Thursday, January 27, 2022
- Advertisement -
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsMeerutओमिक्रॉन के मेरठ में पांच केस मिले

ओमिक्रॉन के मेरठ में पांच केस मिले

- Advertisement -
  • शहर में और बढ़ा खतरा: महाराष्ट्र, केरल और बिहार से आए तीन, दो स्थानीय में हुई पुष्टि

जनवाणी संवाददाता  |

मेरठ: जिले में ओमिक्रॉन के पांच नए केस मिलने से स्वास्थ्य विभाग में हड़कंप मच गया है। पांच में से तीन मरीज दूसरे राज्य बिहार, महाराष्ट्र और केरल से हैं। वहीं, उनके संपर्क में आए दो स्थानीय लोगों में जीनोम सिक्वेंस के लक्षण मिले हैं। पांचों की जांच रिपोर्ट में ओमिक्रॉन की पुष्टि हुई है। सर्विलांस अधिकारी डा. अशोक तालियान ने बताया कि संक्रमित मिले लोगों को हॉस्पिटल में भर्ती करा दिया गया है।

वहीं, उनके संपर्क में आए लोगों की जांच की जा रही है। सभी केस कैंट क्षेत्र से सम्बंधित हैं। उन्होंने बताया कि दूसरे राज्य से आए लोगों के संपर्क में आने चाहिए स्थानीय लोगों को ओमिक्रॉन ने अपनी चपेट में ले लिया है। संक्रमित मरीजों के परिजनों को क्वारंटाइन कर दिया गया है। सभी की ट्रैवल हिस्ट्री खंगाली जा रही है।

21178 ने कराया कोरोना का टीकाकरण

जनपद में फिर से कोरोना के मामले बढ़ने के साथ ही टीकाकरण में तेजी आ गई है। अभियान के दूसरे दिन भी युवाओं में वैक्सीनेशन कराने का उत्साह दिखाई दिया। वहीं, 18 वर्ष से अधिक आयु वर्ग वालों ने भी टीका लगवाने में रुचि ली। मंगलवार को सभी आयु वर्ग के 21178 लोगों द्वारा कोरोना टीकाकरण कराया गया है।

सीएमओ कार्यालय से जारी किए गए आंकड़ों में बताया गया कि मंगलवार का 35570 का लक्ष्य था। लक्ष्य के सापेक्ष 59.5 फीसदी का टीकाकरण हुआ है। यानी 21178 ने कोरोना की डोज ली है। इसमें 15 से 18 वर्ष के 6875 किशोरों को टीका लगाया गया। वहीं, 18 वर्ष से ऊपर आयु वर्ग में 6218 को पहली डोज तथा 8085 को दूसरी खुराक दी गई। जिला प्रतिरक्षण अधिकारी डा. प्रवीन गौतम ने बताया कि 18 से अधिक आयु वर्ग में मंगलवार को 14303 का वैक्सीनेशन हुआ है।

मंगलवार को मेरठ में कोरोना का ‘अमंगल’

दो विदेशी, चार बच्चे और आठ स्वास्थ्यकर्मी समेत 86 संक्रमित मिले
जिले में सक्रिय मरीजों की संख्या 256 और जनवरी में अब तक 195 केस

जनपद में कोरोना की स्थिति खराब होती जा रही है। लापरवाही के चलते फिर से बड़ी संख्या में संक्रमित मरीज सामने आ रहे हैं। मंगलवार को कोरोना के 86 केस मिलने से अमंगल हो गया। इनमें दो विदेशी, चार बच्चे और आठ स्वास्थ्यकर्मी शामिल हैं। 86 में 35 महिला और 51 पुरुष मरीज हैं। इसके साथ ही जिले में कुल सक्रिय केस की संख्या 256 पहुंच गई, जिनमें अकेले जनवरी में अब तक 195 मामले हैं।

नए साल की शुरुआत से ही मेरठ में रोज कोरोना बम फूट रहा है। जहां सोमवार को 48 केस मिले थी। वहीं, मंगलवार को 86 मामले कोरोना के सामने आए हैं। सक्रिय केस अब 256 और होम आइसोलेशन के 242 मामले हैं। सर्विलांस अधिकारी डा. अशोक तालियान ने बताया है कि मंगलवार को 5016 सैंपल की जांच में दो विदेशी में कोरोना का संक्रमण सामने आया है, जिनकी यात्रा जापान और नीदरलैंड से हैं। डॉक्टर्स समेत आठ स्वास्थ्यकर्मी और चार 10 साल से ऊपर आयु के बच्चों में कोरोना के लक्षण की पुष्टि हुई हैं। उन्होंने बताया कि 6260 लोगों के नए सैंपल जांच के लिए भेजे गए हैं।

