Monday, July 22, 2024
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsMeerutशास्त्रीनगर में बनी ग्रीन बेल्ट में अवैध पार्किंग

शास्त्रीनगर में बनी ग्रीन बेल्ट में अवैध पार्किंग

- Advertisement -
  • अस्पताल संचालकों ने कब्जाई ग्रीन बेल्ट की जमीन
  • निगम ने ग्रीन बेल्ट से हटाया अतिक्रमण

जनवाणी संवाददाता |

मेरठ: शास्त्रीनगर में तेजगढ़ी चौराहे से लेकर एल ब्लॉक चौकी तक ग्रीन बेल्ट का निर्माण किया गया है। यहां ग्रीन बेल्ट पर लोगों ने अवैध कब्जा कर लिया है। कोई यहां अवैध रूप से पार्किंग करा रहा है तो कोई यहां अपनी दुकान चला रहा है। इसे लेकर गुरुवार को नगर निगम की टीम ने यहां अभियान चलाकर अतिक्रमण हटाया। यहां अतिक्रमण हटे अभी दो घंटे भी नहीं हुए कि अर्जुन हॉस्पिटल के सामने फिर से अवैध पार्किंग शुरू हो गई। इसी तहर कई जगहों पर फिर से पार्किंग कर ली गई है।

03 23

तेजगढ़ी चौराहे से लेकर हापुड़ रोड स्थित एल ब्लॉक चौकी तक ग्रीन बेल्ट का निर्माण कराया जा रहा है। यहां दोनों ओर दीवार बनाकर तैयार कर दी गई थी, लेकिन यहां अवैध कब्जा करने वालों ने पूरी ग्रीन बेल्ट पर ही कब्जा जमा लिया था। एल ब्लॉक स्थित अर्जुन हॉस्पिटल के सामने अवैध रूप से पार्किंग बना दी गई।

कुटी चौराहे और पीवीएस के पास यहां लोगों ने ग्रीन बेल्ट पर कब्जा कर अपनी दुकानें चलानी शुरू कर दी। जनवाणी ने भी इन खबरों को प्रमुखता से छापा था। पूरी ग्रीन बेल्ट पर कई जगह दुकानें लगी थी और कई जगह पर पार्किंग कराई जा रही थी। जिसके बाद गुरुवार को नगर निगम की टीम ने यहां अभियान चलाकर ग्रीन बेल्ट से कब्जा हटाया।

नगर निगम की टीम ने यहां अवैध रूप से रखे खोखों को वहां से हटा दिया और जिन लोगों ने यहां दुकानें लगा रखीं थी उन दुकानों को भी वहां से हटा दिया। नगर निगम की टीम पूरे लाव लस्कर के साथ पहुंची और अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई की।

कार्रवाई के दो घंटे बाद फिर से हो गई पार्किंग

नगर निगम की ओर से अवैध कब्जा हटाने की कार्रवाई की गई। उसके बाद कुछ ही घंटों में फिर से लोगों ने उस पर कब्जा कर लिया। अर्जुन हॉस्पिटल के सामने अस्पताल संचालकों ने यहां अवैध रूप से पार्किंग करा रखी है। यही हाल कैपिटल अस्पताल के सामने का है।

यहां कई अस्पताल हैं और उनके यहां वाहन खड़े करने तक की जगह नहीं है। जिस कारण लोगों को वाहन यहां ग्रीन बेल्ट में खड़े कराये जाते हैं। गुरुवार को भी यही हुआ। अभियान के कुछ ही देर बात फिर से यहां अवैध रूप से पार्किंग शुरू हो गई और कुछ ठेले वालों ने भी यहां अवैध रूप से कब्जा जमा लिया और अपनी दुकानें चलानी शुरू कर दी।

वेदव्यासपुरी के पार्क की दुर्दशा, फिर काम करेगा एमडीए

नगर निगम को एमडीए ने वेदव्यासपुरी का पार्क हैंडओवर किया था, लेकिन निगम ने पार्क का रखरखाव ही नहीं किया। एक अच्छा खासा पार्क बर्बाद हो गया। लोगों ने बार-बार इसकी शिकायत नगर निगम अफसरों से भी की, मगर अफसरों ने ध्यान नहीं दिया। अब एमडीए खुद इस पार्क की देखभाल करने में जुट गया है।

पूरे पार्क में घास खड़ा हो गया था। झाड़ियां भी उग आई थी। पार्क की दुर्दशा बन गई। अब फिर से एमडीए इसकी दशा सुधारने में जुट गया है। वेदव्यासपुरी आवासीय योजना के सैक्टर-5 स्थित जोनल पार्क हैं। लाखों रुपये एमडीए खर्च कर चुका है। डब्लूआरए व स्थानीय निवासियों ने इस पार्क की शिकायत की गयी।

जोनल पार्क करीब 15 एकड़ क्षेत्रफल में फैला है। पार्क में पूर्व से रोपित पौधों, लॉन हैज व ऐज तथा पार्क में पौधों एवं लॉन की सिंचाईं के लिए पूर्व में स्थापित 75 एचपीके 2 सबमर्सिबल के अनुरक्षण के सम्बन्ध में योजना नगर निगम मेरठ को हस्तातंरित की जा चुकी है।

योजना में स्थित पार्कों के रखरखाव के लिए नगर निगम को कई बार पत्र व्यवहार भी किया गया, परन्तु नगर निगम ने किसी भी पार्क के अनुरक्षण का कार्य अपने स्तर से अभी तक प्रारंभ नहीं कराया गया है। जिस कारण वृहद् जोनल पार्क की स्थिति काफी खराब हो गयी है। क्योंकि 15 एकड़ क्षेत्रफल में जोनल पार्क के अनुरक्षण पर कॉफी धनराशि खर्च होती है। मेरठ विकास प्राधिकरण ने स्थानीय निवासियों की मांग पर पुन: वृहद जोनल पार्क के अनुरक्षण का कार्य प्रारम्भ करा दिया गया है।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
7
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Recent Comments