Saturday, October 23, 2021
- Advertisement -spot_imgspot_imgspot_imgspot_img
- Advertisement -spot_imgspot_imgspot_imgspot_img
HomeUttar Pradesh NewsMeerutबाहरी गाड़ियों के चालान पर राज्य मंत्री को ऐतराज

बाहरी गाड़ियों के चालान पर राज्य मंत्री को ऐतराज

- Advertisement -

जनवाणी संवाददाता |

मेरठ: गैर राज्यों की गाड़ियों की चेकिंग के नाम पर उत्पीड़न का मामला गरमा गया है। प्रदेश के राज्यमंत्री संजीव सिक्का ने भी ट्रैफिक पुलिस द्वारा की जा रही वसूली के मामले की शिकायत एसपी ट्रैफिक जितेन्द्र कुमार श्रीवास्तव से की है। आरोप है कि गैर राज्यों से जो भी गाड़ी आती है, उनकी टैंक चौराहे पर चेकिंग की जाती है।

चेकिंग के नाम पर वसूली करने से भी पुलिस कर्मी पीछे नहीं हट रहे हैं। एसपी ट्रैफिक ने पूरे मामले की जांच कराने की बात कही है। उधर, भाजपा नेता इस तरह के रवैये से खास नाराज है तथा इसकी शिकायत आला पुलिस अफसरों से भी की।

दरअसल, राज्यमंत्री संजीव सिक्का को शिकायत मिली कि गैर राज्यों से आने वाली गाड़ियों की ट्रैफिक पुलिस कर्मी टैंक चौराहे पर चेकिंग करते हैं। कागज की कमी है तो फिर वसूली की जाती है। पिछले दिनों संजीव सिक्का अपने साथी की प्राइवेट कार में बैठकर आये थे, ये गाड़ी भी उत्तराखंड की थी। इसको भी ट्रैफिक पुलिस कर्मियों ने रोक लिया।

यही नहीं, जब पुलिस कर्मियों ने संजीव सिक्का को पहचान लिया तो कहा कि साहब! मास्क नहीं लगाया है। इस वजह से कार को रोका गया था। टैंक चौराहे पर ही नहीं, बल्कि ट्रैफिक पुलिस का रवैया इतना खराब हो गया है कि जगह-जगह बनाये गये चेकिंग प्वांइट पर गैर राज्यों के वाहनों को रोककर खड़े रहते हैं, जिससे जाम भी लगा रहता है।

सरधना बाइपास, मोदीपुरम, परतापुर चौराहा, बागपत बाइपास, गढ़ रोड, नानू गंगनहर समेत ऐसे प्वांइट ट्रैफिक पुलिस के है, जहां पर बाहरी राज्या व जनपदों की कार को रोककर चेकिंग के नाम पर उत्पीड़न किया जाता है। एक-दो नहीं, बल्कि सैकड़ों वाहनों को हर रोज रोका जाता है।

इसकी शिकायत भाजपा नेता भी कर रहे हैं तथा विपक्षी दलों के नेता भी, मगर ट्रैफिक पुलिस वसूली अभियान से रूक नहीं रही है। हालांकि बीच में गैर राज्यों की गाड़ियों को रोकना बंद कर दिया गया था, तब एडीजी की फटकार लगी थी, लेकिन फिर से पुराने ढर्रे पर ट्रैफिक पुलिस आ गई है। डीजीपी के आदेश है कि गैर राज्यों के वाहनों को चेकिंग के नाम पर परेशान नहीं किया जाए। फिर भी ट्रैफिक पुलिस सुधर नहीं रही है।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Leave a Reply

- Advertisment -spot_imgspot_imgspot_imgspot_img

Most Popular

- Advertisment -spot_img

Recent Comments