Saturday, June 12, 2021
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh NewsSaharanpurचिलकाना-पठेड़ में यमुना की कोख छलनी कर रहीं जेसीबी मशीनें

चिलकाना-पठेड़ में यमुना की कोख छलनी कर रहीं जेसीबी मशीनें

- Advertisement -
0
  • आल्हनपुर और सौंधेबांस घाट पर जेसीबी मशीनों से हो रहा अवैध खनन
  • माफिया को अफसरों का नहीं खौफ, पुलिस पर लगा है मिली भगत का आरोप

वरिष्ठ संवाददाता |

सहारनपुर: एनजीटी के आदेशों को ठेंगा दिखाते हुए खनन माफिया ने चिलकाना क्षेत्र में आल्हनपुर, सोंधेबांस समेत कुछ अन्य घाटों पर अंधेरगर्दी मचा रखी है। सारे नियम-कायदों को ताख पर रखकर माफिया जेसीबी मशीनों से यमुना की कोख को छलनी कर रहे हैं।

यहां बड़े पैमाने पर रेत, बजरी, पत्थर और कोरसेंट का खनन व परिवहन किया जा रहा है। पुलिस है कि हाथ पर हाथ धरे बैठी है और आंख मूंदकर सब कुछ होने दिया जा रहा है। दरअस्ल, पुलिस की भूमिका भी संदिग्ध बताई जा रही है। परिवहन विभाग भी कोई कड़ी कार्रवाई अमल में नहीं ला रहा है।

बता दें कि बेहट और मिर्जापुर के अलावा सहारनुर जनपद में चिलकाना और सरसावा क्षेत्र में बड़े पैमाने पर अवैध खनन व परिवहन किया जाता रहा है। इन दिनों चिलकाना क्षेत्र काफी बदनाम हो चुका है। उसकी वजह ये है कि खनन माफिया यहां पर यमुना की कोख छलनी कर रहे हैं।

एनजीटी के आदेशों को धता बताकर खनन माफिया पुलिस की मिलीभगत से यमुना का सीना छलनी कर रहे। सोंधेबांस और आल्हनपुर घाट पर जेसीबी मशीनों से यमुना नदी के बीच में बड़े पैमाने पर कई किलोमीटर तक खनन किया जा रहा है। ट्रकों, डम्परों आदि वाहनों में ओवर लोड भरकर रोजाना रात-दिन बडे पैमाने पर अवैध खनन किया जा रहा है। इससे प्रदेश के राजस्व विभाग को करोड़ों रुपयों की हानि हो रही है।

जानकारों की मानें तो यूपी में खनन पर रोक होने के कारण कुछ बडे खनन माफियाओं ने यमुना नदी के आसपास के भोले भाले किसानों को या फिर ऐसे कुछ किसान जिनकी जमीन बस कागजों पर यमुना नदी के आसपास है, उनके नाम पर बालू हटाने का पट्टा लेकर यमुना की कोख बंध्या कर रहे हैं।

किसानों की जमीन कहां है, उसका पता खुद किसान को भी नहीं है। किसानों को लालच देकर अपने इस अवैध खनन के कारोबार में कुछ प्रतिशत की पत्ती तय कर इस काले कारनामे को अंजाम दिया जा रहा है। रात का आलम ये होता है कि यमुना किनारे जहां पर खनन कराया जा रहा है, वहां माफिया के गुर्गों की गाड़ियां घूमती रहती हैं। इन गाड़ियों में असलाहदारी गुंडे सवार रहते हैं।

सरसावा, नकुड़, बहेट की ओर अवैध खनन के इन ओवरलोड वाहनों को रोजाना आता-जाता देखा जा सकता है। कुछ दिनों पहले एसडीएम बेहट दीप्ति देव सिंह द्वारा छापामारी कर चिलकाना ,पठेड़ क्षेत्र से अवैध खनन के भरे ग्यारह ओवरलोड वाहनों को पकड़ा गया था। लेकिन अब फिर से अंधेरगर्दी मची है। इस संबंध में खान अधिकारी आशीष का कहना है कि अवैध खनन नहीं होने दिया जाएगा।

What’s your Reaction?
+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

+1
0

- Advertisement -

Leave a Reply

- Advertisment -spot_img

Most Popular

- Advertisment -

Recent Comments