Thursday, August 18, 2022
- Advertisement -
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsMuzaffarnagarब्रह्म कुम्भ में उठी राजनीतिक भागेदारी देने की मांग

ब्रह्म कुम्भ में उठी राजनीतिक भागेदारी देने की मांग

- Advertisement -
  • ब्राह्मण सम्मेलन ने तय की सपा नेता राकेश की सियासी दिशा

जनवाणी संवाददाता |

मुजफ्फरनगर: ब्राहमण सम्मेलन में समाज के राजनीतिक दिग्गजों ने राजनीतिक स्तर पर ब्राह्मण समाज की उपेक्षा को लेकर एकजुटता के साथ संघर्ष करने का आह्नान किया। साथ ही मंच से पश्चिम में राजनीतिक हिस्सेदारी की मांग उठी।

रविवार को सपा नेता राकेश शर्मा ने राजकीय कालेज के मैदान में ब्राह्मण सम्मेलन का आयोजन किया गया। सम्मेलन में उमड़ी भीड़ के कारण शहर में ब्रह्म कुम्भ जैसा नजारा देखने को मिला। आर्य समाज रोड और महावीर चौक पर भगवान परशुराम की पीले रंग की ध्वजा लहरा रही थी।

अपने अपने वाहनों और ट्रैक्टर ट्रालियों से ब्राह्मण समाज के हजारों लोग सम्मेलन स्थल तक पहुंचे। सम्मेलन में मुख्य अतिथि के रूप में पूर्व विधानसभा अध्यक्ष एवं पूर्व मंत्री माता प्रसाद पाण्डेय, पूर्व मंत्री और सपा के राष्ट्रीय सचिव एवं प्रवक्ता अभिषेक मिश्रा मौजूद रहे।

राकेश शर्मा और समाज के अन्य गणमान्य लोगों ने अतिथियों को पगड़ी और अंग वस्त्र भेंटकर सम्मानित किया। इस दौरान राकेश शर्मा ने कहा कि उत्तर प्रदेश में राजनीतिक तौर पर ब्राह्मण समाज को हमेशा ही छला गया है। हिस्सेदारी की बात तो सभी दलों के लोग करते हैं, लेकिन समाज को केवल वोट बैंक के तौर पर ही इस्तेमाल किया जाता रहा।

उन्होंने कहा कि सहारनपुर मण्डल की 16 सीटों पर ब्राह्मण समाज राजनीतिक दृष्टिकोण से बड़ी भूमिका निभाने की स्थिति में है, लेकिन यहां से जब भी समाज को विधानसभा और लोकसभा में पहुंचाने की आवाज उठाई जाती है तो केवल समाज को धोखा ही मिलता है।

सहारनपुर मण्डल की इन 16 सीटों पर ब्राह्मण समाज की 3.50 लाख वोट हैं और यदि समाज की उपजातियों की हिस्सेदारी को इसमें जोड़ दिया जाये तो यह 16 लाख से ज्यादा होती है। उन्होंने कहा कि इतनी संख्या दूसरी जाति की नहीं है। हालांकि राकेश शर्मा ने कहा कि इस मंच के माध्यम से मैं जातिवादी की बात नहीं कर रहा, लेकिन समाज की पीड़ा को समाज के जिम्मेदार लोगों के सामने रखना मेरा फर्ज है।

जिसको निभाने का प्रयास कर रहा हूं। ब्राह्मण कभी भी जातिवादी व्यवस्था का पक्षधर नहीं रहा है, क्योंकि यदि ब्राह्मण जातिवादी वाला होता तो रावण का पुतला दहन नहीं करता और रावण वध करने वाले श्रीराम की पूजा नहीं करता। हम आज राजनीतिक स्तर पर अपनी हिस्सेदारी के अनुरूप सम्मान चाहते हैं। उन्होंने कहा कि आज की सरकार में हर वर्ग दुखी और परेशान है।

उन्होंने कहा कि जो लोग यहां पर ब्राह्मण समाज को संख्याबल के आधार पर कमजोर बताते हैं, वह आज यहां उमड़े जनसैलाब को देख लें। इस अवसर पर राकेश शर्मा ने लखनऊ में भगवान परशुराम की 108 फुट ऊंची प्रतिमा लगाने वाले समाज के लोगों को सम्मानित किया। सम्मेलन की अध्यक्षता सपा जिलाध्यक्ष प्रमोद त्यागी और संचालन राकेश शर्मा व मनमोहन शर्मा ने संयुक्त रूप से किया।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -
- Advertisment -
- Advertisment -

Most Popular

- Advertisment -
- Advertisment -spot_img
- Advertisment -

Recent Comments