Wednesday, January 19, 2022
- Advertisement -
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsMeerutसड़कें हो गई जानलेवा

सड़कें हो गई जानलेवा

- Advertisement -

जनवाणी संवाददाता |

मेरठ: यातायात माह को लेकर यातायात जागरूकता रैली को वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक प्रभाकर चौधरी द्वारा हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। इस अवसर पर जनपद पुलिस के सभी अधिकारी व अपर जिलाधिकारी, आरटीओ, आरएम रोडवेज व अन्य प्रशासनिक अधिकारी भी उपस्थित रहे। वहीं, इस वर्ष अब तक 252 लोग सड़क दुर्घटनाओं में मारे जा चुके हैं। वहीं, ट्रैफिक विभाग चार करोड़ से अधिक की धनराशि वसूल चुका है।

पुलिस महानिदेशक के निर्देशानुसार इस माह में सड़क सुरक्षा जीवन रक्षा से सम्बन्धित अनेक यातायात जागरूकता कार्यक्रम आयोजित किये जायेंगे। जैसा कि देखने में आ रहा है कि सड़कों पर दिन-प्रतिदिन वाहनों के बढ़ते हुए दबाव एवं वाहनों से होने वाली सड़क दुर्घटनाएं एक गम्भीर समस्या बनती जा रही है।

यातायात पुलिस एवं नागरिक पुलिस द्वारा विगत वर्ष (2020) में कुल चालान-1,89,210 व कुल सीज 1664 किये गये और किये गये चालानों से 4,18,99,121 रुपये शमन शुल्क की धनराशि वसूल की गयी। जबकि एक जनवरी 2021 से 30 सितम्बर 2021 तक कुल 1,02,850 चालान व कुल सीज-1133 किये गये और किये गये चालानों से 4,35,48,000 रुपये शमन शुल्क के रूप में वसूल किये गये हैं।

एक जनवरी 2020 से 31 दिसम्बर 2020 तक कुल 725 सड़क दुर्घटनाएं हुई है। जिनमें 338 व्यक्तियों की मृत्यु एवं 454 व्यक्ति घायल हुए। सड़क दुर्घटनाओं का मुख्य कारण वाहन चालकों को यातायात नियमों की जानकारी का अभाव, यातायात नियमों के प्रति जागरूक न होना, नियमों का पालन न करना तथा लापरवाही से वाहन चलाना होता है।

सड़क दुर्घटनाओं में 16 वर्ष से 30 वर्ष की आयु के युवा व्यक्तियों की मृत्यु का ग्राफ अधिक है। जिसका मुख्य कारण दोपहिया वाहन चालकों द्वारा हेलमेट धारण न करना, चार पहिया वाहन चालकों द्वारा सीट बैल्ट न लगाना, वाहन चलाते समय मोबाइल फोन पर बातचीत करना, लापरवाही, गलत दिशा व तेजगति से वाहन चलाना, नाबालिग युवाओं द्वारा वाहन चलाना है।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Leave a Reply

- Advertisment -spot_img
- Advertisment -
- Advertisment -

Most Popular

- Advertisment -
- Advertisment -spot_img
- Advertisment -

Recent Comments