Saturday, June 19, 2021
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsMeerutलूट: एक सिलेंडर पर 560 रुपये फीलिंग चार्ज

लूट: एक सिलेंडर पर 560 रुपये फीलिंग चार्ज

- Advertisement -
0

12 प्रतिशत जीएसटी की भी की जा रही वसूली

मरीजों की जान के साथ किया जा रहा खिलवाड़

मुख्यमंत्री तक पहुंची शिकायत, जांच की मांग

जनवाणी संवाददाता |

मेरठ: आॅक्सीजन के रेटों में भी बेतहाशा वृद्धि किये जाने से मरीजों के साथ खिलवाड़ किया जा रहा है। प्लांटों पर फीलिंग चार्ज के नाम पर और जीएसटी जोड़कर वसूली की जा रही है। जिससे लोगों पर दोगुनी मार पड़ रही है। इस संबंध में सूबे के मुख्यमंत्री से शिकायत कर मामले की जांच कराकर आॅक्सीजन के दामों में कमी लाये जाने की मांग की गई है।

शिकायतकर्ता संजय गुप्ता ने बताया कि वह विक्टोरिया पार्क अग्निकांड आहत कल्याण समिति के सदस्य हैं। कोरोना महामारी के इस दौर में वह मरीजों को नि:शुल्क आॅक्सीजन उपलब्ध करा रहे हैं। उनकी ओर से प्रतिदिन 100 सिलेंडर जरूरतमंदों को उपलब्ध कराये जा रहे हैं।

केन्द्र सरकार और प्रदेश सरकार भी आॅक्सीजन की कमी नहीं होने दे रही है लेकिन प्लांट संचालक यहां अपनी मनमानी कर रहे हैं। उनका कहना है कि पिछले 20 25 दिनों से आॅक्सीजन के दामों में वृद्धि की जा रही है। माहेश्वरी प्लांट पर गैस फीलिंग का बिल बनाकर दिया जा रहा है जिसमें अनाश्यक रूम से लॉडिंग और अनलॉडिंग चार्ज भी जोड़ा जा रहा है।

इसके अलावा जीएसटी 12 प्रतिशत अलग से जोड़ी जा रही है। जिससे लोगों को अतिरिक्त रुपये देने पड़ रहे हैं। उन्होंने बताया कि सिलेंडर की रिफलिंग का जो चार्ज पहले 180 रुपये वसूला जा रहा था वह अब बढ़ाकर 560 रुपये प्रति सिलेंडर कर दिया गया है। यही नहीं उस पर जीएसटी और जोड़ी जा रही है।

गैस की कीमत में भी लोडिंग और अनलोडिंग चार्ज जोड़े जाने से मरीजों के जीवन के साथ खिलवाड़ किया जा रहा है। संजय गुप्ता ने इस संबंध में मुख्यमंत्री को पत्र भेजकर शिकायत की है और इस मामले की जांच कराये जाने की मांग की है। साथ ही कहा कि जल्द से जल्द यहां फीलिंग चार्ज और अन्य चार्ज को आॅक्सीजन से हटाया जाये।

गांवों की स्थिति को लेकर शासन की सख्ती

ग्रामीण क्षेत्र में सभी सीएचसी और पीएचसी के आस-पास सफाई व्यवस्था सही तरीके से कराने और सभी गांवों में सेनेटाइज्ड कराने के लिये अपर मुख्य सचिव ने सभी जिलों को निर्देश जारी किये हैं। गांवों में अगर किसी प्रकार की लापरवाही पाई जाती है तो उसके लिये संबंधित जिला प्रशासन जिम्मेदार होगा। पत्र जारी कर कहा गया कि जल्द से जल्द सभी गांवों की स्थिति में सुधार होना चाहिए।

जिला पंचायती राज अधिकारी आलोक कुमार सिन्हा ने बताया कि अपर मुख्य सचिव मनोज कुमार सिन्हा की आरे से जारी निर्देशों में कहा गया है कि यहां क्षेत्र में जितने भी सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र और प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र व चिकित्सालय हैं। सभी के परिसर व आस-पास के क्षेत्र में अप्रोच रोड का अभियान चलाया जाये वहां की सफाई व्यवस्था दुरुस्त कराई जाये व सभी जगहों पर सैनिटाइजेशन कराया जाये।

सार्वजनिक कार्यालयों में भी सफाई कराई जाये। गांव में स्थित जिन केन्द्रों में भी जलभराव की स्थिति जहां भी उत्पन्न हुई हैं वहा जल्द जल्द अभियान चलाकर जलभराव को खत्म किया जाये। जिससे सभी केन्द्रों पर व्यवस्था न बिगड़े और बीमारी फैलने की आशंक न हो। उन्होंने सभी अधिकारियों से इस संबंध में निर्देश जारी किये हैं साथ ही जल्द से जल्द इस पर कार्य करने को कहा है। जहां भी समस्याएं हैं वहां जल्द से जल्द उन सभी समस्याओं का निराकरण कराया जाये।


What’s your Reaction?
+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

- Advertisement -

Leave a Reply

- Advertisment -spot_img

Most Popular

- Advertisment -

Recent Comments