नए साल में ऐसे बढ़ रहा ग्राफ

  • तारीख नए केस होम आइसोलेशन कुल एक्टिव केस
  • 01 जनवरी 24 79 88
  • 02 जनवरी 37 116 125
  • 03 जनवरी 48 158 173
  • 04 जनवरी 86 242 256

किनानगर में आठ लोग कोरोना पॉजिटिव

वैष्णो देवी जाने की तैयारी कर रहे दो युवकों के कोरोना पॉजिटिव निकलने से हड़कंप मच गया। स्वास्थ्य विभाग ने जब इनके परिवार के अन्य सदस्यों की जांच की तो आठ सदस्य कोरोना पॉजिटिव निकले।

भावनपुर थाना स्थित प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र प्रभारी रोहित वर्मा ने बताया की गांव किनानगर निवासी दो युवक वैष्णो देवी के दर्शन के लिए जाने की तैयारी कर रहे थे जिसके बाद दोनों युवक मेडिकल में अपनी कोरोना जांच के लिए पहुंचे। जहां आरटीपीसीआर रिपोर्ट के अनुसार दोनों युवक के कोरोना पॉजिटिव पाए गए।

जिसके बाद स्वास्थ्य विभाग की टीम में हड़कंप मच गया। वही आनन-फानन में स्वास्थ्य विभाग की टीम ने गांव किनानगर पहुंचकर दोनों युवकों के परिजनों की जांच की। जिसमें चार बच्चे के साथ-साथ दो अन्य युवक सहित आठ लोग कोरोना पॉजिटिव पाए गए। जिसके बाद चिकित्सकों की टीम ने 25 मीटर के एरिये को सील करते हुए अग्रिम कार्रवाई शुरू कर दी है।

इंस्पेक्टर किठौर सहित तीन पॉजिटिव

मंगलवार को माछरा सीएचसी में स्टाफ नर्स के पॉजिटिव पाए जाने के बाद चले जांच अभियान में इंस्पेक्टर किठौर और जीजीआईसी की अध्यापिका भी कोरोना पॉजिटिव पाई गई। अध्यापिका का डाक्टर पति और चालक भी पॉजिटिव बताया जा रहा है। माछरा सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र प्रभारी डा. आलोक नायक ने बताया कि गत वर्षों की तरह पुन: बढ़ रहे कोरोना संक्रमण के मद्देनजर मंगलवार को स्वास्थ्य केंद्र पर तैनात कर्मचारियों की जांच की। जिसमें स्टाफ नर्स खुशबू चौधरी कोरोना पॉजिटिव मिलीं। वह गोकुलधाम मेरठ से रोजाना स्वास्थ्य केंद्र आती हैं।

इसके बाद स्वास्थ्य टीम ने किठौर में जांच अभियान चलाया। यहां प्रभारी निरीक्षक अरविंद मोहन शर्मा कोरोना पॉजिटिव पाए गए। टीम ने थाना स्थित क्वार्टरों में आइसोलेट कर दिया। इंस्पेक्टर के फोलोवर को भी आईसोलेट कर दिया गया है। वहीं, सोमवार को स्वयं की हुई जांच में जीजीआईसी की अध्यापिका टीना भड़ाना और पति डा. अमित और चालक विकास कुमार भी कोरोना पॉजिटिव बताए जा रहे हैं।

टीना भी मेरठ से जाती हैं। इसके चलते जीजीआईसी किठौर में मंगलवार को शिक्षक/शिक्षणेत्तर कर्मचारियों और छात्राओं समेत 42 लोगों की जांच की गई। गनीमत रही कि इनमें पॉजिटिव केस नहीं मिला है।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
1
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Leave a Reply

- Advertisment -spot_img
- Advertisment -
- Advertisment -

Most Popular

- Advertisment -
- Advertisment -spot_img
- Advertisment -

Recent Comments