Thursday, October 21, 2021
- Advertisement -spot_imgspot_imgspot_imgspot_img
- Advertisement -spot_imgspot_imgspot_imgspot_img
HomeUttar Pradesh NewsMeerutरजिस्ट्रेशन खुलने के बाद भी प्राइवेट कॉलेजों की राह नहीं आसान

रजिस्ट्रेशन खुलने के बाद भी प्राइवेट कॉलेजों की राह नहीं आसान

- Advertisement -
  • सीट भरने के लिए कॉलेज दे रहे लुभावने आफर

जनवाणी संवाददाता |

मेरठ: चौधरी चरण सिंह विवि व उससे संबंधित मेरठ व सहारनपुर मंडल के कॉलेजों की रिक्त सीटों को भरने के लिए विवि ने दूसरी बार स्नातक प्रथम वर्ष में प्रवेश को लेकर पंजीकरण पोर्टल बेशक खोल दिया हो,लेकिन सेल्फ फाइनेंस कॉलेजों में प्रवेश की राह आसान नहीं है।

क्योंकि कोविड-19 के चलते इस वर्ष छात्र-छात्राएं पंजीकरण में रुचि नहीं ले रहे हैं, जिसके चलते एडेड कॉलेजों की तो लगभग सीटें फुल हो चुकी हैं, लेकिन सेल्फ फाइनेंस कॉलेजों की सीटें खाली हैं, जबकि स्नातक प्रथम वर्ष की प्रवेश प्रक्रिया को चलते चार माह से अधिक का समय हो गया है। विवि में दो मेरिट और दो ओपन मेरिट जारी होने के बाद भी अभी तक एक लाख से अधिक सीटें खाली है। पंजीकरण सात दिसंबर तक चलेंगे। सूत्रों की माने तो विवि की ओर से तीसरी ओपन मेरिट 8 को जारी की जा सकती है।

पंजीकरण कराते समय छात्रों को आॅनलाइन फार्म में कॉॅलेज व कोर्स नहीं भरना है। जिन छात्रों ने प्रवेश के लिए पंजीकरण नहीं कराया हैं वह सात दिसंबर तक करा सकते है। एडेड कॉलेजों में सभी प्रमुख विषयों की सीटें लगभग भर चुकी है। सेल्फ फाइनेंस कॉलेजों में सीटें अभी भी रिक्त है। विवि के अंतर्गत कॉलेजों में यूजी ट्रेडिशनल और प्रोफेशनल की कुल मिलाकर 2,07,089 सीटें है। इनमें से दूसरी ओपन मेरिट से 1,00,183 सीटों पर प्रवेश हो चुके है।

विवि से संबंधित कॉलेजों में ट्रेडिशनल और प्रोफेशनल कोर्सो की कुल 1,07,079 सीटें रिक्त है। वहीं विवि के बीकॉम आॅनर्स में अभी तक 139 के करीब दाखिलें हुए हैं,जबकि 160 सीटें है। 56 सीटों पर अभी दाखिले होने बाकी है। बीए हिंदी आॅनर्स की 40 सीटें है जिनपर महज 6 प्रवेश हुÞए है।

पीजी में कैंपस कोर्स की बढ़ रही डिमांड

यूजी हो या फिर पीजी छात्र-छात्राओं का रुझान कॉलेजों की बजाए कैंपस की ओर अधिक है। ऐसे में पीजी में प्रवेश लेने वाले छात्र-छात्राएं कैंपस कोर्सो में अधिक रुचि दिखा रहे है। यूजी में पंजीकरण कम होने की वजह से सीटें नहीं भर पा रही हैं,लेकिन पीजी में सीटों के चार से पांच गुना पंजीकरण हो चुके है। तीन वर्षीय एलएलबी में अब तक सबसे ज्यादा 27,660 विद्यार्थियों ने आवेदन किए है। वहीं एमए में 14541 और एमए सीबीसीएस कैंपस के लिए 287 छात्र-छात्राओं ने आवेदन किए है।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Leave a Reply

- Advertisment -spot_imgspot_imgspot_imgspot_img

Most Popular

- Advertisment -spot_img

Recent Comments