Saturday, June 12, 2021
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsMeerutकैसे हो इलाज ?, जब अस्पताल ही बीमार है...

कैसे हो इलाज ?, जब अस्पताल ही बीमार है…

- Advertisement -
+1
  • ढिकौली में स्वास्थ्य उपकेन्द्र की हालत दयनीय, स्वास्थ्य विभाग मौन
  • परिसर में पसरी गंदगी, टूटी दीवार एवं लंबी खडी घास दे रही गवाही

मुकेश कौशिक |

मवाना: सूबे मुख्यमंत्री आदित्यानाथ योगी गांव में बढ़ रहे कोरोना संक्रमण को लेकर सीएचसी एवं पीएचसी पर कोविड वार्ड तैयार करने के साथ बेहतर इलाज देने एवं गांव गांव कोरोना किट का वितरण करने के लिए प्रशासनिक अधिकारियों के साथ जनप्रतिनिधियों को धरातल पर उतर कोरोना चेन तोड़ने के लिए हरसंभव प्रयास कर रहे हैं, लेकिन गांव में फैल रही कोरोना वैश्विक महामारी के बाद भी स्वास्थ्य विभाग की लाचारी कम होने का नाम नहीं ले रही है।

ऐसा ही एक मामला ढिकौली स्थित सीएचसी मवाना का स्वास्थ्य उपकेन्द्र अपनी दयनीय हालत पर आंसू बहाने को मजबूर है। बता दें कि गत माह पहले ढिकौली में एक ही परिवार के आठ सदस्य कोरोना संक्रमित मरीज मिलने के बाद सीएचसी चिकित्सकों ने गांव की गलियों को भले ही सील किया, लेकिन स्वास्थ्य कर्मियों ने कोविड काल में भी उपकेन्द्र की खराब पड़ी हालत को ठीक कराना तो दूर की बात है।

इसका प्रयोग करना भी उचित नहीं समझा है। इसी बात से अंदाजा लगाया जा सकता है कि ऐसी स्थिति में स्वास्थ्य विभाग की लाचारी से गांव में बढ़ रही महामारी को रोकना नामुमकिन हो गया है।

मेरठ मुख्यालय से मात्र 20 किमी दूर स्थित मवाना सीएचसी अंतर्गत आने वाले गांवों में लगातार कोरोना का कहर जारी है। स्वास्थ्य विभाग की लाचारी एवं गांव में बढ़ रही महामारी को देखते हुए जनवाणी संवाददाता ने प्रशासनिक अधिकारी एवं हस्तिनापुर विधानसभा क्षेत्र से जुड़े जनप्रतिनिधियों के अथक प्रयास को धूमिल करने वाले सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र से जुड़े चिकित्सकों की हकीकत से रूबरू कराने का प्रयास किया गया।

मवाना सीएचसी से मात्र 10 किमी दूर स्थित गांव ढिकौली में स्वास्थ्य उपकेन्द्र की दयनीय हालत से रूबरू कराने। मवाना अंतर्गत गांव ढिकौली में काफी समय पहले स्वास्थ्य विभाग द्वारा कराया गया करोड़ों रुपये की लागत से उपकेन्द्र की हालत दयनीय है।

उपकेन्द्र के मुख्य द्वार की दीवार क्षतिग्रस्त होने, गंदगी पसरे रहने एवं लंबी झाड़ फूंस खड़ी है तो वहीं, परिसर में कुछ लोगों ने खेती में प्रयोग आने वाले बुग्गी आदि को खड़ाकर कब्जा कर लिया है। ऐसी स्थिति में यहीं अंदाजा लगाया जा सकता है कि स्वास्थ्य विभाग सरकार की गाइडलाइन का कितना और गांव में बढ़ रहे कोरोना संक्रमित मरीज के प्रति कितना सजग दिख रहा है।

त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव के बाद गांव में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या में लगातार बढ़ोतरी होती देख मुख्यमंत्री आदित्यानाथ योगी ने मेरठ पहुंचकर स्वास्थ्य विभाग एवं प्रशासनिक अधिकारियों की जमकर क्लास लेते हुए कोरोना खुद कमान संभाली।

