Monday, January 24, 2022
- Advertisement -
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsMeerutदर-दर नवाज रहे सिर, कोई तो खोल दे दर...

दर-दर नवाज रहे सिर, कोई तो खोल दे दर…

- Advertisement -
  • राजनीति से ‘बेदखल’ शाहिद अखलाक को क्या अब सपा में मिलेगा ठिकाना?
  • सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव से मिले शाहिद अखलाक, फोटो हुआ वायरल

जनवाणी संवाददाता |

मेरठ: राजनीति की बिसात पर करीब एक दशक से हाशिये पर पहुंचे पूर्व सांसद हाजी शाहिद अखलाक कई राजनीतिक दलों के दरों पर दस्तक दे रहे हैं। आखिर किसी दर पर तो उन्हें एंट्री मिले। इसी उम्मीद के साथ शाहिद अखलाक अपनी राजनीतिक जमीन तलाश रहे हैं। क्योंकि एक दशक से वह राजनीति में ‘बेदखल’ से हो गए हैं। बसपा से निष्कासन के बाद से राजनीति के दरवाजे उनके लिए बंद हो गए थे।

एक दशक उनके लिए ‘राजनीतिक वनवास’ ही कहा जाएगा कि इस बीच उनकी किसी भी दल में एंट्री नहीं हुई। अब फिर से वह अपनी उस सियासत की चासनी को गर्म कर रहे हैं, जो ठंडी पड़ी हुई थी। इसके लिए पहले उन्होंने कांग्रेस का दरवाजा खोलने की कोशिश की थी।

यह चर्चा भी आम है कि कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी से भी मुलाकात की थी। कहा जा रहा था कि शाहिद कांग्रेस के चुनाव चिन्ह पर अपने पुत्र को मेरठ दक्षिण से विधानसभा चुनाव लड़ाना चाहते थे, लेकिन इसी बीच उन्होंने औवेसी का फोटो अपने फुसबुक वॉल पर पोस्ट कर दिया, जिसमें अपनी पोस्ट में कहा था कि सकुलर पार्टियों का दम भरने वाले दल मुस्लिमों की सिर्फ वोट लेते हैं, उनका ख्याल नहीं रखते।

उनकी बात नहीं उठा पाते हैं। औवेसी के साथ उनके जाने की चर्चाएं चली, लेकिन मंगलवार को अचानक वह सपा मुखिया अखिलेश यादव के दर पर सिर रखने पहुंच गए। आखिर सपा का दरवाजा उनके लिए खुलता है या फिर नहीं, इस पर अभी कुछ कहना मुश्किल हैं, लेकिन फिलहाल उनकी सपा में एंट्री की औपचारिक घोषिणा नहीं हुई। इतना अवश्य है कि शाहिद अखलाक दस वर्ष का वनवास झेलने के बाद एक बार फिर सियासत में सक्रिय होने के लिए बेकरार नजर आ रहे हैं।

बसपा से निष्कासित चल रहे पूर्व एमपी हाजी शाहिद अखलाक का अब नया राजनीतिक ठिकाना समाजवादी पार्टी होगा। मंगलवार को शाहिद अखलाक पूर्व मुख्यमंत्री एवं सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव से मिले। शाहिद अखिलाक ने पूर्व सीएम अखिलेश के साथ फोटो खिंचवाई, फिर ये फोटो सोशल मीडिया पर वायरल भी कर दी।

तीन दिन से यह चर्चा चल रही थी कि शाहिद अखलाक अपने पुत्र को कांग्रेस के टिकट पर मेरठ दक्षिण विधानसभा से चुनाव मैदान में उतार सकते हैं। इसके साथ ही शाहिद अखलाक ने अपनी फेसबुक आईडी पर औवेसी का फोटो शेयर कर लोगों से पूछा था कि कहां जाए? इसका मशवरा भी मांगा था।

अचानक सपा में उन्होंने अपना नया ठिकाना तलाश लिया। पहले भी सपा में एंट्री की कोशिश हुई थी, लेकिन तब अखिलेश मुख्यमंत्री हुआ करते थे तथा शाहिद की सपा में एंट्री नहीं हो पाई थी। अब फिर से राजनीति में बेदखली से सक्रिय होने की जुगत में लगे हुए हैं। इस बार उनकी एंट्री का माध्यम बने सपा नेता अतुल प्रधान।

जिस दौरान सपा अध्यक्ष अखिलेश से शाहिद की मुलाकात हुई, उस दौरान अतुल प्रधान भी मौजूद रहे। यह मुलाकात अतुल प्रधान ने कराई, जिसके बाद शाहिद की सपा में एंट्री हो गई, लेकिन इसकी विधिवत घोषणा आने वाले दिनों में की जाएगी। तब यहां पर अखिलेश यादव की बड़ी जनसभा कराई जाएगी, जिसके बाद शाहिद अखलक की सपा में ज्वाइनिंग का ऐलान किया जाएगा। बता दें, हाजी शाहिद अखलाक का परिवार राजनीतिक हैं।

1989 में उनके पिता हाजी अखलाक शहर विधानसभा से जनता दल से विधायक रह चुके हैं। खुद शाहिद अखलाक वर्ष 2000 में मेरठ के महापौर रहे। इसके बाद 2004 से 2009 तक बसपा के टिकट पर मेरठ के सांसद रहे। वर्ष 2006 में सपा में आए, लेकिन कुछ समय बाद फिर बसपा में वापसी की।

2014 का लोकसभा चुनाव उन्होंने बसपा के टिकट पर लड़ा। इसके कुछ समय विवाद के चलते उन्हें पार्टी से निकाल दिया गया। 2009 के लोकसभा चुनाव में सपा से टिकट न मिलने पर अखलाक ने खुद की पार्टी बना ली। नाम रखा सेकुलर एकता पार्टी, लेकिन इस पार्टी से वह खास राजनीतिक प्रदर्शन नहीं कर पाए।

इसलिए बसपा में वापसी कर ली थी। वर्तमान में बसपा से निष्कासित चल रहे थे। लंबे समय से अपने नये ठिकाने की तलाश में थे। पिछला लोकसभा चुनाव लड़ने के लिए भी प्रयास किये, लेकिन किसी पार्टी में ठिकाना नहीं मिला था। अब सपा में एंट्री पा गए हैं।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Leave a Reply

- Advertisment -spot_img
- Advertisment -
- Advertisment -

Most Popular

- Advertisment -
- Advertisment -spot_img
- Advertisment -

Recent Comments