Thursday, October 21, 2021
- Advertisement -spot_imgspot_imgspot_imgspot_img
- Advertisement -spot_imgspot_imgspot_imgspot_img
HomeUttar Pradesh NewsMeerutकुत्तों का खाना न बनाने पर बहन की हत्या

कुत्तों का खाना न बनाने पर बहन की हत्या

- Advertisement -
  • मर्डर करने के बाद पुलिस को फोन करके बुलाया
  • रोज सड़क पर घूमने वाले कुत्तों को खिलाया जाना था खाना

जनवाणी संवाददाता |

मेरठ: रिश्तों का खून करने में लोग जरा भी देर नहीं लगाते हैं। छोटी-छोटी बात पर जान लेना ऐसे लोगों के लिये मामूली बात हो गई है। भावनपुर थानांतर्गत गंगानगर स्थित कैलाश वाटिका में रहने वाली एक युवती की उसके सगे भाई ने गोली मारकर हत्या कर दी।

हत्या का कारण युवती के द्वारा कुत्तों के लिये खाना बनाने से मना करना बताया जा रहा है। हत्यारोपी ने बहन की हत्या करने के बाद पुलिस को फोन करके बुलाया और खुद को गिरफ्तार करवा दिया। पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिये भेज दिया है।

गंगानगर में गंगा सागर के पास स्थित कैलाश वाटिका में स्व. सुरेन्द्र का परिवार रहता है। उसके परिवार में दो बेटे और तीन बेटियां है। सुरेन्द्र का दूसरे नंबर के बेटे आशीष का कुत्तों का बिजनेस है। फिलहाल वो सड़क पर घूम रहे कुत्तों को आजकल खाना खिला रहा था।

कुत्तों का बिजनेस काफी दिनों से करता आ रहा है। पुलिस ने बताया कि सोमवार की रात आठ बजे के करीब आशीष ने अपनी बहन पारुल से कहा कि वो कुत्तो के लिये रोटी बना दे। इस पर पारुल ने मना कर दिया। इसको लेकर भाई और बहन में कहासुनी हो गई।

बात बढ़ने पर आशीष गाली गलौज करता हुआ घर के अंदर गया औ तमंचा निकाल कर लाया और बहन के माथे से सटाकर फायर कर दिया। गोली लगते ही पारुल का भेजा उड़ गया और वो लहूलुहान होकर जमीन पर गिर पड़ी। बेटी की हत्या होते ही आशीष की मां और घर वालों ने आशीष से कहा कि वो घर से भाग जाए, लेकिन आशीष घर से नहीं गया और बोला जब उसने पारुल की हत्या की है।

फिर भागने का क्या मतलब है। हत्यारोपी आशीष ने गंगानगर थाने फोन किया और पुलिस से कहा कि उसने अपनी बहन की हत्या कर दी है और घर आकर पकड़ लें। बाद में पता चला कि घटनास्थल भावनपुर लगता है। बाद में एसपी देहात केशव कुमार और सीओ सदर देहात ब्रजेश सिंह भी मौके पर गए और परिजनों से बात की और आरोपी से पूछताछ की।

इसके बाद भावनपुर एसओ रघुराज सिंह ने बताया कि आरोपी को पकड़ लिया गया है और हत्या का कारण पारुल का खाना बनाने से मना करना था। आरोपी आशीष साइको प्रवृत्ति का बताया जा रहा है और बात-बात पर गुस्सा करना उसका शगल है।

वहीं, बेटी की हत्या से परिवार में कोहराम मचा हुआ है। परिवार की दो बेटियां और एक बेटा अपने हत्यारोपी भाई को कोसन में लगे हुए थे। वहीं, भावनपुर थाने में आरोपी आशीष शांत बैठा हुआ था और उसके चेहरे से यह कतई नहीं लग रहा था कि उसे अपनी बहन की हत्या का कोई पछतावा हो।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Leave a Reply

- Advertisment -spot_imgspot_imgspot_imgspot_img

Most Popular

- Advertisment -spot_img

Recent Comments