Sunday, June 13, 2021
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsMeerutहिस्ट्रीशीटर ने गला दबाकर छोटे भाई की पत्नी का किया मर्डर

हिस्ट्रीशीटर ने गला दबाकर छोटे भाई की पत्नी का किया मर्डर

- Advertisement -
0
  • बुग्गी में लादकर में श्मशान में रात को जलाया शव
  • एसपी देहात के हस्तक्षेप से हरकत में आई पुलिस

जनवाणी संवाददाता |

फलावदा:थाना क्षेत्र के गांव मंदवाडी में प्रधान पद की उम्मीदवार रही महिला को उसके हिस्ट्रीशीटर जेठ ने गला दबाकर मौत के घाट उतार दिया। हिस्ट्रीशीटर ने मृतका के शव को रात को ही भैंसा बुग्गी से शमशान ले जाकर जला दिया। साक्ष्य का अभाव बताकर दिनभर घटना पर लीपापोती में लगी स्थानीय पुलिस ने एसपी देहात के हस्तक्षेप से रिपोर्ट दर्ज कर हिस्ट्रीशीटर को गिरफ्तार कर लिया।

जानकारी के मुताबिक गांव मंदवाडी में प्रधान पद का चुनाव लड़ी श्रीमती सावित्री उर्फ बसंती पत्नी दीपचंद की रविवार की रात करीब नौ बजे हिस्ट्रीशीटर जेठ डालचंद ने दुपट्टे से गला घोट कर हत्या कर दी। घटना को छिपाने के लिए आरोपी ने शव को श्मशान में ले जाकर जला दिया।

किसी ने फोन पर घटना की सूचना मृतका के भाई जोध सिंह पुत्र श्यामल निवासी गांव मुबारकपुर थाना भावनपुर को दे दी। वह अपने पड़ोसियों के साथ फलावदा थाने पहुंच गया तथा थाना अध्यक्ष को घटना की जानकारी दी। आरोप है कि फलावदा पुलिस साक्षी का अभाव बताकर आनाकानी करती रही।

हालांकि मृतका के भाई जोध सिंह ने थाने पर मृतका के जेठ डालचंद वह उसकी पत्नी धनवंती तथा दो अज्ञात के खिलाफ जमीन हड़पने के इरादे से सावित्री उर्फ बसंती की हत्या करने का आरोप लगाकर नामजद तहरीर दी।

फिर भी पुलिस हत्या को लेकर गंभीर नहीं हुई।पुलिस पीड़ित से गवाह तलब करती रही। मामले की जानकारी मिलने पर एसपी देहात ने सीओ मवाना उदय प्रताप सिंह को फलावदा भेजा। स्थानीय पुलिस बैकफुट पर आ गई। दिनभर लीपापोती में लगी स्थानीय पुलिस ने घटना के 18 घंटे बाद आरोपी हिस्ट्रीशीटर को गिरफ्तार कर लिया। पूछताछ में हिस्ट्रीशीटर डालचंद ने अपने जुर्म का इकबाल करते हुए बताया कि उसका भाई दीपचंद जेल में है वह खेतीबाडी कर रहा है लेकिन उसके भाई की पत्नी खर्च के लिए पैसा नहीं दे रही थी। इसी के चलते उसने हत्या को अंजाम दिया है।

सीओ मवाना उदय प्रताप सिंह ने बताया कि मुकदमा दर्ज कर लिया गया है आरोपी को जेल भेजा जाएगा।

हत्या के सबूत मिटाने के तमाम प्रयास करता रहा हिस्ट्रीशीटर

सावित्री उर्फ बसंती की हत्या करके उसके जेठ डालचंद ने कानून की आंख में धूल झोंकने के लिए दिनभर सबूत मिटाने के प्रयास किए, फिर भी वह सलाखों के पीछे पहुंच गया।

बताया गया है कि हत्या करने के बाद वह रात को ही मृतका का शव भैंसा बुग्गी में लादकर शमशान ले गया तथा उसने शव को जला दिया।घटना का सबूत पूरी तरह मिटाने के लिए उसने सवेरे शमशान पहुंचकर अस्थियां भी तालाब में फेंक दी।सीओ उदय प्रताप सिंह ने बताया कि भेद खुलने की आशंका से आरोपी ग्राम प्रधान से बसंती की कोरोना से मौत होने का सर्टिफिकेट लेने की भी कवायद करता रहा लेकिन प्रधान ने इंकार कर दिया।पुलिस द्वारा की गई पूछताछ में वह टूट गया। उसने अपने जुर्म का इकबाल कर लिया।

पत्नी के चुनाव से जेल में बंद है मृतका का पति

जेठ के हाथों मौत के मुंह में पहुंची सावित्री उर्फ बसंती का पति दीपचंद ग्राम पंचायत चुनाव में वोटरों के लिए शराब की फैक्ट्री चलाने के आरोप में जेल काट रहा है। गौरतलब है कि ग्राम पंचायत के चुनाव के दौरान गांव में वोटरों को लुभाने के लिए मृतका बसंती का पति दीपचंद कच्ची शराब परोस रहा था। स्थानीय पुलिस ने मुखबिर की सूचना पर उसे गिरफ्तार करके जेल भेज दिया था पुलिस ने उसके घर से शराब की फैक्ट्री पकड़ने का दावा किया था। दीपचंद अभी तक जेल काट रहा है।

What’s your Reaction?
+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
1

+1
0

+1
1

- Advertisement -

Leave a Reply

- Advertisment -spot_img

Most Popular

- Advertisment -

Recent Comments