Friday, July 26, 2024
- Advertisement -
HomeNational Newsपंजाब के पूर्व उपमुख्मंत्री गिरफ्तार, विजिलेंस टीम ने की कार्रवाई

पंजाब के पूर्व उपमुख्मंत्री गिरफ्तार, विजिलेंस टीम ने की कार्रवाई

- Advertisement -

जनवाणी ब्यूरो |

नई दिल्ली: आज रविवार को पंजाब के पूर्व उपमुख्यमंत्री ओमप्रकाश सोनी को आय से अधिक संपत्ति के मामले गिरफ्तार कर लिया है। डिप्टी सीएम को सुबह यानि सोमवार को अदालत के सामने पेश किया जाएगा। साल 2016 से 2022 के बीच अर्जित की गई संपत्तियों को विजिलेंस ने आधार बनाया है।

बता दें कि विजिलेंस ने पहली बार उन्हें 25 नवंबर 2022 को तलब किया था। करीब 8 महीने तक जांच के बाद अमृतसर के विजिलेंस ऑफिस में रविवार को FIR दर्ज की गई। एंटी करप्शन एक्ट में केस दर्ज होने के तुरंत बाद उन्हें अरेस्ट किया गया।

1 अप्रैल 2016 से 31 मार्च 2022 तक पूर्व डिप्टी सीएम सोनी और उनके परिवार की आय 4.52 करोड़ रुपए थी, जबकि खर्च 12.48 करोड़ रुपए था। उनका खर्च आय के अज्ञात सोर्स से 7.96 करोड़ रुपए ज्यादा था। इस दौरान सोनी ने अपनी पत्नी सुमन सोनी और बेटे राघव सोनी के नाम पर संपत्तियां खरीदीं।

2021 में कैप्टन अमरिंदर सिंह के इस्तीफे और चरणजीत सिंह चन्नी के मुख्यमंत्री बनने के बाद ओपी सोनी को उप मुख्यमंत्री का पद दिया गया था। ओपी सोनी 1997, 2002, 2007, 2012 और 2017 में पंजाब विधानसभा के चुनाव जीत चुके हैं। 2017 के विधानसभा चुनाव में सोनी ने अमृतसर सेंट्रल सीट से भाजपा के तरुण चुग को 21 हजार से ज्यादा वोटों से हराया था।

वे 1991 में अमृतसर के पहले मेयर बने थे। वे पंजाब कांग्रेस पब्लिक कमिटी के महासचिव और दो वर्ष तक ऑल इंडिया काउंसिल ऑफ मेयर के चेयरमैन भी रह चुके हैं। इसके अलावा वे विधानसभा में पब्लिक अकाउंट कमिटी के सदस्य और 2017-18 में पंजाब विधानसभा के लोकल बॉडीज और कमिटी ऑन पब्लिक अंडरटेकिंग्स के भी चेयरमैन रह चुके हैं।

पंजाब में आम आदमी पार्टी की सरकार के आते ही ओम प्रकाश सोनी पर सैनिटाइजर घोटाले के आरोप लगे थे। जिसमें कहा जा रहा था कि सेहत विभाग ने सैनिटाइजर महंगे दामों पर खरीदे। वहीं राज्य चुनाव आयोग ने पंजाब हेल्थ सिस्टम कॉर्पोरेशन के माध्यम से सैनिटाइजर भी खरीदा, जो सस्ता था।

चुनाव आयोग के लिए 1.80 लाख बोतलें 54.54 रुपए प्रति बोतल की दर से खरीदी गईं, जबकि सेहत विभाग ने तीन गुना कीमत पर 160 रुपए प्रति बोतल के हिसाब से सैनिटाइजर खरीदा। सेहत विभाग के लिए सैनिटाइजर की खरीद की फाइल पर मंजूरी पूर्व मंत्री सोनी ने दी थी।

AAP विधायक कुंवर विजय प्रताप ने विधानसभा में पंजाब के तीन सर्किट हाउस का मुद्दा उठाया था। इसमें उन्होंने आरोप लगाए थे कि पिछली कैप्टन सरकार ने अमृतसर, लुधियाना और जालंधर के सर्किट हाउस PPP मोड पर दे दिए थे।

इन सर्किट हाउस की देखरेख की जिम्मेदारी चमन लाल एंड संस, सर्व एलायंस हॉस्पिटिलिटी और सरोवर होटल अमृतसर को दी गई। कुंवर ने आरोप लगाया कि इनमें से 2 कंपनियां ओपी सोनी के रिश्तेदारों की हैं।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
1
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Recent Comments