Friday, January 28, 2022
- Advertisement -
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsMeerutगंदगी में शिक्षा ग्रहण करने को मजबूर बच्चे

गंदगी में शिक्षा ग्रहण करने को मजबूर बच्चे

- Advertisement -
  • बीआरसी परिसर में फैली गंदगी, शिक्षिकाओं ने पालिका से की सफाई कराने की मांग

जनवाणी संवाददाता |

सरधना: भले ही नगर पालिका स्कूल के बच्चों को स्वास्थ्य शिक्षा देने का दावा कर रहा हो, मगर यह हकीकत से दूर है। पालिका की लापरवाही के चलते कालंद रोड स्थित बीआरसी परिसर में प्राथमिक विद्यालय कदीम के क्षेत्र में सभी पालिका विद्यालय गंदगी की चपेट में हैं। इन इलाकों में ज्यादातर विद्यालयों के आसपास गंदगी का जमावड़ा लगा है। इस स्थिति में यहां पर पढ़ने वाले विद्यार्थियों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

विद्यालयों के पास ऐसे हालात होने से अभिभावकों में बच्चों के स्वास्थ्य को लेकर चिंता बनी रहती है। इस स्थान पर मक्खी-मच्छरों से बुरा हाल है। कचरे व गंदगी का ढेर लगा रहता है। मुख्य द्वार स्थित नाला भी खुला पड़ा है। आज इस स्कूल के बच्चे गंदगी व टूटे-फूटे कमरे में पढ़ने को मजबूर है। स्कूल के बाहर गंदगी का अंबार लगा हुआ है। नाली का पानी ओवरफ्लो होकर स्कूल के बगल में जमा हो गया है।

गंदगी ऐसी कि स्कूल से सटी खाली जगह में कीचड़ बना हुआ है। उसी कीचड़ में पूरे दिन जानवर लोटा करते हैं। पूरे टाइम बदबू ऐसी आती है कि वहां कोई भी व्यक्ति थोड़ी देर तक खड़ा नहीं हो सकता है। ऐसे में उन मासूम बच्चों को पूरे टाइम स्कूल में गंदगी व बदबू में पढ़ना पड़ रहा है। इस वजह से बच्चों को कई तरह की बीमारी होने का खतरा बना रहता है। सरकार एक तरफ तो स्वच्छता अभियान चलाकर वाह-वाही लूट रही है। वहीं, दूसरी ओर कस्बा सरधना में हालात विपरीत हैं।

कालंद रोड स्थित बीआरसी परिसर में प्राथमिक विद्यालय कदीम है। स्कूल के छात्र-छात्राएं दूषित वातावरण में मजबूरन शिक्षा ग्रहण कर रहे हैं। स्कूल के मुख्य दरवाजे के पास कचरा व गंदगी का ढेर लगा हुआ है। स्कूल के सामने रोड से जब कोई राहगीर गुजरता तो इतनी बदबू आती है कि उसे अपनी नाक बंद करके निकलना पड़ता है तथा कस्बा के जनप्रतिनिधियों को कोसता है।

गंदगी का आलम होने की वजह से नौनिहालों पर बीमारियों का खतरा मंडराता रहता है। सरकार ने स्वच्छ भारत मिशन चला रखा है, लेकिन गंदगी की साफ-सफाई नहीं रहने से स्वच्छ भारत मिशन की धज्जियां उड़ती नजर आ रही हैं। बीआरसी परिसर में बच्चे गंदगी में शिक्षा ग्रहण करने को मजबूर हैं। वर्तमान में परिसर में चारों ओर गंदगी पसरी हुई है। ऐसे में शिक्षकों और छात्रों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

विद्यालय परिसर में लगा गोबर का ढेर

कालंद रोड स्थित बीआरसी परिसर में प्राथमिक विद्यालय कदीम है। बीआरसी का परिसर काफी बड़ा है। परिसर में बीआरसी दफ्तर के अलाव प्राथमिक विद्यालय कदीम, उर्दू माध्यमिक व कन्या उच्च प्राथमिक विद्यालय भी है। परिसर के बीच से एक बड़ा नाला गुजर रहा है।

नाले में डेयरी संचालक गोबर बहाते हैं। पालिका द्वारा नाले की सफाई तो कराई जाती है। मगर नाले से निकला गोबर का ढेर परिसर में ही लगा दिया जाता है। सफाईकर्मी इस गोबर को उठाने की जहमत नहीं समझते। यानी परिसर में चारों ओर गंदगी पसरी रहती है। ऐसे में बच्चों को मजबूरन गंदगी में शिक्षा ग्रहण करनी पड़ रही है। जिसके चलते शिक्षकों और बच्चों को काफी परेशानी उठानी पड़ती है। इतना ही नहीं कुछ लोग परिसर में अपने पशु भी बांध देते हैं। इस संबंध में एबीएसए लक्ष्मीकांत का कहना है कि परिसर में सफाई व्यवस्था दुरुस्त कराई जाएगी।

विद्यालय के पास बना कूड़ाघर

कालंद रोड स्थित बीआरसी परिसर में प्राथमिक विद्यालय कदीम के विद्यालय का हाल भी कुछ ऐसा ही है। यहां पर विद्यालय की चारदीवारी के किनारे गंदगी पड़ी है। इस विद्यालय के नजदीक एक कूड़ाघर तो है ही, कुछ ही दूरी पर गंदगी का ढेर लगा है, जो बीमारियों को दावत दे रहा है। इस स्थान पर कचरा व जलभराव लगातार होने से मच्छर पनप रहे हैं। ऐसे में बीमारियों के फैलने की आशंका और बढ़ गई है। गंदगी के चलते यहां सांस लेना भी दूभर हो जाता है। इतना ही नहीं कुछ लोगों ने परिसर में पशु बांधकर कब्जे जमा रखे हैं।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
1
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Leave a Reply

- Advertisment -spot_img
- Advertisment -
- Advertisment -

Most Popular

- Advertisment -
- Advertisment -spot_img
- Advertisment -

Recent Comments