Sunday, October 17, 2021
- Advertisement -spot_imgspot_imgspot_imgspot_img
- Advertisement -spot_imgspot_imgspot_imgspot_img
HomeसंवादCareerआप भी बन सकते हैं सफल एथिकल हैकर 

आप भी बन सकते हैं सफल एथिकल हैकर 

- Advertisement -

-एसपी शर्मा


यह जानकर आपको आश्चर्य होगा है कि पूरी दुनिया में प्रत्येक 39 सेकंड में हैकिंग की एक घटना को अंजाम दिया जाता है। इतना ही नहीं, साइबर क्राइम्स के द्वारा प्रत्येक वर्ष विश्व को 1.5 ट्रिलियन डॉलर के बराबर की धनराशि का नुकसान पहुंचाया जाता है, जो यूरोपियन देश स्पेन के जीडीपी के बराबर है। साइबर क्राइम से रिलेटेड यह फैक्ट भी कम आश्चर्यजनक नहीं है कि वित्तीय धोखाधड़ी के सभी अपराधों में 60 फीसदी अपराध मोबाइल के जरिये होता है। दुनिया भर में प्रति वर्ष प्राय: 70 करोड़ लोग साइबर क्राइम्स के शिकार होते हैं।

इंटरनेट की सहायता से इस प्रकार अनाधिकारिक रूप से वित्तीय धोखाधड़ी और महत्वपूर्ण और संवेदनशील डाटा की चोरी के गैर-कानूनी एक्टिविटी को ही हैकिंग कहा जाता है। इंटरनेट की आड़ में अंजाम दिए जाने वाले इस प्रकार की आपराधिक घटनाएं फिशिंग के नाम से भी जानी जाती हैं। ऐसे आपराधिक घटना को अंजाम देनेवाले साइबर क्रिमिनल्स को ही हैकर या ‘ब्लैक हैट हैकर’ कहा जाता है।

हैकर्स के प्रकार   

हैकर्स मुख्य रूप से निम्न दो प्रकार के होते हैं-

वाइट हैट हैकर्स: ये अच्छे हैकर्स होते हैं जो कि कंप्यूटर सिक्यूरिटी एक्सपर्ट होते हैं और जिनकी मुख्य जिम्मेदारी अपनी कंपनी या क्लाइंट्स के लिए उनके इनफार्मेशन सिस्टम और डाटा पूल को सुरक्षित रखना होता है। इसीलिए ये हैकर्स एथिकल हैकर्स भी कहलाते हैं।

ब्लैक हैट हैकर्स: ये हैकर्स साइबर क्रिमिनल्स होते हैं जो अपने प्रोफेशनल टैलेंट से किसी दूसरे कंप्यूटर नेटवर्क में सेंध लगाकर महत्वपूर्ण डाटा और इंफार्मेशन की गैरकानूनी रूप से चोरी कर लेते हैं। ये हैकर्स कंप्यूटर वायरस भी क्रिएट करते हैं जिसके कारण इम्पोर्टेन्ट डेटा नष्ट हो जाते हैं। ये क्रैकर्स भी कहलाते हैं। इन्हें स्क्रिप्ट किडीज भी कहा जाता है।

कैसे बनें एथिकल हैकर्स 

हैकर्स बनने की राहें आसान नहीं होती हैं। यहां पर यह बता देना भी जरूरी है कि हैकिंग जैसे अत्यंत सेंसिटिव बिजनेस में आपको मानसिक रूप से काफी शार्प और पेशेंट रहना पड़ता है। आपमें लॉजिकल पॉवर, क्रिएटिविटी और प्रॉब्लम-अनालायिजिंग कैपेसिटी अवश्य होनी चाहिए।

कंप्यूटर का परफेक्ट नॉलेज 

एक हैकर बनने के लिए कंप्यूटर का परफेक्ट नॉलेज सबसे पहली अनिवार्यता मानी जाती है। इसके लिए कंप्यूटर के कंपोनेंट्स से लेकर कॉन्फिगरेशन और इसके मोडस ओपरंडी के बारे में जानना जरुरी होता है। कंप्यूटर के सभी बेसिक्स के बारे में अच्छी समझ एक सफल हैकर बनने में काफी मदद करता है। कंप्यूटर के बारे में जानने के लिए सबसे पहले इसके हार्डवेयर के बारे में जानना जरूरी होता है।

