Sunday, July 21, 2024
- Advertisement -
HomeNational Newsश्रीबांकेबिहारी मंदिर हादसे की जांच टीम आज पहुंचेगी वृन्दावन

श्रीबांकेबिहारी मंदिर हादसे की जांच टीम आज पहुंचेगी वृन्दावन

- Advertisement -

जनवाणी ब्यूरो |

नई दिल्ली: मथुरा के वृंदावन में श्रीकृष्ण जन्माष्टमी के अवसर पर ठाकुर बांकेबिहारी मंदिर में मंगला आरती के समय भगदड़ से दो श्रद्धालुओं की मौत हो गई। जिस वक्त ठाकुर बांकेबिहारी मंदिर प्रांगण में यह हादसा हुआ उस वक्त जनपद के तीन बड़े अधिकारी डीएम, एसएसपी और नगर आयुक्त मंदिर की ऊपरी मंजिल पर मौजूद थे। इस घटना को लेकर मंदिर के सेवायत लगातार सवाल उठ रहे हैं, तो वहीं मुख्यमंत्री योगा आदित्यनाथ ने पूरे प्रकरण की जांच के लिए कमेटी गठित कर दी है। ये कमेटी आज वृंदावन आ सकती है।

ठाकुर बांकेबिहारी मंदिर में हुए हादसे के बाद मुख्यमंत्री द्वारा गठित की गई जांच टीम सोमवार को वृंदावन आ सकती है। बताया जा रहा है कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पूर्व डीजीपी सुलखान सिंह की अध्यक्षता में टीम गठित की है, जिसमें शामिल सदस्य अलीगढ़ के कमिश्नर गौरव दयाल वृंदावन बांकेबिहारी मंदिर आकर जांच कर सकते हैं। जांच समिति 15 दिन में अपनी रिपोर्ट सौंपेगी।

ठाकुर बांके बिहारी मंदिर में मंगला आरती के दौरान भगदड़ में हुई दो श्रद्धालुओं की मौत के बाद मुख्यमंत्री के निर्देश पर रविवार की देर शाम प्रदेश के गन्ना विकास एवं चीनी मिल मंत्री चौधरी लक्ष्मीनारायण घटनास्थल पर पहुंचे। उन्होंने मौके का निरीक्षण कर वहां के सेवायतों से मामले की पूरी जानकारी ली। हादसा कैसे हुआ, सीसीटीवी फुटेज भी देखे। कंट्रोल रूम का निरीक्षण कर देखा कि किस तरह से पूरे मंदिर परिसर की निगरानी की जा सकती है। उन्होंने कहा कि श्रीबांकेबिहारी मंदिर के लिए जल्द ही कॉरिडोर बनेगा और एक साथ 60 से 70 हजार श्रद्धालु दर्शन कर सकेंगे।

उन्होंने कहा कि भविष्य में इस तरह की घटनाओं की पुनरावृत्ति न हो, इसके लिए आवश्यक कदम उठाएं जाएंगे। यमुना से लेकर श्रीबांकेबिहारी मंदिर तक काशी विश्वनाथ से भी बड़ा कॉरिडोर बनाने की सरकारी की योजना है। माना कि बिहारीजी का आंगन काफी छोटा है। गोस्वामियों व प्रशासन के सुझाव पर आंगन की क्षमता करीब पांच हजार श्रद्धालु एक साथ दर्शन करने को होगी। इस संदर्भ में प्रदेश के मुख्यमंत्री से कैबिनेट बैठक में दो बार बात भी हो चुकी है।

गन्ना विकास एवं चीनी मिल मंत्री चौधरी लक्ष्मीनारायण ने बताया कि वृंदावन की पतली गलियां हैं। प्राचीन स्वरूप को बनाए रखने के साथ ही विकास किया जाएगा। घटना के बाद से ही वह पल-पल के हालातों का जायजा अधिकारियों से ले रहे हैं। हादसे में मृत श्रद्धालुओं के प्रति शोक व्यक्त करते हुए कहा कि हादसे की जांच के लिए सरकार ने कमेटी बनाई है। जो भी दोषी होगा, उसके खिलाफ कार्रवाई भी की जाएगी।

गोस्वामियों व प्रशासनिक स्तर पर वार्ता करके पूरी मामले की जानकारी सीएम योगी को सुझाव के साथ देंगे। उन्होंने कहा कि इस बार जन्माष्टमी पर यहां पर करीब 50 लाख श्रद्धालु आए हैं। उन्होंने माना कि घटना के वक्त मौके पर डीएम नवनीत सिंह चहल व एसएसपी अभिषेक यादव समेत अन्य अधिकारी थे, फिर भी हादसा कैसे हुआ, इसकी जांच सरकार द्वारा गठित कमेटी करेगी।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
1
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Recent Comments