Tuesday, March 28, 2023
- Advertisement -
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsMeerutस्कूल बस से कुचलकर बच्ची की दर्दनाक मौत

स्कूल बस से कुचलकर बच्ची की दर्दनाक मौत

- Advertisement -
  • परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल, पुलिस ने शव पोस्टमार्टम को भेजा

जनवाणी संवाददाता |

लावड़: शनिवार को कस्बे में समसपुर-फलावदा रोड पर चार वर्षीय मासूम बच्ची को स्कूल बस ने कुचल दिया। जिससे बच्ची की मौके पर ही मौत हो गई। बस चालक ने बस लेकर भागने की कोशिश की, जिसे ग्रामीणों ने पीछा करके समसपुर गांव में पकड़ लिया। सूचना पर लावड़ चौकी इंचार्ज रविंद्र मलिक पुलिस फोर्स के साथ मौके पर पहुंचे और बस व चालक को कब्जे में ले लिया।

कस्बे की आसिफा पुत्री सोनू कुरैशी निवासी मोहल्ला पैंठ चौड़ा कस्बा लावड़ मसूरी रोड स्थित एक स्कूल में नर्सरी क्लास में पढ़ती थी। शनिवार की दोपहर को स्कूल की छुट्टी होने के बाद स्कूल की बस चालक अमृत पुत्र मथन सिंह निवासी ग्राम चिंदौड़ी स्कूल के बच्चो को लेकर उन्हे छोड़ने गया था। लावड़ के मोहल्ला पैंठ चौड़ा में बस से आसिफा पुत्री सोनू बस से उतर रही थी आसिफा पूरी तरह बस से उतरी भी नहीं थी। तभी बस चालक अमृत लापरवाही से बस लेकर चल दिया।

जिससे मासूम बच्ची गिर गई और बस का पिछला पहिया बच्ची के सिर के ऊपर से उतर गया। जिससे वो बुरी तरह कुचल गई और मौके पर दर्दनाक मौत हो गई। चालक अमृत ने बस लेकर समसपुर रोड पर भागने का प्रयास किया, लेकिन ग्रामीणों ने बाइक से पीछा कर समसपुर गांव में उसे पकड़ लिया और अपने साथ घटना स्थल पर ले आए बस चालक को देखते ही ग्रामीणों में रोष फैल गया और उन्होंने चालक की पिटाई करनी शुरू कर दी।

सूचना पर लावड़ चौकी इंचार्ज रविंद्र मलिक पुलिस फोर्स के साथ मौके पर पहुंचे और चालक को कब्जे में ले लिया और चौकी लाकर उसे उपचार के लिए भेज दिया। बेटी की मौत की खबर मिलते ही उसकी मां अमरीन घटना स्थल पर पहुंची और इकलौती बेटी के शव को देखकर उसकी चीख निकल गई और वो बेहोश हो गई। परिजनों ने किसी तरह उसको संभाला। ग्रामीणों ने बच्ची के शव को सड़क पर रखकर जाम लगाने का प्रयास किया।

तभी चौकी इंचार्ज ने उन्हे समझाने का प्रयास किया और कहा कि दोषी के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी तब जाकर ग्रामीण शांत हुए। पुलिस ने शव का पंचनामा भरकर पोस्टमार्टम के लिए मोर्चरी भेज दिया है। आसिफा परिवार में इकलौती बेटी थी और घर में सबकी लाडली थी। उससे छोटे उसके दो भाई मोहम्मद और अबूबक्र हैं। उसकी मां अमरीन बेटी को याद कर बार-बार बेहोश हो रही थी। उसके घर में कोहराम मच गया।

स्कूल बस चालक की लापरवाही से हुआ हादसा

गौरतलब है कि मसूरी दौराला रोड पर स्थित स्कूल में जो बस चल रही है। उसमे बच्चों के उतरने और चढ़ने के लिए केवल एक ही दरवाजा है। जबकि नियम अनुसार स्कूल बस में दो दरवाजे होने जरूरी है, नियम अनुसार स्कूल बस में चालक के अलावा एक कंडक्टर होना अनिवार्य है और उसके साथ एक युवक अलग होता है। जिस पर स्कूल के बच्चों को उतारने और चढ़ाने की जिम्मेदारी होती है,

लेकिन स्कूल की बस में केवल एक दरवाजा है और बस में अकेला चालक ही है और न ही कोई कंडक्टर है और न ही कोई बच्चों को उतारने व चढ़ाने वाला है। इसी तरह इस स्कूल की ऐसी बहुत सारी खामियां है, जो नियम के खिलाफ है। वहीं, कुछ ग्रामीणों का कहना है कि ये स्कूल बच्चों को पढ़ाने के नाम पर परिजनों से मोटी रकम ऐंठ रहे हैं। अगर संबंधित अधिकारी द्वारा स्कूल की जांच कराई जाए तो स्कूल वाहन से लेकर स्कूल फीस व अन्य बहुत-सी खामियां सामने आ जायेंगी। अब देखना ये है इस स्कूल के खिलाफ कोई जांच होती है या यूं ही लापरवाही बरती जाएगी।

कस्बे सहित क्षेत्र में चल रहे बिना मानक के स्कूल

कस्बे में ज्यादातर स्कूल नियम के विरुद्ध चल रहे हैं। जहां कस्बे के अंदर डग्गामार बस, जुगाड़, प्राइवेट वाहन, छोटी कार द्वारा बच्चों को स्कूल लाया और भेजा जाता है। ऐसे बहुत से स्कूल है जिनके पास बसों के व कारों के कोई भी कागज भी पूरे नहीं है, लेकिन किसी भी अधिकारी का ध्यान इस ओर नहीं है। बार-बार परिजनों द्वारा स्कूल में शिकायत करने के बाद भी स्कूल की तरफ से कोई भी समाधान नहीं हुआ।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
2
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -
- Advertisment -
- Advertisment -
- Advertisment -spot_img
- Advertisment -

Recent Comments