Wednesday, July 24, 2024
- Advertisement -
HomeUttar Pradesh Newsलखनऊ / आस-पास"शिक्षा क्षेत्र से निर्यात को प्रोत्साहन" विषय पर बुद्धिजीवियों ने रखे विचार

“शिक्षा क्षेत्र से निर्यात को प्रोत्साहन” विषय पर बुद्धिजीवियों ने रखे विचार

- Advertisement -

जनवाणी ब्यूरो |

लखनऊ: अवस्थापना व औद्योगिक विकास मंत्री नन्द गोपाल गुप्ता नन्दी ने प्रदेश की अर्थव्यवस्था को 2025 तक 1 ट्रिलियन डॉलर बनाये जाने के लक्ष्य प्राप्ति में निर्यात क्षेत्र की उत्तरोत्तर वृद्धि व योगदान को सुनिश्चित करने के लिए ठोस रणनीति बनाये जाने के निर्देश दिए। नन्दी शिक्षा क्षेत्र से निर्यात को प्रोत्साहन विषय पर एक होटल में आयोजित कार्यशाला में शिक्षा के क्षेत्र के प्रख्यात स्टेकहोल्डर्स को सम्बोधित कर रहे थे।

इस अवसर पर मंत्री ने कहा कि गर्व का विषय है कि हमारा उत्तर प्रदेश विनिर्माण व निर्यात के क्षेत्र में अपनी विशिष्ट पहचान स्थापित करने में सफल रहा है। देश से होने वाले निर्यात में 5 प्रतिशत की हिस्सेदारी के साथ यह देश का पांचवा सबसे बडा निर्यातक राज्य है। विगत 5 वर्षों में प्रदेश का निर्यात 88 हजार करोड़ से बढ़कर 156 लाख करोड़ हो गया है। निर्यात में हुई यह वृद्धि अभूतपूर्व है तथा इसे निरन्तर बढ़ाये जाने के लिए प्रदेश सरकार कृतसंकल्पित है।

औद्योगिक विकास मंत्री ने कहा कि शासन द्वारा समय-समय पर यह भी महसूस किया गया है कि विनिर्माण के साथ सेवा क्षेत्र में होने वाले निर्यात को सर्वाेच्च प्रथमिकता के आधार पर प्रोत्साहन दिया जाना निर्यात में लक्षित वृद्धि प्राप्त करने के लिए अपरिहार्य है और यही कारण है कि फरवरी 2018 में केन्द्र सरकार द्वारा सेवा क्षेत्र से होने वाले निर्यात को प्रोत्साहन देने के लिए आरम्भ की गई चौम्पियन सर्विस सेक्टर स्कीम के पांच सेक्टर क्रमशः मेडिकल वैल्यू ट्रैवल, पर्यटन, शिक्षा, आईटी-आईटीईएस व लॉजिस्टिक्स प्रदेश सरकार द्वारा प्रथम चरण में चयनित किये गये हैं तथा जिनके स्टेकहोल्डर्स से निरन्तर संवाद स्थापित करते हुए ठोस रणनीति निर्धारण व कार्यान्वयन की कार्यवाही गतिमान है।

उन्होंने कहा कि प्रदेश में विदेशी छात्रों को अध्ययन के लिए आकर्षित करने की पर्याप्त सामर्थ्य विद्यमान है। आवश्यकता है, तो इस सामर्थ्य को छात्रों की महत्वकांक्षाओं, अपेक्षाओं व वित्तीय क्षमताओं के अनुकूल बनाये जाने की। इस अवसर पर मंत्री ने कार्यशाला में उपस्थित प्रख्यात शिक्षाविदों को सम्बोधित करते हुए कहा कि उनके बहुमूल्य सुझावों को नोट किया गया है तथा उनको पूर्णतः समाहित करते हुए शिक्षा के क्षेत्र मे विदेशी छात्र को प्रदेश स्थित शैक्षिक संस्थानों में अध्ययन हेतु प्रेरित करने के लिए एक ठोस रणनीति बनाई व कार्यान्वित की जाएगी।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
1
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Recent Comments