Monday, June 14, 2021
- Advertisement -
HomeINDIA NEWSहरियाणा के हिसार में किसानों का प्रदर्शन, हार्ट अटैक से एक व्यक्ति...

हरियाणा के हिसार में किसानों का प्रदर्शन, हार्ट अटैक से एक व्यक्ति की मौत

- Advertisement -
0

जनवाणी ब्यूरो |

नई दिल्ली: हिसार में सोमवार को हजारों किसानों ने प्रदर्शन किया। बड़ी संख्या में किसान सुबह क्रांतिमान पार्क में पहुंचे। प्रदर्शन में पहुंचे किसान नेता राकेश टिकैत ने कहा कि आ गए हैं तो केस निपटा के ही चलेंगे। इनका आगे तक का दिमाग ठीक करेंगे।

वहीं क्रांतिमान पार्क पहुंचे एक किसान रामचंद्र खरब की हार्ट अटैक से मौत हो गई है। वहीं मौके पर पहुंचे एसडीएम जगदीप सिंह से किसान नेता सुरेश कोच ने कहा कि डीसी से दोबारा बात कर लें। जिम्मेदारी लें, नहीं तो यहीं पर आपके कपड़े उतार देंगे।

इससे पहले सिरसा, फतेहाबाद की ओर से आने वाले किसान लांधडी टोल प्लाजा पर एकत्रित हुए। लोहारू, बहल की ओर से आने वाले किसान चौधरीवास टोल और जींद की ओर से आने वाले किसान बरवाला होते हुए बाडो पट्टी टोल पर पहुंचे। रोहतक, दादरी और हांसी की ओर से आने वाले किसान रामायण टोल प्लाजा पर एकत्रित हुए।

वहीं प्रदर्शन को देखते हुए पुलिस भी चौकस है। पुलिस ने क्रांतिमान चौक से लेकर लघु सचिवालय तक तीन नाके लगाए हैं। लघु सचिवालय के बाहर थ्री लेयर सिक्योरिटी लगाई गई है। 12 बजे तक किसानों के जुटने की उम्मीद है। प्रशासन ने 26 ड्यूटी मजिस्ट्रेट लगाए हैं।

16 ड्यूटी मजिस्ट्रेट रिजर्व रखे गए हैं। सभी को अलग अलग प्वाइंट पर तैनात किया गया है। रेपिड एक्शन फोर्स, हरियाणा आर्म्ड पुलिस के अलावा 7 जिलों की पुलिस तैनात की गई है। जिसमें करीब 4 हजार से अधिक पुलिस कर्मी हैं।

जिला प्रशासन ने आंदोलनरत किसानों को बातचीत का दिया न्योता

जिला प्रशासन ने आंदोलनरत किसानों को फिर से बातचीत का न्योता दिया है। जिला प्रशासन की तरफ से प्रेस को जारी किए गए बयान में कहा गया कि 21 मई को हुई वार्ता में किसानों ने हिसार मंडलायुक्त के लिए अपनी मांगें रखी थीं। इन मांगों का समाधान करने की दिशा किसान संगठन के प्रतिनिधियों को मंडलायुक्त ने बातचीत का न्योता दिया है। महामारी के इस कठिन दौर में यह जरूरी है कि किसान आंदोलन का हल शांतिपूर्ण ढंग से बातचीत के माध्यम से निकाला जाए। यह व्यापक हित में है।

हर हाल में करेंगे प्रदर्शन

किसान हर हाल में सोमवार का प्रदर्शन करेंगे। हमारे पास जो बातचीत का निमंत्रण आ रहा है, वह तहसीलदार, इंस्पेक्टर आदि की तरफ से आ रहा है, जबकि उनके पास इस मामले के समाधान को लेकर किसी तरह की पावर नहीं है। हम सिर्फ उसी स्थिति में बातचीत के लिए तैयार हैं, जब खुद आयुक्त हमसे बात करें। -सूबे सिंह बूरा, जिला प्रेस सचिव, किसान सभा।

What’s your Reaction?
+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
1

+1
0

+1
0

- Advertisement -

Leave a Reply

- Advertisment -spot_img

Most Popular

- Advertisment -

Recent Comments