Monday, July 22, 2024
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsMeerutचार माह का वेतन मांगने के बदले मिली मौत

चार माह का वेतन मांगने के बदले मिली मौत

- Advertisement -
  • गाड़ियों की धुलाई सेंटर पर काम करता था लापता सुनील
  • 15 हजार प्रतिमाह तय हुई थी तनख्वाह
  • धुलाई सेंटर के मालिक पर रुका था चार माह का वेतन

जनवाणी संवाददाता |

मेरठ: एक माह से लापता युवक का सुराग नहीं लगने पर परिजनों ने हत्या की आशंका जताई है। उनका आरोप है लापता युवक जिनके धुलाई सेंटर पर काम करता था। वहीं लोग चार माह की तनख्वाह देने से बचने के लिए युवक को अपने हरिद्वार लेकर गए थे। वह खुद तो वापस लौट आए, लेकिन युवक वापस नहीं आया। पीड़ित परिवार ने एसएसपी से मदद की गुहार लगाई है।

मंगलवार को कप्तान से मदद की गुहार लगाने पहुंची उषा देवी पत्नी स्व. ओमवीर निवासी 558 अनूपनगर, फाजलपुर ने अपने बेटे की हत्या की आशंका जताई है। पीड़िता का आरोप है उसका बेटा सुनील कंकरखेड़ा थाना क्षेत्र स्थित लखवाया में गोल्डन ड्रीम फार्म हाऊस के सामने गाड़ियों के धुलाई सेंटर पर काम करता था। सेंटर के मालिक रामपाल ने सुनील को 15 हजार रुपये प्रतिमाह पर काम पर रखा था, लेकिन चार माह बीतने के बाद भी सुनील को तनख्वाह नहीं मिली। जब भी सुनील रामपाल से अपना वेतन मांगता तो उसे टरका दिया जाता।

पीड़िता का आरोप है बीती 24 मई को उसका बड़ा बेटा अनिल सुनील को धुलाई सेंटर पर छोड़कर आया था, लेकिन वहां से वापस नहीं लौटा। पीड़िता ने जब रामपाल से अपने बेटे के बारे में पूछा तो रामपाल और उसके बेटे अंकित व सचिन संतोषजनक जवाब नहीं दे सके। अब एक माह बीतने जा रहा है, लेकिन लापता युवक का कोई सुराग नहीं लगा है। वहीं, पीड़ित उषा ने रामपाल व उसके बेटों पर अपने पुत्र सुनील की हत्या का आरोप लगाया है।

पीड़िता का कहना है आरोपी रामपाल व उसके दोनों बेटे पीड़िता के बेटे को 24 मई को हरिद्वार के विष्णुघाट लेकर गए थे। तीनों ने सुनील की वहीं पर हत्या कर उसके शव को गंगा में बहा दिया। साथ ही आरोपियों ने अपने बचाव के लिए उसी दिन एक प्रार्थनापत्र चौकी प्रभारी रीडी बेस काला कोतवाली को दिया। जिसमें कहा गया कि उनके साथ आया युवक सुनील नहाते समय गंगा में डूब गया। जबकि सुनील का मोबाइल भी आरोपियों के पास ही है। पीड़िता ने कप्तान से मदद की गुहार लगाई है।

बीयर शॉप पर अंधाधुंध फायरिंग, सेल्समैन घायल

दिल्ली-देहरादून बाइपास स्थित डुंगरावली गांव के पास ब्रेजा कार सवार बदमाशों ने बीयर शॉप के सेल्समैन पर अंधाधुध फायरिंग कर दी। घटना से ठेके के बाहर अफरातफरी मच गई, जबकि हमलावर हाथों मे हथियार लहराते हुए मौके से फरार हो गए। सूचना के बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने घायल सेल्समैन को उपचार के लिए सुभारती अस्पताल में भर्ती कराया है। मंगलवार को परतापुर थाना क्षेत्र के डुंगरावली गांव के बाहर दोपहर के समय बीयर शॉप के सेल्समैन पर ब्रेजा गाड़ी से आए युवकों ने अंधाधुध फायरिंग कर दी।

फायरिंग की आवाज सुनकर मौके पर अफरातफरी मच गई, लोग इधर-उधर भागने लगे। जबकि घटना को अंजाम देने के बाद ब्रेजा सवार युवक हाथों में पिस्टल लहराते हुए भाग गए। मौके पर पहुंची पुलिस ने घायल सेल्समैन मोनेंद्र सिंह उर्फ मोनू पुत्र करतार सिंह निवासी हसनपुर कलां को उपचार के लिए सुभारती में भर्ती कराया। घायल मोनेंद्र ने पुलिस को बताया कि मैं बीयर के ठेके पर सेल्समैन हूं और अपनी ब्रेजा गाड़ी से डुंगरावली ठेके पर आया था। जैसे ही मैने गाड़ी रोकी तभी दिल्ली की और से आई ब्रेजा गाड़ी में सवार युवकों ने मेरी गाड़ी के आगे अपनी गाड़ी लगा दी

और ताबड़तोड़ फायरिंग करनी शुरू कर दी। एक गोली मोनेंद्र के हाथ में लगी। मोनेंद्र ने परतापुर थाने पर दी तहरीर में फायरिंग करने वाले प्रदीप बैसला पुत्र गजेंद्र बैसला, आशु बैसला व एक अज्ञात निवासी रिठानी को नामजद किया है। पुलिस ने का मानना है दोनों पक्षों के बीच पुरानी रंजिश है। इंस्पेक्टर जयकरण सिंह का कहना है मामले की जांच की जा रही है जल्द ही आरोपियों को हिरासत में ले लिया जाएगा।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
1
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Recent Comments