Saturday, October 23, 2021
- Advertisement -spot_imgspot_imgspot_imgspot_img
- Advertisement -spot_imgspot_imgspot_imgspot_img
HomeUttar Pradesh NewsBaghpatमुकदमा वापस लेने के पीड़ितों पर दबाव बना रहे हैं हत्यारोपी

मुकदमा वापस लेने के पीड़ितों पर दबाव बना रहे हैं हत्यारोपी

- Advertisement -
  • मुकदमा वापस ने लेने पर दे रहे हैं परिणाम भुगतने की धमकी
  • पीड़ितों ने पुलिस पर भी लगाया परेशान करने का आरोप

जनवाणी संवाददाता |

बागपत: थाना रमाला क्षेत्र के किरठल के इरशाद अली हत्याकांड के आरोपियों के विरूद्ध पुलिस ने अभी कोई कार्रवाई नहीं की है और वह खुले घूम रहे है। आरोप है कि आरोपी पीड़ितों व उनके रिश्तेदारों पर मुकदमा वापस लेने के लिए दबाव बना रहे हैं और मुकदमा वापस न लेने पर पीड़ितों को परिणाम भुगतने की धमकी दे रहे हैं।

पीड़ितों का आरोप है कि पुलिस आरोपियों के विरूद्ध कार्रवाई करने के बजाय उल्टा उन्हें ही परेशान कर रही है। पीड़ितों ने शनिवार को एसपी कार्यालय पर प्रदर्शन किया और आरोपियों के विरूद्ध कार्रवाई की मांग को लेकर एसपी कार्यालय में एक प्रार्थना पत्र दिया।

गांप किरठल में गत 12 दिसम्बर को खेत में गन्ना छील रहे किसान इरशाद की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। इस संबंध में पीड़ित के पुत्र ने हिस्ट्रीशीटर धर्मेंद्र किरठल व उसके साथी सुन्हैड़ा निवासी सतेंद्र मुखिया व सिसौली निावसी सुभाष उर्फ छोटू समेत चार के विरूद्ध थाना रमाला में मुकदमा दर्ज कराया था।

पीड़ितों का आरोप है पुलिस ने अभी तक आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए कोई कार्रवाई नहीं की है और वह गांव के जंगल में ही घूम रहे हैं। पीड़ितों का आरोप है कि आरोपी मुकदमा वापस लेने के लिए उन्हें व उनके रिश्तेदारों पर दबाव बना रहे हैं और मुकदमा वापस न लेने पर परिणाम भुगतने की धमकी दे रहे हैं।

इससे मृतक का परिवार भयभीत है और वह अपने खेतों में भी नहीं जा रहे हैं। आरोप है कि पुलिस भी आरोपियों के विरूद्ध कोई कार्रवाई करने के बजाय उल्टा पीड़ितों को ही परेशान कर रही है। शनिवार को आरोपियों के विरूद्ध कार्रवाई की मांग को लेकर एसपी आफिस पर प्रदर्शन किया।

इस संबंध में एसपी कार्यालय पर एक प्रार्थना पत्र दिया। एसपी के कार्यालय में मौजूद न होने के कारण पीड़ित शाम तक एसपी कार्यालय के बाहर ही धरना देकर कर बैठे रहे। इस अवसर पर सद्दाम हुसैन, बासी, नत्थू, पप्पू, ग्यासा, मौसमअली व उस्मान आदि दर्जनों ग्रामीण मौजूद थे।

What’s your Reaction?
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
- Advertisement -

Leave a Reply

- Advertisment -spot_imgspot_imgspot_imgspot_img

Most Popular

- Advertisment -spot_img

Recent Comments