ध्यान न रखना

बचाव के उपाय                             

  • बच्चों को साबुन से हाथ धुलने की आदत डलवाएं
  • समूह में न खेलने दें, सार्वजनिक कार्यक्रम में न ले जाएं
  • मास्क पहनवाएं, सामाजिक दूरी बनवाएं
  • साफ-सफाई का विशेष ध्यान रखें
  • बच्चों को पानी उबालकर ही पिलाएं
  • छह महीने से छोटे शिशुओं को केवल मां का दूध पिलाएं
What’s your Reaction?
+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

- Advertisement -

Leave a Reply

- Advertisment -spot_img

Most Popular

- Advertisment -

Recent Comments