Monday, January 24, 2022
- Advertisement -
- Advertisement -
HomeINDIA NEWSठाकुर श्रीबांकेबिहारी मंदिर में गोस्वामियों के दो गुट भिड़े

ठाकुर श्रीबांकेबिहारी मंदिर में गोस्वामियों के दो गुट भिड़े

- Advertisement -

जनवाणी ब्यूरो |

नई दिल्ली: विश्व विख्यात ठाकुर श्रीबांकेबिहारी मंदिर में सोमवार को एक बार फिर से परंपराओं के साथ खिलवाड़ हुआ। मंदिर के सेवायत गोस्वामियों के दो गुट श्रद्धालुओं को दर्शन कराने को लेकर भिड़ गए। मंदिर प्रांगण में ही दोनों ओर से जमकर लात-घूंसे चले। इस दौरान एक गोस्वामी का दांत भी टूट गया।

दोनों ओर से कोतवाली में तहरीर दी गई है। मंदिर प्रांगण में गोस्वामियों के बीच हुई मारपीट का वीडियो वायरल हो रहा है। मंदिर के गोस्वामी द्वारा लगभग आधा घंटे तक ठाकुरजी के पट भी बंद रखे। मंदिर के प्रबंधक ने मथुरा मुंसिफ को अपनी रिपोर्ट भेज दी है।

सोमवार की सुबह बांकेबिहारी मंदिर में हर दिन की तरह श्रद्धालुओं के दर्शनों के लिए खुला। मंदिर खुलने के एक घंटे बाद नौ बजे मोहित गोस्वामी अपने यात्री को दर्शन कराने ले आए। इसी दौरान भेंट दक्षिणा को लेकर सेवायत गोस्वामी शैलेंद्र गोस्वामी और उनके परिजनों की मोहित से कहासुनी हो गई।

वाद विवाद ने कुछ ही देर में मारपीट का रूप ले लिया और फिर दोनों ओर से मारपीट शुरू हो गई। बताया जाता है कि शैलेंद्र गोस्वामी के परिजनों ने मोहित के साथ जमकर मारपीट की। मंदिर प्रांगण में जगमोहन से शुरू हुई मारपीट गेट नंबर एक तक पहुंच गई। लगभग दोनों पक्षों के बीच पंद्रह मिनट तक मारपीट होती रही।

इस घटना से मंदिर में दर्शन करने आए श्रद्धालु दहशत में आ गए। मारपीट की घटना की जानकारी मिलते ही मोहित के परिजन भी मंदिर पहुंचे और मारपीट में घायल हुए मोहित को लेकर थाने ले गए। जहां शैलेंद्र गोस्वामी सहित करीब आधा दर्जन लोगों के खिलाफ तहरीर दी। इधर, शैलेंद्र गोस्वामी ने भी मोहित के खिलाफ तहरीर दी है। पीड़ित का आरोप है कि इस झगड़े के बाद सेवायत गोस्वामी ने मंदिर के पट करीब आधा घंटे तक बंद कर दिए।

मंदिर में गोस्वामियों के बीच हुई मारपीट और लगभग बीस मिनट तक बंद रहे मंदिर के पट की रिपोर्ट मंदिर प्रशासक सिविल जज जूनियर डिवीजन को भेज दी गई है। – मुनीष शर्मा, प्रबंधक ठाकुर बांकेबिहारी मंदिर।

जगमोहन से कराए दर्शन

क्रिसमस पर भी मंदिर में सेवायत गोस्वामी द्वारा मंदिर में मर्यादा के विपरीत श्रद्धालुओं को जगमोहन से दर्शन करवाने का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ था। इस मामले में मंदिर प्रबंधन द्वारा जांच कराई गई है।

मंदिर में सेवा की यह है व्यवस्था 

ठाकुर बांकेबिहारी मंदिर में सेवा का अधिकार सारस्वत ब्राह्मण समाज के गोस्वामियों को है। यहां तीन समय की प्रतिदिन सेवा है। शृंगार, राजभोग और शयन भोग। शृंगार सेवा अधिकांश राजभोग की सेवा करने वाले ही करते हैं, जबकि शयन भोग की सेवा वाले परिवार अलग हैं। सोमवार का विवाद भी राजभोग सेवायत और शयन भोग सेवायत के बीच हुआ।

पांच नामजद समेत एक अज्ञात पर रिपोर्ट दर्ज

वृंदावन ठाकुर बांके बिहारी मंदिर में हुए झगड़े में बच्चू गोस्वामी के पुत्र मोहन गोस्वामी ने गोपाल गोस्वामी पुत्र देवेंद्र नाथ गोस्वामी, प्रभव गोस्वामी पुत्र शैलेंद्र गोस्वामी, देवेंद्र नाथ, धीरेंद्र और शैलेंद्र के अलावा एक अज्ञात के खिलाफ मारपीट करते हुए जान से मारने की धमकी देने का मुकदमा दर्ज कराया है।

बार-बार टूटी परंपरा

  • 14 सितंबर 2006 – सेवायत ने ठाकुरजी को जींस और टीशर्ट धारण कराई, मोबाइल पकड़ाया।
  • 03 जनवरी 2015 – सेवायत ने राजभोग दर्शनों में बनाया कृत्रिम फूलों का बंगला।
  • 07 जनवरी 2015 – श्रद्धालुओं को जगमोहन से दर्शन कराए।
  • 20जनवरी 2015- श्रद्धालुओं को जगमोहन में लगे कटघरे के अंदर से दर्शन कराए, मंदिर प्रबंधन ने सेवायत को नोटिस देकर लगाया दंड।
  • 31 जून 2015 – प्रदेश के प्रमुख सचिव अलोक रंजन और जिले के अधिकारियों को मंदिर परिसर में कुर्सी मेज लगाकर कराया भोजन।
  • 09 अगस्त 2016 – मंदिर के सेवायत ने मंदिर परिसर में यजमान के बेटे का विवाह कराया।
  • 11 मई 2018- सेवायत द्वारा मंदिर के निज गर्भ गृह में जल भरकर नौका विहार करने पर तोड़ी परंपरा।
  • 25 दिसंबर 2021-दर्शन खुलने से पूर्व मंदिर के जगमोहन से श्रद्धालुओं को दर्शन कराए गए।
What’s your Reaction?
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Leave a Reply

- Advertisment -spot_img
- Advertisment -
- Advertisment -

Most Popular

- Advertisment -
- Advertisment -spot_img
- Advertisment -

Recent Comments