Tuesday, August 9, 2022
- Advertisement -
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsShamli450 वर्ष पुरानी धार्मिक धरोहर संत बूढ़ा बाबू तालाब का लोकार्पण

450 वर्ष पुरानी धार्मिक धरोहर संत बूढ़ा बाबू तालाब का लोकार्पण

- Advertisement -
  • कैबिनेट मंत्री ने जीर्णोद्धार के बाद किया धरोहर का लोकार्पण

जनवाणी संवाददाता |

थानाभवन: लगभग 450 वर्ष पुरानी ऐतिहासिक एवं धार्मिक धरोहर बूढ़ा बाबू तालाब का जीर्णोद्धार के बाद कैबिनेट मंत्री सुरेश राणा ने लोकार्पण किया। आज पुन: बूढा बाबू तालाब अपने नवीन अस्तित्व में आया है। थानाभवन कस्बे में संत बूढ़ा बाबू तालाब का गन्ना मंत्री सुरेश राणा ने विधि विधान से लोकार्पण किया।

लोकार्पण से पहले कस्बे के दयाल आश्रम में पहुंची सैकड़ों महिलाओं ने कलश में पावन जल भरकर पंजतीर्थी आश्रम के महंत स्वामी रामदेव के नेतृत्व में कस्बे में एक कलश यात्रा निकाली जो संत बूढ़ा बाबू तालाब पर समाप्त हुई। जहां संत बूढ़ा बाबू तालाब का संतो ने हनुमान चालीसा एवं मंत्र उच्चारण के बाद विधि विधान से पूजन कराया।

इस पूजन में गन्ना मंत्री सुरेश राणा अपनी पत्नी नीता राणा के साथ शामिल हुए। वहीं कार्यक्रम में गन्ना मंत्री सुरेश राणा ने कहा प्राचीन काल से ही संत बूढा बाबू तालाब का ऐतिहासिक महत्व रहा है। इतिहास की माने तो सैकड़ों साल पहले प्लेग नाम की महामारी में इस धार्मिक एवं आस्था के केंद्र संत बूढ़ा बाबू तालाब की मिट्टी का लेप कर लोगों ने अपनी जान बचाई थी। इतिहास में भी संत बड़ा बाबू तालाब का जिक्र है।

हुमायूं के शासनकाल में भी संत बूढ़ा बाबू तालाब का जीर्णोद्धार कराया गया था। वहीं पुरानी सरकारों एवं स्थानीय नगर पंचायत की लापरवाही के कारण कूड़े के ढेर में तब्दील हो चुके संत बूढ़ा बाबू तालाब का अस्तित्व विलुप्त हो गया था। कस्बे में मौजूद प्राचीन एवं धार्मिक आस्था वाले संत बूढा बाबू तालाब का आज उन्होंने लोकार्पण किया है। कार्यक्रम में जिलाधिकारी जसजीत कौर कहा कि पूरे जनपद में संत बूढ़ा बाबू तालाब जैसा कोई स्थान उनके संज्ञान में नहीं है। यह बहुत ही सुंदर और भव्य बनकर तैयार हुआ है।

इस मौके पर नगर पंचायत थानाभवन ईओ मेघा गुप्ता, जिला पंचायत सदस्य डा. नीरज सैनी, सभासद अनिता सैनी, नीरज गोयल, बॉबी अरोड़ा, अनिल गोयल, प्रेमचंद, विशाल गोयल, देवेंद्र पंड़ित, मोहम्मद अहमद, साजिद अहमद, चेयरमैन पति इंतजार अजीज एवं महंत स्वामी रामदेव महाराज, स्वामी रामनरेश महाराज, स्वामी विवेकानंद आदि मौजूद रहे।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -
- Advertisment -
- Advertisment -

Most Popular

- Advertisment -
- Advertisment -spot_img
- Advertisment -

Recent Comments