कोरोना वैश्विक महामारी को हराने के लिए सीएम योगी ने जिले की सभी सीएचसी एवं पीएचसी पर कोविड वार्ड खुलवाने के साथ कोविड मरीजों को समय से इलाज कराने के निर्देश देते हुए खुद भी ग्राउंड रिपोर्ट के आधार पर जांच शुरू की। मवाना सीएचसी अंतर्गत आने वाले गांवों में बढ़ते मरीज को देखते हुए गत दिनों कमिश्नर सुरेन्द्र सिंह एवं डीएम के. बालाजी के साथ हस्तिनापुर विधायक दिनेश खटीक ने कोविड वार्ड का निरीक्षण भी किया, लेकिन कमिश्नर सुरेन्द्र सिंह द्वारा सीएचसी में खामियां ही खामियां मिलने पर सीएचसी प्रभारी सतीश भास्कर की क्लास भी ली थी।

बावजूद इसके सीएचसी चिकित्सकों ने ढिकौली में स्वास्थ्य उपकेन्द्र की दयनीय हालत को ठीक कराना तो दूर की बात है। इसका प्रयोग करना भी उचित नहीं समझा। जबकि गत माह पहले ढिकौली में एक ही परिवार के आठ सदस्य कोरोना संक्रमित मरीज मिलने से सीएचसी चिकित्सकों में हड़कंप मचने के बाद गांव की गलियों को सील कर दिया था, लेकिन कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या में अभी तक कोई इजाफा नहीं हो सका है।

…तो फिर नहीं सुधरेगी उपकेन्द्र की दशा

मवाना सीएचसी के अंतर्गत आने गांव कस्बा ढिकौली में स्वास्थ्य उपकेन्द्र की दयनीय हालत सुधरवाने के लिए गांव निवासी पंकज कुमार ने लाइव वीडियो एवं फोटो वायरल किये तो स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों में हड़कंप मच गया। कोरोना काल में अपनी दयनीय हालत पर आंसु बहा रहे स्वास्थ्य उपकेन्द्र पर पसरी गंदगी एवं खड़ी झाड़ियों को कटवाना तो दूर की बात है। कोई समाधान देर शाम तक नहीं हो सका। ऐसे में गांव ढिकौली में बढ़ रहे कोरोना संक्रमित मरीज को निजात मिल पाएगा या नहीं। यह सोचने का विषय है।

हस्तिनापुर विधायक दिनेश खटीक ने कहा कि कोरोना वैश्विक महामारी को लेकर मुख्यमंत्री आदित्यानाथ योगी के निर्देशन पर गांव-गांव में कोरोना संक्रमित मरीजों को बेहतर इलाज के लिए कोरोना किट वितरण के साथ सीएचसी पर कोविड वार्ड खोले गए हैं। हस्तिनापुर विधानसभा क्षेत्र में किसी भी प्रकार की चिकित्सकों की लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी।

सीएचसी उपकेन्द्र का निरीक्षण कर व्यवस्था को सुदृढ़ कर उपकेन्द्र की दयनीय हालत सुधरवाने का कार्य किया जाएगा। खुद उन्होंने अपनी निधि से 50 लाख रुपये कोरोना वैश्विक महामारी के लिए कोविड वार्ड एवं अन्य कोरोना संक्रमण पर जीत हासिल करने के लिए सहायता प्रदान की है।

सीएचसी प्रभारी डा. सतीश भास्कर ने बताया कि वर्ष 2018 में तत्कालीन सीएचसी प्रभारी प्रवीण गौतम द्वारा ढिकौली स्वास्थ्य उपकेन्द्र की हालत जर्जर होने के चलते केंद्र को बंद कर नया उपकेन्द्र अटोरा रोड पर खुलवा दिया था। फिलहाल ढिकौली में स्वास्थ्य उपकेन्द्र ग्रामीण (अर्बन) क्षेत्र में नहीं आता है। वहां तैनात एएनएम को अटोरा उपकेन्द्र पर तैनात कर दिया गया है।

What’s your Reaction?
+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

- Advertisement -

Leave a Reply

- Advertisment -spot_img

Most Popular

- Advertisment -

Recent Comments