एक हैकर को कंप्यूटर में हार्डवेयर बेसिक्स के रूप में ट्रांजिस्टर्स, मदरबोर्ड, प्रोसेसर्स, हार्डवेयर, सॉफ्टवेर, रोम, मेमोरी कैपेसिटी, प्रोग्रामिंग, आॅपरेटिंग सिस्टम, नेटवर्क, कंप्यूटर डिस्क स्टोरेज, अरउकक उडऊएर, इनपुट – आउटपुट इत्यादि के बारे में जानकारियां जरूरी होती हैं। इसके अतिरिक्त कंप्यूटर के काम करने के प्रोसेस की जानकारियां भी आवश्यक होती हैं। कंप्यूटर के क्षेत्र में हजारों टर्मिनोलॉजीज और एक्रोनिम्स प्रयोग में आते हैं। इनका ज्ञान भी एक प्रोफेशनल को हैकर बनने में काफी मदद करता है।

सॉफ्टवेयर में मास्टरी प्राप्त करना  

सॉफ्टवेयर किसी कंप्यूटर का ब्रेन कहलाता है। यह किसी कंप्यूटर के सभी फंक्शसंस को आॅपरेट करता है। प्रेजेंटली सभी प्रकार के सॉफ्टवेयर्स को कंप्यूटर शॉप या फिर आॅनलाइन खरीदा जा सकता है। वैसे अब सॉफ्टवेयर को इंटरनेट की मदद से कंप्यूटर पर डाउनलोड करके इंस्टाल भी किया जा सकता है। ये सॉफ्ट्वेयर्स कंटेंट्स डिस्क, फ्लॉपी, डीवीडी, सीडी, ब्लू-रे डिस्क के रूप में उपलब्ध होते हैं।

एक प्रोफेशनल हैकर को केवल सॉफ्टवेयर का ज्ञान जरूरी नहीं होता है, बल्कि उसे सॉफ्टवेयर क्रिएशन का भी नॉलेज होना चाहिए। सॉफ्टवेयर को क्रिएट करने वाले एक्सपर्ट्स को प्रोग्रामर या कोडर कहा जाता है। वेब डिजाइनिंग के आर्ट का ज्ञान भी एथिकल हैकिंग का एक महत्वपूर्ण टूल होता है और इसीलिए इसे भी कभी इग्नोर नहीं करनी चाहिए।

आॅपरेटिंग सिस्टम के विभिन्न वर्जन्स की जानकारी 

आॅपरेटिंग सिस्टम कंप्यूटर का सबसे महत्वपूर्ण सॉफ्टवेयर होता है। यह कंप्यूटर और कंप्यूटर यूजर के मध्य कनेक्टर का काम करता है। लिनक्स एक डिफरेंट कंप्यूटर सॉफ्टवेयर है जो विंडोज और ओएस एक्स  जैसे आॅपरेटिंग सिस्टम जैसा ही होता है, किंतु इसकी क्वालिटी का पता इसी बात से लगता है कि यह सॉफ्टवेयर एक ओपन आॅपरेटिंग सिस्टम के रूप में न्यूयॉर्क स्टॉक एक्सचेंज से लेकर मोबाइल तथा सुपर कंप्यूटर के फंक्शनिंग में भी प्रयुक्त होता है।

लेटेस्ट वर्जन में ङअछक छकठव आॅपरेटिंग सिस्टम काफी एडवांस्ड माना जाता है जिसका प्रयोग विशेष रूप से हैकर, आईटी और सिक्यूरिटी प्रोफेशनल्स करते हैं। ये मेटापैकेजेज रिक्वायरमेंट-बेस्ड आॅपरेटिंग सिस्टम टूल्स होते हैं, जिसमें वेब एप्लीकेशन, फोरेंसिक, सॉफ्टवेयर और वायरलेस के लिए एप्लीकेशसंस होते हैं। विशेष रूप से हैकिंग के लिए यूज होने के कारण काली लिनक्स डिस्ट्रीब्यूशन को फॉरेंसिक आॅपरेटिंग सिस्टम के नाम से भी जाना जाता है। आॅपरेटिंग सिस्टम के लेटेस्ट वर्जन में वइवठळव, टंू डर, ऋीङ्मि१ं, उील्ल३ डर  के नाम काफी प्रसिद्ध हैं।

