Wednesday, July 24, 2024
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsMeerutमहाशिवरात्रि को सुबह से रात तक होगा जलाभिषेक

महाशिवरात्रि को सुबह से रात तक होगा जलाभिषेक

- Advertisement -
  • मंदिर समिति और प्रशासन के बीच हुई बैठक
  • भक्तों का प्रवेश गरुड़ द्वार और निकास नंदी द्वार से होगा

जनवाणी संवाददाता |

मेरठ: महाशिवरात्रि को लेकर प्रशासन ने कड़ी व्यवस्था की है। प्रशासन और मंदिर समिति के पदाधिकारियों के बीच हुई बैठक में तय किया गया कि एक मार्च को सुबह छह बजे से जलाभिषेक शुरू होगा जो पूरी रात चलेगा। इस मौके पर मंदिर समिति की तरफ से व्यापक व्यवस्था की गई है।

20 15

श्रीबाबा औघड़नाथ शिव मंदिर समिति एवं सहयोगी बंधुओं के साथ एक सभा शनिवार को प्रात: 8:30 बजे मंदिर कार्यालय पर हुई। जिसकी अध्यक्षता डा. महेश बंसल ने की तथा संचालन महामंत्री सतीश सिंहल ने किया। एक मार्च मंगलवार को महाशिवरात्रि पर्व मनाया जायेगा। उसकी व्यवस्थाओं पर चर्चा की गई।

जिसमें श्रद्धालुओं के लिए मंदिर के बाहर व अन्दर बैरिकेडिंग की व्यवस्था नि:शुल्क जूता स्टैंड मंदिर के बाहर खोया-पाया केन्द्र, बिजली की सजावट, जनरेटर की व्यवस्था, भक्तों को जल चढ़ाने के लिए 1000 लौटों की व्यवस्था, मंदिर समिति द्वारा गरुड़ द्वार से जल व्यवस्था की जायेगी। भक्तों का प्रवेश गरुड़ द्वार से होगा तथा निकास नंदी द्वार से होगा। मंदिर समिति व सहयोगी बंधु 100 की संख्या में व्यवस्था बनायेंगे।

एक मार्च महाशिवरात्रि पर्व पर मंदिर प्रात: पांच बजे आरती के पश्चात भगवान शंकर जी का जलाभिषेक प्रारम्भ हो जायेगा। महाशिवरात्रि के दिन पांच विशेष आरती की जायेंगी तथा सम्पूर्ण रात्रि मंदिर खुला रहेगा। मुख्य पुजारी श्रीधर त्रिपाठी ने बताया कि महाशिवरात्रि में रात्रि में भजन कीर्तन और जागरण करना चाहिए। इसलिए मंदिर में रात्रि में चार प्रहर की आरती होगी और रातभर मंदिर के कपाट खुले रहेंगे।

महामंत्री सतीश सिंघल ने बताया कि भोले की झांकी और भजनों का कार्यक्रम करने की योजना बनाई जा रही है, यह मंगलवार को शाम होगा। आज प्रशासन के अधिकारियों की एक सभा मंदिर कार्यालय पर हुई। जिसकी अध्यक्षता डा. महेश बंसल ने तथा संचालन महामंत्री सतीश सिंहल ने किया।

सभा में अपर जिलाधिकारी दिवाकर सिंह, एसपी सिटी विनीत भटनागर, एएसपी सदर एसओ सदर, एससीएम, कैंटोमेंट बोर्ड से चीफ इंजीनियर, मुख्य अभियन्ता विद्युत, सहायक निदेशक विद्युत सुरक्षा, सीओ दौराला व इंस्पेक्टर यातायात ने सभी विषयों पर चर्चा की। इस मौके पर समिति सदस्य अध्यक्ष डा. महेश बंसल, उपाध्यक्ष धीरेंद्र सिंहल, मंत्री सुनील गोयल, कोषाध्यक्ष अतुल अग्रवाल, सुधीर गुप्ता, ब्रजभूषण गुप्ता, राजेन्द्र गुप्ता, अनिल सिंघल, अमित अग्रवाल आदि सभा में उपस्थित रहे।

