Monday, October 3, 2022
- Advertisement -
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsMeerutजश्न-ए-आजादी पर कोटेदार खा गए गरीबों के चावल

जश्न-ए-आजादी पर कोटेदार खा गए गरीबों के चावल

- Advertisement -
  • दबंगई से की प्रति यूनिट एक किलो चावल की कटौती

जनवाणी संवाददाता |

मेरठ: आजादी की 75वीं वर्षगांठ के मौके पर भी कोटेदार गरीबों का निवाला गटकने से बाज नहीं आए। ठेके पर दुकानें चला रहे दागी कोटेदार गरीबों का कई कई किलो चावल गटक रहे हैं। शहर में स्थित राशन की कई दुकानों पर गरीबों के खाद्यान्न पर कोटेदारों की गिद्ध रखने वाले कोटेदार नए-नए हथकंडे इस्तेमाल कर रहे हैं।

शहर के चतुर्थ क्षेत्र में खाद्यान्न घोटाले के आरोपी डीलर कमरूदीन ने अपनी निलंबित दुकान कोसो दूर जाहिदपुर अटैच कराकर खुद संचालित कर रखी है। इस दुकान के कार्ड धारकों को खाद्यान्न कम दिया जा रहा है। वहीं मंजूर नगर में ठेके पर चल रही मैसर्स मो. शारिक की दुकान पर भी खुलकर गरीबों के राशन की कटौती की जा रही है।

कोटेदार पांच यूनिट से अधिक सदस्यों वाले कार्ड पर प्रति कार्ड चार किलो चावल बांट रहा है। विरोध करने पर ग्राहकों से अभद्रता की जा रही है। काफी कार्ड धारकों ने अपने राशन कार्ड एव मोबाइल फोन नंबर के साथ कई कई किलो कम खाद्यान्न दिए जाने का उल्लेख विभाग से क शिकायत में किया है।

थर्ड एरिया के डीलर प्रशांत की दुकान पर भी कार्ड धारकों को कम राशन दिया जा रहा है। डीलर के गुर्गे पात्र गृहस्थी को यूनिट कटने तथा अगली बार जुड़ने का बहाना बनाकर एक यूनिट का राशन कम बांट रहे हैं। कार्ड धारक फतल्लेहपुर निवासी शबनम पत्नी आरिफ को सात यूनिट पर सिर्फ 30 किलो चावल दिए गए।

डीलर ने उसके कार्ड पर दिया खाद्यान की मात्रा भी अंकित की है।बताते है कि शहर में अधिकांश दुकानें ऐसे कोटेदार चला रहे है जिनके खिलाफ विगत वर्षो पकड़े गए खाद्यान्न घोटाले में एफआईआर दर्ज हुई थी। विभागीय सेटिंग से दागियों ने अटैचमेंट पर लगवाकर दुकानों पर कब्जा कर रखा है।

कोटेदार गरीब कार्ड धारकों को खुलकर लूट रहे हैं। नए कार्ड धारकों से तीन महीने तक अंगूठा लगवाकर खाद्यान्न के बजाय अंगूठा दिखाया जा रहा है। इस संबंध में डीएसओ विजय कुमार ने बताया कि शिकायत पर कार्रवाई की जाएगी।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
2
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -
- Advertisment -
- Advertisment -

Most Popular

- Advertisment -
- Advertisment -spot_img
- Advertisment -

Recent Comments