Monday, November 29, 2021
- Advertisement -spot_imgspot_imgspot_imgspot_img
- Advertisement -spot_imgspot_imgspot_imgspot_img
HomeUttar Pradesh NewsShamliखेत में मिले पशुओं के अवशेष, गौकशी की आशंका

खेत में मिले पशुओं के अवशेष, गौकशी की आशंका

- Advertisement -
  • पशु चिकित्सक ने अवशेष के सेंपल जांच को भेजे

जनवाणी संवाददाता |

कैराना: सोमवार सुबह करीब 8: 00 बजे शामली रोड स्थित औद्योगिक पुलिस चौकी के सामने इंडस्ट्रियल एरिया के निकट गांव कंडेला निवासी किसान मनीष व प्रमोद के धान व ईंख के खेत में कुछ पशुओं के अवशेष व खून पड़ा मिला। सुबह किसान अपने खेतों पर पहुंचे तो उन्हें वहां पशुओं का खून व अवशेष पड़े मिले। सूचना पर गांव अन्य ग्रामीण भी मौके पर आ गए। जिसके बाद ग्रामीणों द्वारा पुलिस को सूचना दी गई।

सूचना पर कोतवाली प्रभारी प्रेमवीर राणा पुलिस टीम के साथ मौके पर पहुंचे। पुलिस को पशुओं की खाल व सिंग नहीं मिले जिससे पशुओं की पहचान की नहीं हो सकी। बाद में अवशेषों का परीक्षण कराने के लिए मौके पर पशुओं के डॉक्टर को बुलाया गया। डॉक्टर ने परीक्षण के लिए अवशेषो के सैंपल लिए और जांच को भेज दिए। किसान ओमपाल ने बताया कि गांव के बाहर कुछ लावारिश गोवंश घूमते हैं। किसी असामाजिक तत्वों ने रात के समय गोवंशों का वध कर मौके पर अवशेष डाल दिए।

कंडेला के पूर्व ग्राम प्रधान रामवीर ने बताया कि गांव के बाहर आवारा घूमने वाले गोवंश को काटा गया हैं। आवारा घूमने वाले गोवंशों की प्रशासन द्वारा कोई व्यवस्था नहीं की गई है। गांव के बाहर प्रतिदिन 100 से 150 आवारा गोवंश घूमते रहते हैं। वहीं उन्होंने पुलिस से असामाजिक तत्वों के खिलाफ कड़ी कार्यवाही कराने की मांग की हैं।

उधर, पुलिस द्वारा कंडेला के रास्तों पर मौजूद फैक्ट्रियों पर लगे सीसीटीवी कैमरे खंगालने में जुटी हुई हैं। कोतवाली प्रभारी प्रेमवीर राणा ने बताया कि जंगल में कुछ पशुओं के अवशेष मिले हैं। डॉक्टरी परीक्षण के लिए अवशेषों के सैंपल लेकर जांच के लिए भेज दिए हैं। रिपोर्ट आने के बाद कार्यवाही की जाएगी।

बारिश और त्यौहार का उठाया फायदा

जंगल में जिस तरीके से खून के निशान व पशुओं के अवशेष मिले हैं। आसपास के ग्रामीणों ने बताया कि घटनास्थल के आसपास 5-6 गोवंश हमेशा घूमते रहते थे। वहीं एक दिन पहले करवा चौथ पर्व व मूसलाधार बारिश हुई थी। जिस कारण फैक्ट्री व अन्य स्थानों से आने वाले ग्रामीणों का आवागमन बंद था। इसी का असामाजिक तत्वों ने फायदा उठाया तथा गोवंश का वध कर उनकी खाल व मांस अपने साथ किसी वाहन में ले गए। केवल मौके पर पशुओं के कुछ अवशेष, खून के निशान व गोबर तथा रस्सी छोड़ कर चले गए।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Leave a Reply

- Advertisment -spot_imgspot_imgspot_imgspot_img

Most Popular

- Advertisment -spot_img

Recent Comments