प्रोग्रामिंग लैंग्वेज का ज्ञान 

कंप्यूटर के प्रोग्राम को जिस लैंग्वेज में लिखा जाता है, उसे ही प्रोग्रामिंग लैंग्वेज कहते हैं। कंप्यूटर के प्रोग्राम में एप्लीकेशन, यूटिलिटीज और सर्वर को शामिल किया जाता है उ, उ++, खं५ं, रदछ, रूबी, जावा स्क्रिप्ट, सी लैंग्वेज, आॅब्जेक्टिव उ, ढऌढ, पाइथन, उ# (उ शार्प) इत्यादि महत्वपूर्ण प्रोग्रामिंग लैंग्वेजेज हैं। इन सभी प्रोग्रामिंग लैंग्वेज की जानकारी कंप्यूटर सॉफ्टवेयर और प्रोग्राम्स को अच्छी तरह से जानने के लिए काफी जरूरी है।

नेटवर्किंग के बारे में लगातार सीखते रहें 

नेटवर्किंग का फंक्शनिंग हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर का कॉम्बिनेशन होता है। एक अच्छा हैकर बनने के लिए नेटवर्किंग का साउंड नॉलेज बहुत ही जरूरी है। क नेटवर्किंग के काम करने के तकनीक से लेकर इसके विभिन्न प्रकार के टूल्स के बारे में एक हैकर को परफेक्ट जानकारी अवश्य होनी चाहिए। साथ ही नेटवर्किंग के बेसिक्स के बारे में भी अपडेटेड रहने की जरूरत है। आईपी एड्रेस, ओएस आई (ओपन सिस्टम इंटरकनेक्शन), पोर्ट, प्रोटोकॉल इत्यादि अन्य नेटवर्किंग टूल्स के काम करने के ढंग और कॉन्फिगरेशन के बारे में भी स्टडी करने की आवश्यकता है।

हैकिंग वेबसाइट्स का अध्ययन करें 

एक्सपर्ट एथिकल हैकर्स भी अपने नॉलेज के अपडेट के लिए हैकिंग वेबसाइट्स को एक महत्वपूर्ण जरिया मानते हैं। हैकिंग वेबसाइट्स पर हैकिंग से संबन्धित सूचनाएं शेयर की जाती हैं और जेन्युइन प्रोब्लम्स के सल्यूशंस प्राप्त किए जाते हैं। कुछ टॉप लेवल के हैकिंग वेबसाइट्स में है। अ डे, हैक इन द बॉक्स, अमेजिंग हैकिंग ट्रिक्स डॉट कॉम, हैक दिस साईट, हार्ड टू हैक डॉट इन, हैकर्स आॅनलाइन क्लब डॉट कॉम इत्यादि के नाम काफी प्रसिद्ध हैं।

इम्पोर्टेन्ट इंस्टीट्यूट्स  

एथिकल हैकिंग में सर्टिफाइड और पोस्टग्रेजुएट कोर्स के लिए ऊडएअउउअ, कालीकट, यूनिवर्सिटी आॅफ मद्रास, एसआरएम यूनिवर्सिटी, रिलायंस वर्ल्ड आउटलेट्स, कलासलिंगम यूनिवर्सिटी तमिलनाडु कुछ प्रसिद्ध इंस्टीट्यूट्स हैं।

एथिकल हैकर के लिए जॉब्स कहां-कहां मिल सकते हैं

  • -इनफार्मेशन सिक्यूरिटी एनालिस्ट
  • -सिक्यूरिटी एनालिस्ट
  • -सर्टिफाइड एथिकल हैकर
  • -सिक्यूरिटी कंसलटेंट (कंप्यूटिंग, नेटवर्किंग, इनफार्मेशन टेक्नोलॉजी)
  • -इनफार्मेशन सिक्यूरिटी मैनेजर
  • -पेनेट्रेशन टेस्टर

इनफार्मेशन टेक्नोलॉजी के वर्तमान युग में एथिकल हैकिंग में करियर और जॉब्स के अवसर में लगातार वृद्धि होती जा रही है। इंटरनेट या वेब के आॅर्गेनाइजेशन के अतिरिक्त एजुकेशन इंस्टीट्यूट्स, प्राइवेट कंपनियां अपने सेंसिटिव डाटा की सेफ्टी के लिए एथिकल हैकर की नियुक्ति करते हैं। किसी देश के डिफेन्स, मिलिट्री, इंटेलिजेंस और साइंस और टेक्नोलॉजी डिपार्टमेंट्स में भी देश की सुरक्षा से जुड़े सेंसिटिव डाटा की सिक्यूरिटी के लिए एथिकल हैकर की नियुक्ति की जाती है।

 (लेखक जवाहर नवोदय विद्यालय, नामित, मिजोरम में प्रिंसिपल हैं)

 

What’s your Reaction?
+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

- Advertisement -

Leave a Reply

- Advertisment -spot_imgspot_imgspot_imgspot_img

Most Popular

- Advertisment -spot_img

Recent Comments