Sunday, July 21, 2024
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh Newsलखनऊ / आस-पासप्रदेश की सीमा में प्रवेश करने वाले मुख्य मार्गों पर बनाये जायेंगे...

प्रदेश की सीमा में प्रवेश करने वाले मुख्य मार्गों पर बनाये जायेंगे शानदार गेट

- Advertisement -

जनवाणी ब्यूरो |

लखनऊ: प्रदेश के पर्यटन एवं संस्कृति मंत्री जयवीर सिंह ने कहा कि प्रदेश की सीमा में प्रवेश करने वाले मुख्य मार्गों पर शानदार गेट बनाये जायेंगे। इसका निर्माण लोक निर्माण विभाग द्वारा कराया जायेगा। इसके समीप ही एक समस्त आधुनिक सुविधाओं से युक्त कॉम्प्लेक्स बनाया जायेगा, जिसमें होटल के अलावा स्थानीय एवं प्रदेश के विशिष्ट उत्पादों को रखा जायेगा। इसके अलावा ओडीओपी उत्पादों को भी प्रदर्शित किया जायेगा। इस काम्प्लेक्स में प्रदेश के प्रमुख पर्यटन स्थलों के बारे में जानकारी के लिए पर्यटन केन्द्र की भी स्थापना होगी। इसके अतिरिक्त इसके समीप ही पेट्रोल पम्प एवं खानपान आदि की भी सुविधा उपलब्ध होगी।

पर्यटन मंत्री मंगलवार को यहां पर्यटन भवन में पिछली बैठकों में लिए गए निर्णय के क्रियान्वयन की अद्यतन स्थिति, जनपदों में पर्यटन विकास के प्रस्तावों की स्वीकृति तथा राज्य सेक्टर के अंतर्गत उत्तर प्रदेश राज्य पर्यटन विकास निगम लिमिटेड को कार्यदायी संस्था के रूप में आवंटित कार्यों की स्थिति आदि की समीक्षा कर रहे थे। उन्होंने मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में विगत 9 जुलाई को सम्पन्न हुई बैठक में पर्यटन विभाग की प्रस्तावित परियोजनाओं के संबंध में कार्यवृत्त समय से तैयार न किये जाने पर अप्रसंन्नता व्यक्त करते हुए भविष्य में विलम्ब न किये जाने के लिए ताकीद की।

जयवीर सिंह ने बैठक में विभागीय अधिकारियों को निर्देश दिये कि नवगठित जिला पर्यटन एवं संस्कृति परिषद द्वारा किये जाने वाले कार्यों में तेजी लाने के लिए तथा जनपद स्तर पर पर्यटन विकास हेतु जुड़े कार्यों की स्वीकृति तथा क्रियान्वयन आदि के लिए सभी 75 जनपदों के जिलाधिकारियों को एजेण्डा भेजते हुए बैठक के लिए तिथि निर्धारित की जाय। इसके साथ ही युवा पर्यटन तथा राज्य योजना के अंतर्गत कराये जाने वाले कार्यों आदि को एजेण्डे में शामिल करने के लिए निर्देश दिए। उन्होंने परिषद को क्रियाशील बनाने के लिए मुख्य सचिव की ओर विस्तृत शासनादेश जनपदों को भेजे जाने की भी हिदायत दी।

पर्यटन मंत्री ने कहा कि नेपाल से सटे 7 जनपदों में सांस्कृतिक आदान-प्रदान के लिए कार्यक्रम तैयार किये जाएं। इन जनपदों की सांस्कृतिक टीमें नेपाल में कार्यक्रम प्रस्तुत करें तथा नेपाल की टीमें इन 7 जनपदों में कार्यक्रम प्रस्तुत करें। इससे सांस्कृतिक आदान-प्रदान होगा। इसके साथ ही दोनों देशों की लोक कलाओं को संरक्षित करने एवं स्थानीय लोक कलाकारों को जोड़ने का अवसर भी प्राप्त होगा।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
1
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Recent Comments