कोलकाता के फूलों से सजेगा औघड़नाथ मंदिर

महाशिवरात्रि का पर्व आगामी एक मार्च को है। ऐसे में मंदिरों में विशेष साज-सज्जा होगी। शहर के ऐतिहासिक औघड़नाथ मंदिर में श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ती है। इसके चलते मंदिर समिति ने पूरी रात मंदिर खोलने का निर्णय लिया है। रुद्राभिषेक के लिए पुजारियों की बुकिंग भी की जा रही है, महाशिवरात्रि पर भगवान भोलेनाथ और मां गौरा की उपासना विशेष फलदाई होती है।

21 16

औघड़नाथ मंदिर समिति के महामंत्री सतीश सिंघल ने बताया कि महाशिवरात्रि पर रंग बिरंगी लाइटों से सज्जा होगी। कोलकाता के फूलों से फूल बंगला सजाया जाएगा। उन्होंने बताया कि श्रद्धालुओं के दर्शन के लिए 28 फरवरी की पूरी रात और एक मार्च को मंदिर पूरी रात खुलेगा। ज्योतिषाचार्य बताते हैं कि हिंदू धर्म में महाशिवरात्रि का विशेष महत्व है। ऐसी मान्यता है कि इस दिन भगवान शिव की पूजा से व्यक्ति को विशेष फलों की प्राप्ति होती है। धार्मिक शास्त्रों के अनुसार ऐसा माना जाता है कि महाशिवरात्रि के दिन ही भगवान शिव और माता पार्वती का विवाह हुआ था। इस दिन व्रत रख कर शिव-पार्वती की पूजा करने का विधान है।

ई-मनीआर्डर कर घर बैठे पाएं काशी विश्वनाथ मंदिर का प्रसाद

वैसे तो महाशिवरात्रि के मद्देनजर श्रीकाशी विश्वनाथ मंदिर में भगवान भोलेनाथ के दर्शन के लिए श्रद्धालु मेरठ सहित देशभर से जा रहे हैं और प्रसाद भी ले रहे हैं, लेकिन जो भक्त अब काशी विश्वनाथ का प्रसाद घर बैठे पाना चाहते हैं। उनके लिए भक्तों को मात्र 250 रुपये खर्च करने पड़ेगे और ई-मनीआॅर्डर करवाकर किसी भी हिस्से में बैठे महादेव के भक्त तर प्रसाद पहुंच जाएगा।

प्रसाद में काशी विश्वनाथ ज्योतिर्लिंग की छवि, महामृत्युंजय यंत्र, शिव चालीसा, 108 दाने की रुद्राक्ष की माला, बिल्वपत्र, माता अन्नपूर्णा से भिक्षाटन करते भोले बाबा की छवि अंकित सिक्का, भभूति, रक्षा सूत्र, रुद्राक्ष मनका, मेवा आदि का पैकेट शामिल होगा। प्रवर अधीक्षक डाकघर ने बताया कि भक्तों को मोबाइल नंबर के माध्यम पर स्पीड पोस्ट का विवरण एसएमएस के माध्यम से मिलेगा। इसके लिए भक्तों को ई-मनीआॅर्डर में अपना पूरा पता, पिन कोड और मोबाइल नंबर लिखना अनिवार्य होगा।

डिब्बा बंद और टैंपर प्रूफ लिफाफे में मिलेगा प्रसाद

प्रसाद डिब्बे में बेद होगा और टैंपर प्रूफ लिफाफे में भेजा जाएगा। इसमें किसी भी तरह की छेड़छाड़ नहीं की जा सकेगी। वहीं, डाकघर के काउंटर से भी प्रसाद प्राप्त किया जा सकता है। डाक विभाग और काशी विश्वनाथ मंदिर ट्रस्ट के बाच हुए एग्रीमेंट के तहत नए स्वरूप में काशी विश्वनाथ मंदिर का प्रसाद देशभर में स्पीड पोस्ट सेवा से भक्तों को उपलब्ध कराया जा रहा है।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
5
+1
1
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Recent Comments