Sunday, July 21, 2024
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsMeerutगांजा तस्कर के घरों में कुर्की का नोटिस चस्पा

गांजा तस्कर के घरों में कुर्की का नोटिस चस्पा

- Advertisement -
  • पुलिस ने करीब आठ करोड़ की संपत्ति की चिन्ह्ति
  • कैंट बोर्ड से मांगा मछेरान की संपत्ति का ब्यौरा

जनवाणी संवाददाता |

मेरठ: वेस्ट यूपी की सबसे बड़ी मंडी सोतीगंज को ध्वस्त करने के बाद अब पुलिस ने गांजा तस्कर तस्लीम के खिलाफ शिकंजा कसना शुरू कर दिया है। पुलिस जल्द ही तस्लीम के खिलाफ कार्रवाई करेगी। तस्लीम की अवैध तरीके से कब्जाई की करीब आठ करोड़ की संपत्ति को पुलिस ने चिन्ह्ति किया है और कैंट बोर्ड से भी मछेरान की संपत्ति का ब्योरा मांगा है।

22 13

तस्लीम सबसे बड़ा ड्रग तस्कर है। गांजे से लेकर अफीम, हेरोइन तक सब इसके यहां मिलता है। तस्लीम का नेटवर्क वेस्ट यूपी समेत दिल्ली एनसीआर तक फैला हुआ है। शनिवार को लालकुर्ती पुलिस ने तस्लीम के परिवार की पत्नी समेत चार लोगों पर गैंगस्टर के तहत कार्यवाही होने के बाद उनके घरों पर कुर्की के आदेश चस्पा कर दिये।

रेलवे रोड थाना क्षेत्र के पूर्वा हाफिज अब्दुल करीम मछेरान मोहल्ले में हाजी तस्लीम परिवार के साथ रहता है। पुलिस अधिकारियों के अनुसार तस्लीम वेस्ट यूपी समेत दिल्ली-एनसीआर में नशीले पदार्थ का सबसे बड़ा सौदागर है। उसके खिलाफ यूपी के विभिन्न थानों में करीब 30 मुकदमें दर्ज हैं। तस्लीम की पत्नी नसीम बानो भी पार्टनर होने के साथ ही नशे के धंधे में शामिल है।

तस्लीम जब भी जेल में गया तो उसका नशे का पूरा काम नशीन ने ही संचालित किया है। तस्लीम पिछले 19 वर्षों से नशे के कारोबार से जुड़ा है। इस बीच करोड़ों रुपये की संपत्ति अर्जित की है। लालकुर्ती इंस्पेक्टर अतर सिंह ने बताया कि नसीम बानो, दामाद निजामुद्दीन, दानिश और बेटे शहबाज के घर पर कुर्की के आदेश चस्पा कर दिए गए हैं। इनकी आठ करोड़ की संपत्ति पुलिस जब्त करेगी।

ट्रस्ट की करोड़ों की जमीन बेचने का आरोप

मेरठ-परतापुर बाइपास पर स्थित ज्ञान भारती शिक्षा प्रसार न्यास ट्रस्ट की करोड़ों की 67 बीघा जमीन के कुछ हिस्से को ट्रस्ट के फाइनेंस कंट्रोलर द्वारा ट्रस्ट के एक व्यक्ति पर असामाजिक तत्वों द्वारा बेचने का आरोप लगाकर न्यायालय में शिकायत की है।

मेरठ-परतापुर बाईपास एनएच-58 पर ज्ञान भारती शिक्षा प्रसार न्यास ट्रस्ट की करोड़ों की 67 बीघा जमीन स्थित है। इस जमीन के बड़े हिस्से पर ज्ञान भारती इंजीनियरिंग कॉलेज भी है। ज्ञान भारती शिक्षा प्रसार न्यास ट्रस्टी व फ ाईनेंस कंट्रोलर संजीव गुप्ता ने आरोप लगाया कि ट्रस्ट कार्यकारिणी के एक पदाधिकारी ने बडेÞ रसूखवालों से मिलकर असामाजिक तत्वों से सांठगांठ कर जमीन को बेचने की तैयारी कर रहे है।

ट्रस्ट के फाइनेंस कंट्रोलर संजीव गुप्ता ने कार्यकारिणी के सदस्य को कई बार चेताया भी कि यह ट्रस्ट की जमीन फर्जी तरीके से बेची नहीं जा सकती, लेकिन वह धमकी देते हुए गैर कानूनी रूप से बेचने की पूरजोर कोशिश कर रहा है। संजीव गुप्ता ने बताया कि इस घटना व प्रयास की शिकायत उसने न्यायालय के माध्यम से भी की है।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
7
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Recent Comments