Sunday, July 21, 2024
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsMeerutहत्या की घटना को हादसा बना दिया पुलिस ने?

हत्या की घटना को हादसा बना दिया पुलिस ने?

- Advertisement -
  • शिवा ढाबे के मालिक को थमाया नोटिस, दबिश जारी

जनवाणी संवाददाता |

मेरठ: शिवा ढाबे के संचालकों को आखिर क्यों बचा रही है पुलिस? परतापुर पुलिस ने ढाबा संचालक को अपराध नियंत्रण का नोटिस थमा कर एक तरह से पूरे मामले को हादसे में तब्दील कर दिया। परतापुर पुलिस भाजपा नेता के दबाव में काम कर रही हैं, जिसके चलते हत्या की धाराओं में मामला पंजीकृत नहीं किया जा रहा हैं। सिर्फ हादसा दर्शा दिया गया हैं।

घटनाक्रम शिवा ढाबा के भीतर आरंभ हुआ। ये सीसीटीवी फुटेज से भी स्पष्ट हो गया हैं। जब झगड़ा भीतर हुआ, मारपीट की गई। डंडे लिये युवक दिख रहे हैं। डंडे लेकर अभिषेक के पीछे दौड़े। अभिषेक जान बचाने के लिए सड़क की तरफ दौड़ रहा था। पीछे दबंग डंडे लेकर दौड़ रहे थे, तब अभिषेक को हाइवे पर दौड़ रहे ट्रक ने रौंद दिया। घटना जहां से आरंभ हुई और अभिषेक की मृत्यु किसकी वजह से हुई? ये पुलिस के लिए जांच का विषय हैं।

02 29

अभिषेक जान बचाने के लिए ही तो तोड़ रहा था। उसे मौत के मुंह में दबंगों ने धकेल दिया। पुलिस के विशेष जानकारों का कहना है कि अभिषेक के पीछे जो दौड़ रहे थे उनका इरादा हत्या करने का था, तभी तो डंडे लेकर दौड़ रहे थे। ऐसे में मामला हादसे का नहीं, बल्कि हत्या या फिर गैर इरादत्तन हत्या का बनता हैं। इसकी विवेचना के दौरान हादसे की धाराओं को हत्या की धाराओं में तरमीम कर दिया जाना चाहिए, लेकिन पुलिस आरोपियों को बचाने में जुटी हैं। हादसे की धाराएं लगाई हैं और पूरे मामले पर लीपापोती की जा रही हैं।

पुलिस की भूमिका पर अंगुली उठ रही हैं। पूरे प्रकरण को लेकर अभिषेक के परिजनों ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के दरबार में पेश होने की बात कही हैं, ताकि हत्यारे पकड़े जा सके। परतापुर बाइपास स्थित शिवा टूरिस्ट ढाबे के मालिक को पुलिस ने शुक्रवार को अपराध नियंत्रण का नोटिस दिया और दूसरी और ढाबे के कैश्यिर की तलाश में पुलिस ने जगह जगह दबिश दी, लेकिन उसका सुराग नहीं लग सका।

इंस्पेक्टर क्राइम नरेंद्र कुमार सिंह ने जानकारी दी है कि शिवा ढाबे के मालिक मनोज शर्मा को नोटिस दिया गया है, जिसके तहत उसको ढाबे पर आने वाले प्रत्येक ग्राहक, प्रत्येक गाड़ी का रिकार्ड रखना होगा और जो भी ढाबे का स्टाफ होगा उन सभी की आईडी रखनी होगी। इंस्पेक्टर ने बताया कि ढाबे के कैशियर गगन की गिरफतारी के लिए कई स्थानों पर दबिश दी गई, लेकिन आरोपी पुलिस के हाथ नहीं लगा।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
1
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Recent Comments